क्रिकेट
Prev1 of 10
Use your ← → (arrow) keys to browse

क्रिकेट न केवल खेल बल्कि भावनाओं से भी जुड़ा हुआ है। इस खेल में दोस्ती दिलों में और प्रतिस्पर्धा खेल में होती है। वाकई क्रिकेट से कई खिलाड़ियों के बीच काफी गहरी दोस्ती हो जाती है। ऐसा नहीं है कि दोस्ती आपस के ही टीम में होती है बल्कि ये दूसरे देशों के खिलाड़ियों के साथ भी होती है।

भरोसा कीजिए, यह खेल करोड़ों दिलों के तार को एक-दूसरे से जोड़ता है। इस खेल में ही सबसे अधिक स्पोर्ट्समैन शिप के उदाहरण देखने को मिलते हैं। लेकिन जहां एक तरफ ये खेल प्यार व भाईचारे के लिए मशहूर है, वहीं कुछ खिलाड़ियों के बीच ऐसी दुश्मनी हो जाती है, जिन्हें वह सालों साल निभाते हैं।

न सिर्फ मैदान बल्कि जब मौका मिले तब, जहां मौका मिले वहां। तो आइए आज हम आपको कुछ ऐसे खिलाड़ियों के बारे में बताते हैं जो टीम में एक-दूसरे का चेहरा भी देखना पसंद नहीं करते थे और खेल से संन्यास लेने के बाद भी उनकी दुश्मनी बरकरार है।

1- कपिल देव – सुनील गावस्कर

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान कपिल देव ने जहां 1983 में अपनी कप्तानी में भारतीय टीम को पहला विश्व कप दिलाया तो सुनील गावस्कर ने न सिर्फ लंबे समय तक सर्वाधिक शतकों का रिकॉर्ड अपने नाम रखा बल्कि विदेशी सरजमीं पर भारतीय खिलाड़ियों को लड़ना सिखाया।

इन 10 क्रिकेटर्स के बीच रहता है 36 का आंकड़ा, कई भारतीय दिग्गज भी हैं लिस्ट में शामिल 1

इन 10 क्रिकेटर्स के बीच रहता है 36 का आंकड़ा, कई भारतीय दिग्गज भी हैं लिस्ट में शामिल 2

मीडिया में तो कई बार इन दोनों ही महान खिलाड़ियों के खिलाफ खबरें आईं। पहली घटना सन् 1979 की थी जब भारत-पाकिस्तान के बीच मैच खेला जा रहा था। उस टेस्ट मैच में गावस्कर 166 रन पर खेल रहे थे।

और कपिल देव, जो शॉर्ट गेंद को खेलने में माहिर थे वह क्रीज की दूसरी छोर पर खड़े थे, ऐसे में गावस्कर सिंगल लेकर स्ट्राइक कपिल देव को देना चाहते थे। जिसके लिए उन्होंने बैकवर्ड पॉइंट पर शॉट खेला पर कपिल देव ने सिंगल लेने से मना कर दिया। जिसके बाद अगली ही गेंद पर गावस्कर रन आउट हो गए।

इन 10 क्रिकेटर्स के बीच रहता है 36 का आंकड़ा, कई भारतीय दिग्गज भी हैं लिस्ट में शामिल 3

फिर गावस्कर आगबबूला होकर मैदान से बाहर चले गए। इसके 10-15 मिनट बाद ही टी-ब्रेक हो गया और उस ब्रेक में गावस्कर कपिल देव पर नाराजगी जताते नजर आए। ये विवाद ठंडे बस्ते में जा ही रहा था कि 6 साल बाद भी गावस्कर और कपिल देव के बीच फिर विवाद हुआ था।

1984 में सुनील गावस्कर ने अपनी कप्तानी में कपिल देव को टीम से ही बाहर कर दिया था। असल में, इंग्लैंड टीम भारत दौरे पर आई थी। दिल्ली टेस्ट के दौरान कपिल देव एक बेहद खराब शॉट खेलकर अपना विकेट गंवा बैठे थे। जिसके बाद अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए गावस्कर ने कपिल को अगले टेस्ट से ही बाहर कर दिया था।

Prev1 of 10
Use your ← → (arrow) keys to browse