क्रिकेट में धोखाधड़ी की टॉप 5 घटनाएं | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

क्रिकेट में धोखाधड़ी की टॉप 5 घटनाएं 

5. श्रीलंका बनाम ऑस्ट्रेलिया मैच के दौरान मुरलीधरन की गेंद को लेकर विवाद
एक ऑस्ट्रेलियाई स्क्वायर लेग अंपायर ने मुरली की गेंद को नो बॉल करार दिया बावजूद इसके कि आईसीसी ने लंबे समय से मुरली के गेंदबाजी एक्शन को मंजूरी दे दी थी. कप्तान अर्जुन रणतुंगा अंपायर के फैसले पर नाराज थे और उन्होंने अंपायर का सामना करने का फैसला किया जिसके चलते रणतुंगा मैदान के बाहर चले गए और तब तक वापस जाने के लिए मना कर दिया जब तक फैसला सही नहीं पलटा जाता.

4 .बल्लेबाज़ ले आया मेटल का बल्ला
डेनिस लिली खेलने के लिए मैदान पर एक एल्यूमीनियम का बल्ला ले आये और जब अंपायर ने विपक्षी टीम के विरोध के बाद उनसे बल्ला बदलने के लिए कहा तो लिली ने गुस्से में अपना बल्ला फेंक दिया.

3. एक अंपायरिंग गलती !
डेरेल हेयर खेल में सबसे विवादास्पद अंपायरों में से एक थे. डेरेल हेयर ने पाकिस्तानी गेंदबाजों पर गेंद से छेड़छाड़ का आरोप लगाया और इंग्लैंड को पांच पेनाल्टी रन दे दिए. इंजमाम उल हक की टीम ने धोखा महसूस किया और इसके बाद उन्होंने मैदान में न जाने का निर्णय लिया. मैच समाप्त घोषित कर दिया गया था और इंग्लैंड को विजेता घोषित किया गया. मैच के बाद जांच में पता चला कि गेंद के साथ कोई छेड़ छाड़ नहीं की गयी थी इस कारण डेरेल ने अपनी नौकरी खो दी.

2. जान बूझ कर नो बॉल का किस्सा
मोहम्मद आसिफ और मोहम्मद आमिर ने एक सट्टेबाज से पैसों के आदान-प्रदान में कप्तान सलमान बट की सहमति से जानबूझकर नो बॉल डाली थी. जांच अधिकारियों द्वारा एक स्टिंग ऑपरेशन से यह खुलासा हुआ कि यह सब स्पॉट फिक्सिंग और धोखाधड़ी के दोषी हैं जिसके लिए इन्हे ब्रिटेन की जेल से सजा सुनाई गयी थी.

1.अंडरआर्म गेंद !
अंतिम गेंद में छह रन की जरूरत से न्यूजीलैंड को रोकने के लिए ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ग्रेग चैपल ने अपने भाई ट्रेवर को अंडरआर्म गेंद डालने के निर्देश दिए थे. जिसके बाद दुनिया भर में क्रिकेट के सभी रूपों में अंडरआर्म गेंद डालने को तुरंत अवैध घोषित किया गया था.

Related posts

Leave a Reply