इस वजह से भारतीय टीम को विशाखापत्तनम एयरपोर्ट के बाहर ही रुकना पड़ा

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

विशाखापत्तनम में टीम इंडिया को एयरपोर्ट के अंदर जाने की नहीं थी अनुमति, इस वजह से लगाया गया था प्रतिबन्ध 

विशाखापत्तनम में टीम इंडिया को एयरपोर्ट के अंदर जाने की नहीं थी अनुमति, इस वजह से लगाया गया था प्रतिबन्ध

भारतीय टीम और वेस्टइंडीज के बीच पांच वनडे मैचों की सीरीज का दूसरा मैच विशाखापत्तनम में खेला गया. मैच के बाद जब टीम पुणे के लिए रवाना हो रही थी तभी विशाखापत्तनम एयरपोर्ट पर टीम को एयरपोर्ट के बाहर ही कुछ देर के लिए रुकना पड़ गया. अगला वनडे  मैच 27 अक्टूबर को पुणे में महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में खेला जाएगा.

एयरपोर्ट के बाहर रुकने की ये रही वजह 

दरअसल आंध्र प्रदेश के वाईएसआर कांग्रेस प्रमुख जगमोहन रेड्डी पर एक शख्स ने हमला कर दिया था. उनपर ये हमला उस वक्त हुआ जब वह एयरपोर्ट लाउंज में बोर्डिंग पास का इंतज़ार कर रहे थे.

विशाखापत्तनम में टीम इंडिया को एयरपोर्ट के अंदर जाने की नहीं थी अनुमति, इस वजह से लगाया गया था प्रतिबन्ध 1

इस घटना के बाद एयरपोर्ट में प्रवेश पर कड़ी निगरानी रखी जाने लगी. इसी बीच वहां पहुंची भारतीय टीम को कुछ देर के लिए बाहर ही रोक दिया और खिलाड़ियों को बस में ही इंतजार करना पड़ा. भारतीय टीम के खिलाड़ी दो बसों में एयरपोर्ट पहुंचे थे. इसके बाद जब जब स्थिति सामान्य हो गयी तभी खिलाड़ियों को फ्लाइट तक पहुँचाया गया.

विशाखापत्तनम वनडे रहा टाई

विशाखापत्तनम में खेला गया दूसरा वनडे टाई रहा. टॉस जीत कर भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 321 रन बनाए थे. इस दौरान कप्तान विराट कोहली ने नाबाद 157  रनों की पारी खेली. इस पारी से वह वनडे में सबसे तेज 10 हज़ार रन बनाने वाले पहले बल्लेबाज बने. उन्होंने ये कारनामा महज 205 पारियों में ही कर दिखाया. उनसे पहले सचिन तेंदुलकर ने ये उपलब्धि 259 पारियों में हासिल की थी.

ये भी पढ़ें – ये 4 भारतीय खिलाड़ी तोड़ सकते हैं विराट के सबसे तेज 10 हजार रनों का विश्व रिकॉर्ड

लक्ष्य का पीछा करने उतरी वेस्टइंडीज टीम शुरुआत में लड़खड़ा गयी थी मगर विकेटकीपर बल्लेबाज शाई होप और शिमरोन हेटमेयर ने अच्छी बल्लेबाजी करते हुए टीम को जीत तक पहुंचा दिया था. शाई होप ने नाबाद 123 रनों की पारी खेली.

विशाखापत्तनम में टीम इंडिया को एयरपोर्ट के अंदर जाने की नहीं थी अनुमति, इस वजह से लगाया गया था प्रतिबन्ध 2

आखिरी ओवर की आखिरी गेंद पर जीत के लिए पांच रनों की जरूरत थी होप ने चौका जड़ मैच बराबरी पर पहुंचा दिया. पहले मैच में शतक लगाने वाले हेटमेयर ने इस मैच में भी 64 गेंदों पर 94 रनों की विस्फोट पारी खेली. उन्होंने इस पारी में 7 छक्के लगाए.

ये भी पढ़ें – कोहली युग में खेलना मेरे लिए गर्व की बात: पंत

अगर आपकों हमारा आर्टिकल पसंद आया, तो प्लीज इसे लाइक करें. अपने दोस्तों तक ये खबर सबसे पहले पहुंचाने के लिए शेयर करें. साथ ही अगर आप कोई सुझाव देना चाहते हैं, तो प्लीज कमेंट करें. अगर आपने अब तक हमारा पेज लाइक नहीं किया हैं, तो कृपया अभी लाइक करें, जिससे लेटेस्ट अपडेट हम आपकों जल्दी पहुंचा सकें.

Related posts

Leave a Reply