...तो इस वजह से रवि शास्त्री की जगह कुंबले बनाये गए टीम इंडिया के कोच | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

…तो इस वजह से रवि शास्त्री की जगह कुंबले बनाये गए टीम इंडिया के कोच 

…तो इस वजह से रवि शास्त्री की जगह कुंबले बनाये गए टीम इंडिया के कोच

धर्मशाला, गुरुवार को बीसीसीआई ने टीम इंडिया के कोच का ऐलान कर दिया। अगले एक साल के लिए पूर्व टीम इंडिया के लेग स्पिनर अनिल कुंबले को यह जिम्मेदारी दी गयी है। मालूम हो कि भारतीय कोच पद के लिए 57 पूर्व खिलाडियों ने आवेदन किये थे, जिसमें से शास्त्री और कुंबले अंतिम दो तक पहुंचे।

अंतिम दो में शास्त्री और अनिल कुंबले के बीच टक्कर में सभी को लग रहा था कि बाजी शास्‍त्री मार ले जाएंगे। ऐसा इसलिए था क्‍योंकि कुंबले के पास किसी अंतरराष्‍ट्रीय टीम के कोच रहने का अनुभव नहीं था, वहीं शास्‍त्री टीम इंडिया के डायरेक्‍टर रह चुके थे और इस बीच भारत ने अच्‍छा प्रदर्शन किया था।

टीम इंडिया के कोच बनने के बाद मीडिया और तमाम सूत्रों के अनुसार कई अहम जानकारियां सामने आ रही हैं। कुछ सूत्रों की मानें तो बीसीसीआई अनिल कुंबले को कोच नहीं बनाना चा‍हती थी। वह रवि शास्‍त्री को पूर्व में किए गए बेहतर कार्य की वजह से कोच पद देना चाहती थी लेकिन कई समीकरणों की वजह से ऐसा संभव नहीं हो सका।

सूत्रों की मानें तो रवि शास्‍त्री का मौजूदा वक्‍त में टीम इंडिया के सीमित ओवरों के कप्‍तान एम एस धोनी से कथित रूप से अच्‍छा तालमेल न होने के कारण उन्‍हें इस पद से वंचित कर दिया गया। वहीं कई सूत्र ऐसा भी बता रहे हैं कि पूर्व खिलाड़ी सौरव गांगुली, सचिन तेंदुलकर और वीवीएस लक्ष्‍मण की वजह से कुंबले को कोच बनाया गया।

ये तीनों खिलाडी कभी अपने साथी खिलाड़ी रहे अनिल कुंबले के कोच बनाए जाने के पक्ष में थे तो बीसीसीआई रवि को कोच बनाना चाहती थी। हालांकि, रवि शास्‍त्री को कोच बनाने के बाद विराट और धोनी के बीच मनमुटाव की खबरें बाहर आने के भी चांसेस थे, इसी वजह से शास्‍त्री को इस पद से महरूम रहना पड़ा।

गौरतलब है कि टीम इंडिया के पूर्व डायरेक्‍टर रवि शास्‍त्री ने विराट कोहली की प्रशंसा की थी। उन्‍होंने बताया था कि भारतीय क्रिकेट टीम के भविष्‍य को देखते हुए यह सही समय है जब विराट कोहली को सभी फॉर्मेट में कप्‍तान बना दिया जाए। इसका मतलब सीधा था कि धोनी और रवि शास्‍त्री के बीच सबकुछ सही नहीं चल रहा है और कोच बनने के बाद यह विवाद और अधिक तरह से बाहर भी आ सकता था।

कुछ सूत्रों की मानें तो बीसीसीआई द्वारा रवि शास्‍त्री और सौरव, सचिन, लक्ष्‍मण द्वारा कुंबले का पक्ष लेने के कारण ही कुंबले को महज एक साल के लिए ही कोच पद दिया गया। माना जा रहा है कि एक साल के बाद कुंबले का बतौर कोच रहते हुए रिव्‍यू किया जाएगा और उसके बाद ही आगे के लिए कोच पद का चयन होगा।

इस वजह से कुंबले बनें कोच

अनिल कुंबले काफी शांत स्‍वाभाव वाले खिलाड़ी मानें जाते हैं। वे आखिरी वक्‍त तक अपना सौ प्रतिशत देने में विश्‍वास रखते हैं। ऐसे में टीम इंडिया को फाइट करके मैच खेलने की सीख मिल सकती है। कुंबले के स्‍वभाव को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि टीम इंडिया के खिलाडि़यों के बीच शायद ही कोई उन्‍हें लेकर मनमुटाव या विरोध हो।

अनिल कुंबले का क्रिकेट रिकॉर्ड बहुत ही शानदार रहा है। उन्‍होंने भारतीय क्रिकेट में सबसे अधिक विकेट लिए हैं। लेग स्पिन में माहिर कुंबले टीम इंडिया के स्पिन डिपार्टमेंट को बेहतर करने में काफी उपयोगी साबित हो सकते हैं।

भारतीय क्रिकेट टीम का कोच बनने के बाद अब रवि शास्‍त्री का दखल टीम इंडिया में लगभग खत्‍म हो जाएगा। इस वजह से विराट कोहली और एम एस धोनी के बीच कथित तौर पर चल रहा मनमुटाव भी समाप्‍त होने की संभावनाएं भी बहुत हैं।

Related posts