2011 विश्व कप का खिताब दिलाने वाले ये चार स्टार खिलाड़ी, नहीं होंगे

Trending News

Blog Post

एडिटर च्वाइस

भारत को विश्वकप 2011 जीताने में इन 4 खिलाड़ियों ने निभाया था महत्वपूर्ण भूमिका, 2019 में नहीं मिलेगी टीम इंडिया में जगह 

भारत को विश्वकप 2011 जीताने में इन 4 खिलाड़ियों ने निभाया था महत्वपूर्ण भूमिका, 2019 में नहीं मिलेगी टीम इंडिया में जगह

भारतीय क्रिकेट टीम ने 28 साल के लम्बे इंतजार के बाद 2011 में विश्व कप अपने नाम किया. इस समय टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी थे. उस  समय के कई खिलाड़ियों ने क्रिकेट को अलविदा कह दिया है. जैसे-गौतम गंभीर वीरेन्द्र सहवाग, सचिन तेंदुलकर.लेकिन कई ऐसे खिलाड़ी भी हैं जिन्होंने भारत को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई.

और इस समय क्रिकेट भी खेल रहे हैं लेकिन 2019 विश्व कप में उनकी जगह बनती नहीं दिख रही. ऐसे ही चार खिलाड़ियों के बारे में हम आपको बताएंगे.

1. रविचंद्रन अश्विन

 

भारतीय टीम का ये स्टार स्पिनर इस समय केवल टेस्ट मैचों में टीम की ओर से खेलता है. वनडे से अश्विन बहुत दिनों से टीम से बाहर चल रहे हैं. विश्व कप 2011 में इस खिलाड़ी को दो मैच खेलने का मौका मिला था. दोनों मैच में इस खिलाड़ी ने अच्छा प्रदर्शन किया था. खासकर क्वाटर फाइनल में इस खिलाड़ी ने ऑस्ट्रेलिया टीम के दो अहम विकेट अपने नाम किए.

वेस्टइंडीज के खिलाफ अश्विन ने- 10 ओवर में 41 रन दिए और 2 विकेट अपने नाम किए. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भी उन्होंने 10 ओवर में 52 रन देकर 2 महत्वपूर्ण विकेट अपने नाम किया था. ऑस्ट्रेलिया का पहला विकेट अश्विन ने ही लिया था.

2. युवराज सिंह 

भारतीय टीम के इस दिग्गज बल्लेबाज ने विश्व कप 2011 में भारत के लिए सबसे बेहतरीन प्रदर्शन किया. उनको  2011 विश्व कप के लिए मैन ऑफ़ द टूर्नामेंट के खिताब से नवाजा गया. पूरे विश्व कप में इस खिलाड़ी ने 90.50 के शानदार औसत से 362 रन बनाए. जिसमे इस खिलाड़ी का सर्वाधिक स्कोर 113 रन था. गेंदबाजी में भी युवी ने कमाल दिखाया और 15 विकेट अपने नाम किए.

इस विश्व कप में इस खिलाड़ी की टीम में जगह बनते  नहीं दिख रही. उनकी बढ़ती उम्र और खराब फॉर्म उनके खेल के बीच में आ गया है.

3. हरभजन सिंह 

भारतीय टीम का ये स्पिन गेंदबाज उस समय टीम का अहम हथियार था. इनकी बेहतरीन गेंदबाजी ने भारत को विश्व कप दिलाने में बहुत मदद की. उन्होंने 9 मैच में भले ही 9 विकेट लिए. लेकिन उनकी इकोनोमी 5 से भी कम थी. जिसका फायदा भारतीय टीम को मिला था.

इस समय हरभजन सिंह चेन्नई के लिए आईपीएल खेलते हैं. लेकिन भारतीय टीम से बहुत दिनों से बाहर चल रहे हैं. इनकी भी टीम में वापसी की कोई उम्मीद नहीं दिख रही.

4. सुरेश रैना 

विश्व कप 2011 में इस खिलाड़ी को ज्यादा मौका नहीं मिला था. लेकिन जितने मौके मिले उसमे इनकी छोटी-छोटी पारियों की वजह से भारत ने फाइनल तक का सफर तय किया. और जीत तक पहुंची. पूरे विश्व कप में उन्होंने 4 मैच में 74 के औसत से 74 रन बनाएं.

रैना इस समय भारतीय टीम में वापसी के लिए लगातार प्रयाश कर रहे हैं. लेकिन 2019 विश्व कप में उनको जगह मिलती नहीं दिख रही है.

अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया, तो प्लीज इसे लाइक करें। अपने दोस्तों तक ये खबर सबसे पहले पहुंचाने के लिए शेयर करें और साथ ही अगर आप कोई सुझाव देना चाहते हैं, तो प्लीज कमेंट करें। अगर आपने अब तक हमारा पेज लाइक नहीं किया हैं, तो कृपया अभी लाइक करें, जिससे लेटेस्ट अपडेट हम आपको जल्दी पहुंचा सकें।

 

 

 

Related posts