पूनम पांडे

टीम इंडिया और न्यूजीलैंड के बीच कल से वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल मुकाबला खेला जाएगा. इस मुकाबले से ठीक पहले हम अपने इस लेख के माध्यम से आपको उन तीन कारणों के बारे में बताने जा रहे हैं, जनके चलते टीम इंडिया का वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में जीतना मुश्किल है. एक तरह से अगर हम ये कहें कि इन कारणों के चलते टीम इंडिया की फाइनल में जीत पक्की है तो ये गलत नहीं होगा. तो चलिए नजर डालते हैं उन तीन कारणों पर.

1- चेतेश्वर पुजारा के रूप में टीम इंडिया के पास मजबूत डिफेंस

टीम इंडिया

चेतेश्वर पुजारा को भले ही अपनी धीमी बल्लेबाजी के लिए कई बार आलोचनाओं का सामना करना पड़ा हो लेकिन उनका यही डिफेंस टीम इंडिया की ताकत है. न्यूजीलैंड के पास चेतेश्वर पुजारा जैसा कोई भी बल्लेबाज नहीं है, जो घंटों तक क्रीज पर खड़ा होकर विरोधी टीम के गेंदबाज को थका सके.

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर पुजारा ने अपनी इसी मजबूत डिफेंस के बल पर कमिंस, हेजवुड और स्ट्रार्क जैसे तेज गेंदबाजों को खूब थकाया था. डिफेंस अप्रोच के अलावा पुजारा की बल्लेबाजी तकनीक भी बेहद शानदार है. उन्हें टीम इंडिया की दूसरी दीवार भी कहा जाता है. जो काम कभी राहुल द्रविड़ करते थे वो आज पुजारा कर रहे हैं.

2-अश्विन-जडेजा के रूप में टीम इंडिया के पास हैं विश्वस्तरीय स्पिनर

टीम इंडिया

टीम इंडिया के पास आर अश्विन और रविंद्र जडेजा के रूप में दो बेहतरीन वर्ल्ड क्लास स्पिनर हैं. जबकि न्यूजीलैंड के पास सिर्फ एजाज पटेल ही हैं, जो अश्विन-जडेजा के आस-पास भी नहीं टिकते हैं. सबसे दिलचस्प बात ये है कि ये दोनों ही भारतीय खिलाड़ी बेहतरीन बल्लेबाजी भी कर सकते हैं.

साउथहैप्टन की पिच ने अगर स्पिनर्स को मदद की तो ये तय है कि अश्विन और जडेजा न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों के सामने कड़ी चुनौती पेश करेंगे. वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल मुकाबले में दोनों का ही फ्लेइंग इलेवन में खेलना बिल्कुल तय माना जा रहा है.

इंग्लैंड में केन विलियमसन का खराब रिकॉर्ड टीम इंडिया के लिए प्लस प्वाइंट

टीम इंडिया

न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन का इंग्लैंड की धरती पर रिकॉर्ड बेहद खराब रहा है. यहां पर रन बनाने के लिए कीवी कप्तान को हमेशा जूझना पड़ा है. इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में भी केन विलियमसन का बल्ला पूरी तरफ से खामोश रहा. दोनों ही पारियों में वो सस्ते में आउट हो गए थे.

इस बात में कोई दो राय नहीं कि केन विलियमसन न्यूजीलैंड के कप्तान होने के साथ-साथ विश्व के बेहतरीन बल्लेबाज हैं. लेकिन उनका इंग्लैंड के खराब प्रदर्शन कहीं ना कहीं टीम इंडिया के गेंदबाजों को मनोवैज्ञानिक बढ़त जरूर दिलाएगा.केन विलियमसन अगर फाइनल मुकाबले में प्लॉप रहते हैं तो इसका दबाव पूरी न्यूजीलैंड टीम पर पड़ेगा वहीं इसका फायदा टीम इंडिया को मिलेगा.