इन 5 खिलाड़ियों को मिला होता मौका, तो भारत तीसरी बार बन जाता चैंपियन

Trending News

Blog Post

एडिटर च्वाइस

इन 5 खिलाड़ियों को मिला होता विश्व कप टीम में मौका, तो भारत का तीसरी बार विश्व विजेता बनना था तय 

इन 5 खिलाड़ियों को मिला होता विश्व कप टीम में मौका, तो भारत का तीसरी बार विश्व विजेता बनना था तय

विश्व कप 2019 के लिए भारतीय टीम का चयन 15 अप्रैल को हो गया है. कुल 15 खिलाड़ियों को भारत की इस विश्व कप टीम में जगह मिली है. इस 15 सदस्यी टीम की कप्तानी जहां विराट कोहली मिली है. इस विश्व कप टीम में पांच खिलाड़ी भी जगह डिजर्व करते थे, लेकिन उन्हें जगह नहीं मिली है. आज हम आपकों अपने इस ख़ास लेख में उन 5 खिलाड़ियों का ही नाम बताएंगे, जिन्हें अगर भारत    की विश्व कप टीम में जगह मिलती, तो भारत की विश्व कप जीत तय थी.

ऋषभ पंत

केदार जाधव

ऋषभ पंत विश्व कप टीम में चुने जाने के हक़दार थे, लेकिन उन्हें चयनकर्ताओं ने मौका नहीं दिया है. ऋषभ पंत का आईपीएल में भी फॉर्म शानदार रहा था. उन्होंने इस सीजन दिल्ली कैपिटल्स के लिए कुल 16 मैच खेले. जिसमे उन्होंने 37.53 की शानदार औसत के साथ 488 रन बनाये. इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 162.66 का रहा था.

वह किसी भी बल्लेबाजी क्रम में बल्लेबाजी करने की क्षमता रखते हैं और बड़े-बड़े शॉट्स लगा सकते हैं. वह एक मैच फिनिशर की भूमिका भी निभा सकते हैं, लेकिन चयनकर्ताओं ने उन पर अपना भरोसा नहीं दिखाया.

नवदीप सैनी 

युवा तेज गेंदबाज नवदीप सैनी ने आईपीएल 2019 में शानदार प्रदर्शन किया था. उन्होंने इस आईपीएल में कुल 13 मैच खेले थे. जिसमे उन्होंने 8.27 की इकॉनामी रेट से 11 विकेट हासिल किये.

उनकी तेज रफ़्तार के आगे बल्लेबाज बेबस नजर आ रहे थे. उनके खिलाफ बड़े शॉट्स खेलना आसान नहीं हो पा रहा था. उन्होंने इस आईपीएल में कई गेंदे 150 से भी ऊपर की कराई थी, लेकिन इस युवा प्रतिभा को भी चयनकर्ताओं ने नजरंदाज किया और विश्व कप खेलने का मौका नहीं दिया.

अंबाती रायडू

पिछले एक साल से अंबाती रायडू भारतीय टीम के लिए नंबर-4 पर बल्लेबाजी कर रहे थे, लेकिन जब विश्व कप में लेकर जाने की बात आई, तो उन्हें चयनकर्ताओं ने नजरंदाज कर दिया.

भारत के पास इस विश्व कप में नंबर-4 का कोई भी स्पेशलिस्ट बल्लेबाज नहीं है, इसलिए अंबाती रायडू विश्व कप में अपनी जगह डिजर्व करते थे. वह भारत के नंबर-4 की समस्या को सुलझा सकते थे.  वह नंबर-4 पर धैर्य से खेलते हुए गेम को चला सकते हैं, लेकिन चयनकर्ताओं ने उन पर भी अपना भरोसा नहीं दिखाया.

उमेश यादव

उमेश यादव भारतीय टीम के एक अनुभवी तेज गेंदबाज है. उन्होंने विश्व कप 2015 में भारतीय टीम के लिए सबसे ज्यादा विकेट हासिल किये थे. उन्होंने 2015 के विश्व कप में भारतीय टीम के लिए 8 मैचों में 18 विकेट हासिल किये थे और वह मिचेल स्टार्क और ट्रेंट बोल्ट के बाद टूर्नामेंट में तीसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज थे.

उनके अनुभव को देखते हुए कहा जा सकता है, कि वह चौथे तेज गेंदबाज के रूप में भारत के साथ इंग्लैंड जाना डिजर्व करते थे, लेकिन चयनकर्ताओं ने उन्हें भी नजरंदाज किया.

मनीष पांडे

मनीष पांडे की वर्तमान फॉर्म अच्छी है. उन्होंने इस आईपीएल सीजन 11 मैचों में 44.85 की शानदार औसत व 138.32 के शानदार स्ट्राइक रेट के साथ 314 रन बनाये हुए थे. वह मध्यक्रम के एक स्पेशलिस्ट बल्लेबाज हैं और अपनी फील्डिंग से भी मैच में प्रभाव डालने की क्षमता रखते हैं.

भारत को विश्व कप टीम में मध्यक्रम का एक बैक-अप बल्लेबाज चाहिए था और यह काम मनीष पांडे बखूबी कर सकते थे, लेकिन चयनकर्ताओं ने उन्हें भी विश्व कप टीम से बाहर ही रखा है.

Related posts