उमेश यादव ने उठाया चयनकर्ताओं पर सवाल, सीमित ओवर में नहीं...

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

भारतीय टीम में पर्याप्त मौका न मिलने पर उमेश यादव ने कहा “थोड़ा बुरा तो लगता है” 

भारतीय टीम में पर्याप्त मौका न मिलने पर उमेश यादव ने कहा “थोड़ा बुरा तो लगता है”

टीम इंडिया के तेज गेंदबाज उमेश यादव लंबे वक्त से सीमित ओवर क्रिकेट की टीम से ड्रॉप चल रहे हैं. आईसीसी विश्व कप 2015 में भारत के लिए सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज उमेश ने ऑस्ट्रेलिया दौरे पर खेली गई टी20 सीरीज के के दौरान आखिरी बार सीमित ओवर क्रिकेट खेला था. इसके बाद से वह टेस्ट टीम में ही खेलते नजर आते हैं. अब उमेश ने एक इंटरव्यू के दौरान अपना दुख जाहिर करते हुए कहा है कि चयनकर्ता सीमित ओवर क्रिकेट में उनका सही इस्तेमाल नहीं कर सके.

चयनकर्ताओं ने सीमित ओवर में नहीं किया सही इस्तेमाल

उमेश यादव

तेज गेंदबाज उमेश यादव लंबे वक्त से भारत की सीमित ओवर टीम से बाहर चल रहे हैं. उमेश को आखिरी बार ऑस्ट्रेलिया दौरे पर खेली गई टी20 सीरीज में ही सीमित ओवर क्रिकेट खेलने का मौका मिला था. हालांकि वह टेस्ट टीम का हिस्सा बने हुए हैं. अब उन्होंने चयनकर्ताओं पर इसका इल्जाम लगाते हुए इंडियन एक्सप्रेस से खास बातचीत में कहा,

“मै ये समझ नहीं सका. सफेद या लाल गेंद क्रिकेट में बॉल को स्विंग कराने की टैक्निक अलग है क्या? मैं यह कर सकता हूं जैसा मैंने किया है. बेशक, लैंथ अलग-अलग होगी और यह स्पष्ट और नीचे क्रिकेटिंग एलिगेंस है.

अगर मुझे एकदिवसीय मैचों की सीरीज मिलती है, तो मुझे लगता है कि मैं खुद को विकेट लेने वाले गेंदबाज के रूप में साबित कर सकता हूं. मुझे लगता है कि मुझे वनडे में चयनकर्ताओं द्वारा ठीक से इस्तेमाल नहीं किया गया है.

टेस्ट में हम चारों ही हैं अनुभवी गेंदबाज

उमेश यादव टीम इंडिया में अंदर-बाहर होने वाले गेंदबाज हैं. हाल ही में न्यूजीलैंड दौरे पर उन्हें पहले मैच की प्लेइंग इलेवन का हिस्सा नहीं बनाया गया था. मगर इशांत शर्मा के इंजर्ड होने के बाद उन्हें दूसरे मैच की प्लेइंग इलेवन में खेलने का मौका मिला था. जहां वह 1 विकेट ले पाए थे. टेस्ट में भारत के पास इशांत शर्मा, मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह की मंझी हुई अनुभवी तेज गेंदबाज इकाई है. इस बारे में उमेश यादव ने कहा,

थोड़ा बुरा तो लगता है, लेकिन आप बहुत अधिक शिकायत नहीं कर सकते हैं क्योंकि अन्य तीन इशांत शर्मा, मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह अच्छी गेंदबाजी कर रहे हैं. इसलिए मैं समझ सकता हूं कि टीम प्रबंधन के लिए, सही संतुलन प्राप्त करना आसान नहीं होगा. हम चारों अनुभवी गेंदबाज हैं.

मुझे भी मौके मिलें तो कर सकती हं अच्छा

उमेश यादव

अक्सर देखा जाता है कि उमेश यादव को घरेलू सरजमीं पर मौके मिलते हैं. लेकिन विदेशों में उन्हें प्राथमिकता नहीं दी जाती है. अब आगे बात करते हुए आगे उमेश ने कहा,

आप भारतीय जमीं पर अच्‍छा प्रदर्शन करते हैं तो आप पर एक छाप लग जाती है, जैसे उन पर लगी हुई है. ये थोड़ा अनुचित है. अगर मुझे विदेशी जमीन पर नियमित रूप से मौके मिले तो मैं भी अच्‍छा प्रदर्शन कर सकता हूं.

मुझे मुश्किल से एक साथ दो मैच मिल पाते हैं. अगर आप उन परिस्थितियों में ज्‍यादा नहीं खेलेंगे तो आप उन परिस्थितियों के बारे में ज्‍यादा नहीं सीख पाएंगे.

Related posts