/

गरीबी से लड़कर आज क्रिकेट की दुनिया में अपना नाम कमा रहे हैं, ये 5 बड़े खिलाड़ी

पुरानी कहावत है कि मेहनत के बल पर कुछ भी हासिल किया जा सकता है. कुछ भारतीय खिलाड़ियों ने अपनी मेहनत और जूनून के दम पर क्रिकेट जगत में न केवल अपनी अलग जगह बनाए है, बल्कि और युवा खिलाड़ियों के सामने एक उदाहरण भी रखा है. तो आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ गरीब खिलाड़ियों के बारे में जो भारत के लिए खेले। #FLASHBACK आज ही के दिन मिली थी 2011 विश्वकप की सबसे बड़ी जीत, जिसका जश्न फाइनल से ज्यादा मनाया गया था

जेसीसी
बनना चाहते हैं प्रोफेशनल क्रिकेटर?
अभी करें रजिस्टर

*T&C Apply

आइये डालते हैं, एक नज़र ऐसे ही कुछ चुनिन्दा खिलाड़ियों पर:

 मुनाफ पटेल 

गरीबी से लड़कर आज क्रिकेट की दुनिया में अपना नाम कमा रहे हैं, ये 5 बड़े खिलाड़ी 1

गुजरात का ये गेंदबाज़ बेहद गरीब परिवार से आता है. मुनाफ ने पैसे के लिए मजदूरी भी की है.  मुनाफ को कई बार ऐसा बोला गया कि वो क्रिकेट छोड़ कर परिवार का हाथ बटाएं , लेकिन अपने जूनून की वजह से  मुनाफ ने 150 किमी प्रति घंटे की रफ्तार गेंद  फेकने के बाद चर्चा में आए  और इंडियन टीम में जगह बनाई . मुनाक ने 2011 के वर्ल्ड कप में भारत को कप दिलाने में मदद की और उस समय केवल 4 रन प्रति ओवर से दे कर 11 विकेट लिए थे.  भारतीय विकटों पर गेंदबाज़ी का अनुभव आईपीएल में काम आयेंगा: मुनाफ पटेल

उमेश यादव

गरीबी से लड़कर आज क्रिकेट की दुनिया में अपना नाम कमा रहे हैं, ये 5 बड़े खिलाड़ी 2

उमेश के पिता कोयले की खान में काम करते थे और बड़ी ही मुश्किल से अपने परिवार को दो वक्त का भोजन दे पाते थे, लेकिन कहते हैं ना कि प्रतिभा नहीं छिपती और ये साबित कर उमेश ने अपनी कड़ी मेहनत के बल पर भारतीय टीम में शामिल हुए। आज उमेश भारत के सबसे तेज गेंदबाजों में एक हैं और उमेश यादव ने ऑस्ट्रेलिया को हराने में बेहद महत्वपूर्ण योगदान दिया था.  

इरफान पठान और युसुफ पठान

गरीबी से लड़कर आज क्रिकेट की दुनिया में अपना नाम कमा रहे हैं, ये 5 बड़े खिलाड़ी 3

मात्र 19 साल की उम्र में भारतीय टीम में जगह बनाने वाले इरफान पठान और उनके बड़े भाई युसुफ पठान क्रिकेट में आने से पहले गरीबी की मार झेल चुके हैं। पठान बन्धुओं ने इंडिया टीम जगह बनाए.इरफ़ान ने अपनी स्विंग से नाम कमाया तो युसूफ अपनी पॉवर हिटिंग के लिए जाने जाते है. इरफ़ान ने 2007 के टी-20 के वर्ल्ड कप में भारत को जीताने में योगदान दिया थाट्वीटर रिएक्शन: भारतीय टीम के इतने शानदार प्रदर्शन के बाद इरफ़ान पठान को हैं टीम से यह उम्मीद

भुवनेश्वर कुमार

गरीबी से लड़कर आज क्रिकेट की दुनिया में अपना नाम कमा रहे हैं, ये 5 बड़े खिलाड़ी 4

मौजूदा समय में भारत के सबसे बेहतरीन स्विंग गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार मेरठ के एक बेहद गरीब परिवार से ताल्लुक रखते थे। भुवनेश्वर के मुश्किल दिनों में उनके पिता और बहन ने बहुत साथ दिया और हमेशा उनको क्रिकेट खेलने के लिए प्रेरित किया। भुवनेश्वर की मेहनत रंग लाई और वो आज भारतीय टीम का हिस्सा है. भुवी इसके लिए अपने करियर की पहली गेंद पर विकेट लेने वाले गेंदबाजों के क्लब शामिल है .

रविन्द्र जडेजा 

गरीबी से लड़कर आज क्रिकेट की दुनिया में अपना नाम कमा रहे हैं, ये 5 बड़े खिलाड़ी 5

भारतीय क्रिकेट में ‘सर जडेजा’ के नाम से मशहूर रविन्द्र जडेजा भी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में आने से पहले गरीबी की मार झेल चुके हैं। जडेजा के पिता एक प्राइवेट कंपनी में वॉचमैन का काम करते थे। जडेजा के पिता परिवार में अकेले कमाने वाले व्यक्ति थे जिसकी वजह से उनके परिवार को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा. OMG!! ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज के दौरान डर गये थे रोहित शर्मा, खुद किया खुलासा

जडेजा ने अपनी प्रतिभा के दम पर ने केवल टीम में जगह बने बल्कि आज वे टेस्ट क्रिकेट के नंबर 1 के गेंदबाज़ भी है. और वो टीम के लिए उपयोगी आलराउंडर भी है जो अपनी दम पर मैच जीता सकता है.