ये है वो 5 कारण जिसकी वजह से राजनितिक वातावरण से भी निकलकर राहुल द्रविड़ बने महान क्रिकेटर | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

ये है वो 5 कारण जिसकी वजह से राजनितिक वातावरण से भी निकलकर राहुल द्रविड़ बने महान क्रिकेटर 

ये है वो 5 कारण जिसकी वजह से राजनितिक वातावरण से भी निकलकर राहुल द्रविड़ बने महान क्रिकेटर

राहुल द्रविड़… इन्हें भारत ही नहीं बल्कि पुरे विश्व क्रिकेट में खास तरह से याद किया जाता है। राहुल द्रविड़ ने जिस तरह से क्रिकेट में अपना योगदान दिया है  वो हमेशा के लिए यादगार हो गया। राहुल द्रविड़ विश्व क्रिकेट के सबसे अलग तरह के बल्लेबाज थे। राहुल द्रविड़ के ऐसे पांच गुणा जो उनको दुनिया के दूसरे बल्लेबाजों से बिल्कुल अलग बनाते थे जिनसे काफी कुछ सीखा जा सकता है। जो हमारे जीवन के लिए भी सीखने लायक पाठ हैं।

ये है वो 5 कारण जिसकी वजह से राजनितिक वातावरण से भी निकलकर राहुल द्रविड़ बने महान क्रिकेटर 1

1 धैर्य

धैर्य एक ऐसा शब्द है जो दुनिया के बहुत कम लोग ही रख सकते हैं। धैर्य का बरकरार रखना किसी के जीवन में भी इतना आसान नहीं है, लेकिन राहुल द्रविड़ ने अपने पूरे करियर में जिस तरह से धैर्य का परिचय दिया, उससे तो लगा उन्होंने इसको बिल्कुल ही आसान बना दिया।

राहुल द्रविड़ ने हर बार धैर्य को अपनी ताकत के रूप में इस्तेमाल किया। जिसके दम पर उन्हें जबरदस्त सफलता मिली। राहुल द्रविड़ ने बल्लेबाजी के दौरान जिस तरह से धैर्य दिखाते थे वो बहुत कम खिलाड़ियों में देखने को मिलता था।

ये है वो 5 कारण जिसकी वजह से राजनितिक वातावरण से भी निकलकर राहुल द्रविड़ बने महान क्रिकेटर 2

2 प्रक्रिया में समर्पण

इंसान शुरूआत से ही कामयाब होने की इच्छा रखता है। ऐसे में जब उसे कड़ी मेहनत के बाद भी कामयाबी नहीं मिलती है तो वो अपने काम करने का तरीका बदलने की कोशिश करता है। जिससे वो अपने पहले तरीके से भटक जाता है। ठीक इसी तरह का मुश्किल दौर राहुल द्रविड़ ने भी अपने करियर में देखा, लेकिन राहुल द्रविड़ के अपने काम पर इतना विश्वास था कि उन्होंने कभी भी अपनी शैली को बदलने की कोशिश नहीं की। जिसका उनका उनके पूरे करियर में फायदा मिला।

ये है वो 5 कारण जिसकी वजह से राजनितिक वातावरण से भी निकलकर राहुल द्रविड़ बने महान क्रिकेटर 3

3 ग्रहण करने की क्षमता

लोगों में एक चीज अक्सर देखी गई है कि जिसमें वो पारंगत हो जाते हैं तो वहीं करने की कोशिश में रहते हैं। कुछ इसी तरह से राहुल द्रविड़ के जीवन में भी मोड़ आया। राहुल द्रविड़ को शुरूआत से ही एक टेस्ट बल्लेबाज माना जाने लगा। राहुल द्रविड़ को शुरूआत में तेजी से रन बनाने में दिक्कत होती थी, लेकिन उन्होनें अपने इस लेबल को हटाया और अपने आप को वनडे क्रिकेट के लिए तैयार किया। राहुल द्रविड़ ने वनडे क्रिकेट में भी एक खास मुकाम हासिल करके दिखाया।

ये है वो 5 कारण जिसकी वजह से राजनितिक वातावरण से भी निकलकर राहुल द्रविड़ बने महान क्रिकेटर 4

4. टीमवर्क

वैसे तो सभी खिलाड़ियों में टीम के हीत में काम करने का भाव नजर आता है लेकिन इसके बाद भी राहुल द्रविड़ उन सभी खिलाड़ियों में से जुदा थे। राहुल द्रविड़ ने भारतीय टीम में एक शुद्ध बल्लेबाज के तौर पर जगह बनायी और बल्लेबाजी में खूब नाम कमाया। लेकिन सौरव गांगुली की कप्तानी में जब भारतीय टीम के लिए वो एक और अतिरिक्त बल्लेबाज खिलाना चाहते थे, तो राहुल द्रविड़ ने टीम के हीत में विकेटकीपिंग के दस्ताने भी थाम लिए और कई सालों तक कीपिंग का जिम्मा संभाला।

ये है वो 5 कारण जिसकी वजह से राजनितिक वातावरण से भी निकलकर राहुल द्रविड़ बने महान क्रिकेटर 5

वीडियो ऑफ द डे

5 सही समय पर सही फैसला

आमतौर पर देखा जाता है कि कोई खिलाड़ी अपने अच्छे दौर से नहीं गुजर रहा हो और उम्र भी फॉर्म पर हावी होने लगी हो इसके बाद भी खेलना जारी रखने की उम्मीद पाले रखते हैं, लेकिन राहुल द्रविड़ के करियर में ऐसा नजर नहीं आया। राहुल द्रविड़ ने साल 2011 में इंग्लैंड के दौरे पर जबरदस्त प्रदर्शन किया और तीन शकत बनाए, लेकिन जब 2012 की शुरूआत में ऑस्ट्रेलिया में फ्लॉप रहे तो द्रविड़ ने अपने करियर को थामने का फैसला खुद ही कर लिया । ऐसे में उन्होंने दिखाया कि सही समय पर सही फैसला लिया जाना महत्वपूर्ण होता है।

ये है वो 5 कारण जिसकी वजह से राजनितिक वातावरण से भी निकलकर राहुल द्रविड़ बने महान क्रिकेटर 6

 

 

Related posts

Leave a Reply