सचिन को परेशान कर चुका ये खिलाड़ी अब चलाता है मामूली दुकान

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

सचिन तेंदुलकर को परेशान करने वाला यह खिलाड़ी आज चला रहा मामूली दुकान, पिता थे चौकीदार 

सचिन तेंदुलकर को परेशान करने वाला यह खिलाड़ी आज चला रहा मामूली दुकान, पिता थे चौकीदार

क्रिकेट के खेल में आज कई महान खिलाड़ी हैं लेकिन इनमें से कई ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने अपने बचपन के दिनों में काफी संघर्ष किया है। विश्व क्रिकेट के ऐसे कई क्रिकेटर्स हैं जिनको अपने बचपन में कड़ा संघर्ष करना पड़ा और क्रिकेटर बनने के सपने को पूरा किया। लेकिन ये भी सच है कि कई खिलाड़ियों की इंटरनेशनल क्रिकेट में आने के बाद जिंदगी पूरी तरह से बदल गई।

जिम्बाब्वे के पूर्व स्पिन गेंदबाज आज जी रहे हैं मामूली जिंदगी

वैसे अपनी गरीबी के बीच संघर्ष कर कई ऐसे खिलाड़ी रहे हैं जो क्रिकेटर बनने के बाद आज करोड़ो में खेल रहे हैं लेकिन कुछ ऐसे खिलाड़ी भी मिल जाते हैं जो संघर्ष कर क्रिकेटर बने और संन्यास के बाद भी मामूली जिंदगी जी रहे हैं।

सचिन तेंदुलकर को परेशान करने वाला यह खिलाड़ी आज चला रहा मामूली दुकान, पिता थे चौकीदार 1

ऐसे ही खिलाड़ी की आज हम यहां पर बात करने जा रहे हैं जो इंटरनेशनल क्रिकेट में अपने देश के लिए एक बहुत बड़ा नाम थे लेकिन आज काफी मुश्किल से अपनी जिंदगी आगे बढ़ा रहे हैं। ये खिलाड़ी हैं जिम्बाब्वे के पूर्व स्पिन गेंदबाज रे प्राइस…

रे प्राइस आज चलाते हैं एक मामूली दुकान

जिम्बाब्वे के लिए तीनों ही फॉर्मेट में खेल चुके रे प्राइस इन दिनों बहुत ही संघर्ष कर रहे हैं। उनको अपने परिवार का पालन पोषण करने के लिए दुकान चलानी पड़ रही है। जिससे वो बड़ी मुश्किल से परिवार का गुजारा बसेरा कर पा रहे हैं। रे प्राइस जिम्बाब्वे के लिए 2002 से 2013 तक खेल चुके हैं। जिन्होंने 22 टेस्ट, 101 वनडे और 16 टी20 मैच खेले हैं।

सचिन तेंदुलकर को परेशान करने वाला यह खिलाड़ी आज चला रहा मामूली दुकान, पिता थे चौकीदार 2

इंटरनेशनल क्रिकेट को रे प्राइस ने साल 2013 में अलविदा कहा। इसके बाद वो पैसों की तल्खी के कारण घर का गुजारा करने के लिए वहीं पर एक क्रिकेट के सामान की मामूली दुकान लेकर बैठे हैं तो साथ ही घर-घर जाकर एसी ठीक करने का भी काम कर रहे हैं।

शुरू से ही किया है संघर्ष, पिता रहे हैं चौकीदार

अभी तो रे प्राइस खूब संघर्ष कर रहे हैं तो वहीं उनका बचपन भी इसी तरह की तंगहाली में गुजरा है। क्योंकि उनके पिता एक चौकीदार का काम करते थे। इस कारण से उन्होंने शुरू से ही पैसों के लिए खूब संघर्ष किया है। परिवार की मुसीबतों के साथ ही प्राइस खुद की शारीरिक समस्या से भी परेशान रहे जिसमें उन्हें 4 साल की उम्र से ही कानों में सुनायी नहीं देता था। जिसका ऑपरेशन जरूर हुआ लेकिन इसके बाद भी वो ठीक नहीं हो सके।

सचिन को परेशान करने वाले प्राइस आईपीएल में खेल चुके हैं सचिन की कप्तानी में

वैसे इनका करियर शुरुआत में बहुत ही जबरदस्त रहा है। साल 2002 में भारत के दौरे पर उन्होंने महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर को काफी परेशान किया था। इस दौरान उन्होंने नागपुर में खेले गए टेस्ट मैच की दोनों ही पारियों में सचिन को अपना शिकार बनाया तो वहीं इसके बाद दिल्ली टेस्ट में भी उन्होंने सचिन को आउट किया।

सचिन तेंदुलकर को परेशान करने वाला यह खिलाड़ी आज चला रहा मामूली दुकान, पिता थे चौकीदार 3

सचिन तेंदुलकर को 2 टेस्ट में 3 बार आउट करने वाले रे प्राइस को इसके बाद साल 2011 में आईपीएल में सचिन तेंदुलकर की कप्तानी वाली मुंबई इंडियंस में ही खेलने का मौका मिला। वो आईपीएल में केवल एक ही मैच खेल सके लेकिन सचिन तेंदुलकर से उनकी गहरी दोस्ती है।

भारत से रहा है खास लगाव

भारत से इनका गहरा लगाव रहा है। जिसमें एक यादगार घटना भी उनके साथ जुड़ी है। साल 2002 में ही दिल्ली में चिड़ियाघर घुमने के दौरान वहां पर हाथी की देखभाल करने वाले शख्स ने उन्हें पहचान लिया था। जिसने प्राइस से कहा था कि “सर मेरा बेटा भी बाएं हाथ का स्पिनर है और आप उसके हीरो हैं।” इस घटना का जिक्र उन्होंने एक इंटरव्यू के दौरान करते हुए यादगार लम्हा करार दिया।

सचिन तेंदुलकर को परेशान करने वाला यह खिलाड़ी आज चला रहा मामूली दुकान, पिता थे चौकीदार 4

Related posts