These four players were the villains in the defeat of Team India ind vs sa 2nd odi

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे वनडे मैच में भी टीम इंडिया (Team India) को करारी मात झेलनी पड़ी।  भारत ने पहला वनडे 31 तो दूसरा वनडे 7 विकेट से गंवाया। दूसरे वनडे मैच में कई ऐसे भारतीय खिलाड़ी रहे जिन्होंने बहुत ही ख़राब प्रदर्शन किया। दूसरे वनडे मैच में ना तो टीम इंडिया (Team India) की बल्लेबाजी में दम देखने को मिला और ना ही गेंदबाजी में। तो चलिए जानते हैं उन चार खिलाड़ियों के बारे में जो भारत की हार के विलेन रहे।

श्रेयस अय्यर

Shreyas Iyer team india

कप्तान केएल राहुल और रिषभ पंत जब बल्लेबाजी कर रहे थे तब टीम इंडिया (Team India) एक बड़े स्कोर की तरफ जाती दिखाई दे रही थी लेकिन जैसे ही यह दोनों आउट हुए, उसके बाद मध्यक्रम ने एकदम से सरेंडर कर दिया। पहले मैच में खराब प्रदर्शन करने के बावजूद भी श्रेयस अय्यर को मौका दिया गया था लेकिन वो मिले हुए इस मौका का फायदा नहीं उठा पाए। जब अय्यर पर रन बनाने की बड़ी जिम्मेदारी थी, तब वो टीम को बीच मंझधार में ही छोड़कर निकल लिए।  उन्होंने महज 14 गेंदों में 11 रन ही बनाए।  नतीजा यह हुआ टीम इंडिया बड़ा स्कोर खड़ा नहीं कर पाई।

शार्दुल ठाकुर

 Shardul Thakur

टीम इंडिया (Team India) में शार्दुल ठाकुर को बतौर गेंदबाज शामिल किया गया था लेकिन वो बतौर गेंदबाज कुछ खास कमाल नहीं कर पाए। हालांकि, उन्होंने बल्ले से अच्छा खेल दिखाया। दूसरे वनडे मैच में उन्होंने 5 ओवर की गेंदबाजी की और सिर्फ एक ही विकेट हासिल कर पाए।  नतीजा यह हुआ कि सारा दबाव बाकि के गेंदबाजों पर आ गया लेकिन यहाँ जितनी गलती शार्दुल ठाकुर की है, उतनी ही गलती कप्तान केएल राहुल की भी है जिन्होंने उनका सही से इस्तेमाल नहीं किया।

वेंकटेश अय्यर

 Venkatesh Iyer team india

पहले वनडे मैच में कुछ खास कमाल नहीं करने वाले ऑलराउंडर वेंकटेश अय्यर को दूसरे मैच में भी मौका दिया गया था लेकिन वो मिले हुए मौके को भुना नहीं पाए। यह खिलाड़ी गेंद और बल्ले दोनों में बुरी तरह फ्लॉप साबित हुआ। दूसरे मैच में उन्होंने 33 गेंदों में 22 रन बनाए जबकि मैच में उन्होंने 5 ओवर गेंदबाजी की और 28 रन देकर एक भी विकेट हासिल नहीं किया। अब तीसरे वनडे में उन्हें मौका मिलेगा भी या नहीं यह कहना मुश्किल है।

भुवनेश्वर कुमार

 Bhuvneshwar Kumar team india

दूसरे वनडे मैच में भुवनेश्वर कुमार की गेंदों में कोई जादू देखने को नहीं मिला।  इस मैच में वो एक भी विकेट हासिल नहीं कर पाए। उन्होंने 8 ओवर में 67 रन लूटा दिए और एक भी सफलता उनके हाथ नहीं लगी। अगर कप्तान केएल राहुल उनकी जगह दीपक चाहर को मौका देते तो हो सकता था कहानी कुछ और ही होती।