भारत-पाक मैच में ये रहा मैच का टर्निंग पॉइंट

मीरपुर। युवराज सिंह (नाबाद 14 रन), विराट कोहली (49 रन) और हार्दिक पांड्या (8/3 विकेट) के करियर के सबसे बेहतरीन प्रदर्शन की बल पर शनिवार को भारत ने पाकिस्तान को एशिया कप में 5 विकेट से हरा दिया। इससे पहले बांग्लादेश के खिलाफ कुछ दिन पहले हुए एशिया कप के पहले मैच को भारत ने जीता था।

भारत-पाकिस्तान के इस मैच में पाकिस्तान की टीम पहले बल्लेबाजी करते हुए 17.3 ओवर में 83 रन पर ऑलआउट हो गई। जवाब में भारत ने 15.3 ओवर में 5 विकेट खोकर लक्ष्य हासिल कर लिया। टीम इंडिया की ओर से अंत में बल्लेबाजी करते हुए कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने विजयी चौका जमाया। वह 7 रन बनाकर नाबाद रहे।

इस मैच टर्निंग पॉइंट की बात करें तो वो शाहिद अफरीदी का रन आउट होना है। शाहिद अफरीदी पाकिस्तान के सबसे बेहतरीन खिलडि़यों में से एक माने जाते हैं। बतौर कप्तान होने के नाते से भी उनपर रन बनाने की बहुत ज़िम्मेदारी थी। अफरीदी रन चुराने के चक्कर में रन आउट हो गए। शाहिद अफरीदी ने महज दो गेंदों पर दो रन बनाए। विश्लेषको की मानें तो शाहिद अफरीदी जिस समय आउट हुए उस वक्त उनपर टीम को संभालते हुए बड़ा स्कोर बनाने की ज़िम्मेदारी थी लेकिन वे रन आउट हो गए।

 

इससे पहले मैच के शुरु होते ही पूरा मैच टीम इंडिया ने अपनी मुट्ठी में कर लिया था। पाकिस्‍तान की पारी में भारतीय तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने पहला विकेट झटका। उन्होंने पहले ओवर की चौाथी गेंद पर मोहम्‍मद हफीज को आउट करके पाक को पहला विकेट गिराया। इसके बाद पूरा मैच भारत के हाथों में ही रहा लेकिन भारत की पारी शुरु होने के बाद टीम इंडिया बैकफुट पर आ गई। महज आठ रन पर तीन विकेट गिरने से टीम इंडिया की हार भी दिखाई देने लगी थी लेकिन विराट और युवराज ने पारी को संभालते हुए टीम को जीत दिला दी।

बता दें कि भारत की तरफ से हार्दिक पांड्या ने करियर का सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन किया। उन्‍होंने 3.3 ओवर में 8 रन देकर तीन विकेट लिए। हार्दिक ने शोएब मलिक (4), मोहम्‍मद सामी (8) और मोहम्‍मद आमिर (3) को अपना शिकार बनाया। रवींद्र जडेजा ने दो विकेट लिए। उन्होंने सरफराज अहमद को क्लीन बोल्ड करके टीम को सबसे बड़ी सफलता दिलाई।

यहाँ देखे मैच के टर्निंग पॉइंट:

1.भारत का टॉस जीतना:

भारतीय कप्तान का टॉस जीतना इस मैच का अहम टर्निंग पॉइंट रहा, जिसकी बदौलत 20% मैच भारत के पाले में आ गया.

2.बुमराह और नेहरा का नई गेंद से शुरुआत:

इस मैच में बुमराह और नेहरा ने पॉवर प्ले में विकेट निकाल कर भारत को एक नई शुरुआत दिला दी, जिससे भारतीय खिलाड़ियों का मनोबल बढ़ गया और उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया.

3.अफरीदी का रन आउट:

अफरीदी पर इस मैच में काफी मानसिक दबाव था, और उपर से शुरुआती विकेट को जल्दी आउट होते देख, अफरीदी ने अपना संतुलन खो दिया और जड़ेजा के ललचाये में आकर अपना विकेट गवां बैठे.

4.विराट का विकेट न निकाल पाना:

पाकिस्तान के हाथ में मैच एक समय पूरी तरह आ चूका था, जिस समय भारत मात्र 8 रन पर 3 विकेट गवां कर संघर्ष कर रहा था, लेकिन इस समय उन्हें कोहली की विकेट की सबसे अधिक आवश्यकता थी, क्यूंकि कोहली के आउट होते ही मैच पाकिस्तान का होता, कोहली के बाद सिर्फ भारतीय कप्तान का ही विकेट था, जो कुछ कर सकता था, लेकिन दबाव में वो भी आउट हो सकते थे.

Related Topics