साउथ अफ्रीका को काईल एबोट की कमी महसूस होगी: एरिक सिमंस | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

साउथ अफ्रीका को काईल एबोट की कमी महसूस होगी: एरिक सिमंस 

साउथ अफ्रीका को काईल एबोट की कमी महसूस होगी: एरिक सिमंस

साउथ अफ्रीका के पूर्व कोच एरिक सिमंस ने काईल एबोट के इंग्लैंड काउंटी क्रिकेट से जुड़ने के बाद कहा कि काईल एबोट का यह फैसला साउथ अफ्रीका टीम के लिए भारी पड़ सकता है. काईल एबोट गेंदबाज़ी के साथ साउथ अफ्रीका के लिए निचले क्रम में तेज़ी से बल्लेबाज़ी भी कर सकते थे.

साउथ अफ्रीका को काईल एबोट की कमी महसूस होगी: एरिक सिमंस 1

यह भी पढ़े : गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने बताया विराट कोहली को अपना पसंदीदा क्रिकेटर

साउथ अफ्रीका के तेज़ गेंदबाज़ काईल एबोट ने इंग्लैंड काउंटी क्रिकेट में हैम्पशायर की तरफ से खेलने के लिए डील कर ली है, जिसके बाद अब वह 4 साल तक ना ही अपने देश की टीम से खेल पाएंगे और ना ही दुनिया भर में हो रही किसी टी20 लीग का हिस्सा बन पाएंगे.

एरिक सिमंस ने आगे बताया कि साउथ अफ्रीका की टीम ने अभी 3 टेस्ट सीरीज जीती है, जिसमे उन्होंने न्यूज़ीलैण्ड. ऑस्ट्रेलिया और श्रीलंका को हराया है और वन डे में ऑस्ट्रेलिया टीम को 5-0 से मात दी है. साउथ अफ्रीका की तरफ से इन सब जीतों में काईल एबोट ने अपना बेहतरीन खेल खेला है.

यह भी पढ़े : पूर्व भारतीय खिलाड़ी ने बताया अब कैसा रहेगा भारतीय टीम में महेंद्र सिंह धोनी का भविष्य

उन्होंने बताया कि अब जब काईल एबोट ने 4 साल के लिए काउंटी क्रिकेट से ख़ुद को जोड़ लिया है तो उसके बाद अब वह साउथ अफ्रीका टीम से नहीं खेल पायेंगे, जिसका फ़र्क पूरी साउथ अफ्रीका टीम के खेल पर पड़ेगा और वह उनकी जगह को भरने के लिए बहुत तकलीफ महसूस करेंगे.

आगे उन्होंने बताया कि अभी बहुत अच्छा खेल रहे वेन पार्नेल उनकी जगह को भर सकते है, उसके साथ ही साउथ अफ्रीका के पास ड्यून ओलीवर भी है जो आगे चल के काईल एबोट की जगह को ले सकता है हालाँकि उन्होंने अभी तक अपना डेब्यू नहीं किया है.

यह भी पढ़े : अफ़रीदी ने खिलाड़ी की तरह नहीं नेता की तरह दी प्रसंशको को नये साल की शुभकामनाए

एरिक सिमंस ने आगे साउथ अफ्रीका टीम की कप्तानी के बारे में बोलते हुये कहा की मैं कभी उस रणनीती से खुश नहीं था, जब साउथ अफ्रीका के हर प्रारूप के लिए अलग-अलग कप्तान थे. मैं चाहता हूँ कि किसी भी टीम में एक ही आवाज होनी चाहिए. खेल के प्रारूप बदल जाने से सब खिलाड़ी नहीं बदलते इसलिए कभी किसी की सुनना कभी किसी की सुनना टीम के लिए ठीक नहीं था.

Related posts