IPL Archives : कभी बना था इमर्जिंग प्लेयर ऑफ़ टूर्नामेंट, अब हैदराबाद पर बोझ बन रहा ये खिलाड़ी 1

2008 में भारतीय क्रिकेट में शुरु हुई फ़्रेंचाइज़ी लीग आईपीएल (IPL) अपनी शुरुआत से ही अनिश्चितताओं से भरी है. कुछ क्रिकेटरों को इस लीग ने रातों-रात स्टार बनाया है तो वहींं कुछ क्रिकेटर्स का पूरा करियर इसी लीग की वज़ह से ख़राब भी हुआ है. कई खिलाड़ी ऐसे भी रहे हैं जिनकी शुरुआत तो जबर्दस्त हुई लेकिन बाद में वो पूरी तरह फ़्लॉप रहे.

आईपीएल 2008 में कई खिलाड़ी ऐसे थे जिन्होंने अपने शानदार खेल से सबके प्रभावित किया लेकिन जैसे जैसे लीग के आगे के सीज़न्स खेले गए वैसे ही इन खिलाड़ियों के प्रदर्शन में भी गिरावट देखने को मिली है. इसी सिलसिले में हम बात करेंगे ऐसे खिलाड़ी की जो खेला तो कई आईपीएल फ़्रेंचाइज़ियों के लिए लेकिन किसी के लिए भी ज़्यादा बेहतर क्रिकेट नहीं खेल पाया.

पूरे आईपीएल करियर में महज़ 14.65 का मामूली औसत

IPL 2013

कोलकाता के 31 वर्षीय बल्लेबाज़ श्रीवत्स गोस्वामी (Shreevats Goswami) को आईपीएल 2008 (IPL 2008) के दौरान खेले गए पहले सीज़न में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की टीम ने 12 लाख रुपये में खरीदा था. उसके बाद से अब तक वो कुल 4 टीमों के लिए खेल चुके हैं. इन 4 टीमों में बैंंगलोर के अलावा कोलकाता नाइट राइडर्स, राजस्थान रॉयल्स और सनराइजर्स हैदराबाद के नाम शामिल हैं.

बता दें कि IPL 2008 (IPL 2008) में खेले गए पहले सीज़न के दौरान विकेटकीपर-बल्लेबाज़ को इमर्जिंग प्लेयर ऑफ़ द टूर्नामेंट के खिताब से नवाज़ा गया था. लेकिन इसके बाद श्रीवत्स का प्रदर्शन लगातार गिरता रहा और अभी तक उनके नाम 31 मैचों में 14.65 के  मामूली से औसत से केवल 293 रन हैं.

आईपीएल में लगातार फ़ेल ही रहे हैं श्रीवत्स

IPL Archives : कभी बना था इमर्जिंग प्लेयर ऑफ़ टूर्नामेंट, अब हैदराबाद पर बोझ बन रहा ये खिलाड़ी 2

2011 में कोलकाता नाइट राइडर्स (Kolkata Knight Riders) के लिए खेलने के बाद 2012 में गोस्वामी का ट्रांसफ़र राजस्थान रॉयल्स में हो गया था. 2 साल तक 20 लाख  की रकम में राजस्थान से जुड़े रहने के  दौरान भी श्रावत्स का प्रदर्शन ज़्यादा बेहतर नहीं रहा था और वो फ़्लॉप ही रहे थे.

लेकिन इसके बावजूद 2018 में जब आईपीएल (IPL) की नीलामी हुई थी तो सनराइर्स हैदराबाद की टीम ने श्रीवत्स को 1 करोड़ में खरीद कर सबको चौंका दिया था. मगर अफ़सोस ये रहा कि इतनी बड़ी राशि में बिकन के बाद भी आईपीएल 2018 के 6 मैचों में 17.33 के बल्लेबाज़ी औसत  से महज़ 52 रन बनाए थे.

फ़्लॉप खिलाड़ी पर 1 करोड़ खर्च करने का क्या मतलब?

IPL Archives : कभी बना था इमर्जिंग प्लेयर ऑफ़ टूर्नामेंट, अब हैदराबाद पर बोझ बन रहा ये खिलाड़ी 3

श्रीवत्स के लगातार फ़्लॉप प्रदर्शन के बावजूद सनराइजर्स हैदराबाद (Sunrisers Hyderabad) की टीम ने उन्हें 2019, 2020 और फिर अब 2021 में टीम में रिटेन किया है. जबकि पिछले साल दुबई में खेले गए आईपीएल 2020 (IPL 2020) में कोलकाता के इस विकेटकीपर-बल्लेबाज़ ने केवल 2 ही मैच खेले.

सबसे ज़्यादा निराशानक बात ये रही कि इन दोनों में मैचों में  वो अपना खाता तक नहीं खोल सके. इसलिए गोस्वामी के ओवरऑल प्रदर्शन को और उन पर सनराइजर्स की तरफ़ से लगाई  गई रक़म को देख कर ये सवाल तो उठता है कि आखिर एक फ़्लॉप प्लेयर पर इतना पैसा खर्च करने का क्या अर्थ है.

Umesh Sharma

Everything under the sun can be expressed in written form. So, I am practicing the same since the time I hold my consciousness and came to know pen and paper. Apart from being Writer, Journalist or...