विराट कोहली ने बताया कैसे शमशान में जाकर उन्होंने निभाया टीम इंडिया की विश्वकप जीत में अहम भाग | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

विराट कोहली ने बताया कैसे शमशान में जाकर उन्होंने निभाया टीम इंडिया की विश्वकप जीत में अहम भाग 

विराट कोहली ने बताया कैसे शमशान में जाकर उन्होंने निभाया टीम इंडिया की विश्वकप जीत में अहम भाग

सचिन के जीवन पर बनी फिल्म सचिन अ बिलियन ड्रीम्स 26 मई को रिलीज हो गयी जिसके बाद उनके जीवन से जुड़े कई सारे पहलू अब उनके प्रशंसको के सामने आ रहे है, जिसमे उन्होंने सभी को बताया कि कैसे उन्होंने क्रिकेट को अपना पूरा जीवन मान लिया था और उनके पिता जी ने उनसे क्रिकेट को लेकर क्या कहा था, सचिन के जीवन में किसने उन्हें उनके क्रिकेटिंग जीवन के दौरान सबसे अधिक हेल्प की ये सारी बाते सचिन ने अपनी फिल्म में बाताई.सचिन तेंदुलकर की फिल्म को लेकर विवादित ट्वीट करने वाले केआरके की सचिन के फैंस ने लगाई क्लास, ट्वीटर पर उड़ रहा हैं केआरके का मजाक

सचिन हैं सभी के आदर्श

भारतीय क्रिकेट में शायद ही कोई ऐसा खिलाड़ी होगा जो सचिन का फैन ना रहा हो और आज की वर्तमान टीम में मौजूद सभी खिलाड़ी उनके फैन रहे है और उनके खेल को देख कर ही क्रिकेट खेलना सीखे है, यदि बात की जाए इस समय वर्तमान भारतीय कप्तान विराट कोहली की तो उनके सबसे बड़े आदर्श सचिन तेंदुलकर ही रहे है जिनको उन्होंने अपने बचपन से खेलते हुए देखा है और उनसे काफी कुछ सिखा है, उन्होंने भी सचिन की इस फिल्म में उनसे जुड़ा एक किस्सा सभी को बताया है.

मुझे ऐसा लगा कि मैं किसी शमशान में जा रहा हूँ

कोहली ने 2011 के वर्ड कप के फाइनल मैच के बारे में इस फिल्म में बताया है जब सचिन तेंदुलकर को लसिथ मलिंगा ने आउट कर दिया था और उसके बाद उन्हें क्रीज पर बल्लेबाजी करने के लिए जाना था, कोहली ने कहा कि “उस समय मेरे दिमाग में तुरंत जो ख्याल आया था वह शिट मैं अंदर जा रहा हूँ और वे बाहर आ रहे है, मुझे ऐसा लग रहा था, कि मैं किसी शमशान में जा रहा हूँ, लोग उनके साथ ऐसे जुड़े हुए है, कि जो कुछ उनके साथ हो रहा है बस उसी पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे है, ऐसा अपना प्रभाव उन्होंने बना कर रखा हुआ था.”‘सचिन: अ बिलियन ड्रीम्स’ देखने के बाद पहली बार बोले विनोद कांबली, ट्वीट कर कही एक बड़ी बात

उनका खेल प्रति जूनून ही अलग है

कोहली ने सचिन की इस बायोपिक फिल्म में कहा, कि जब मैंने उन्हें नेट्स में प्रेक्टिस करते हुए देखा जिसमे उस समय हमारे कोच गैरी कर्स्टन उन्हें गेंद को फेकते तो और वे आख बंद करके बिलकुल सही जगह हिट कर देते थे तो उनका बॉल सेन्स उनकी काबिलियत और खेल के बारे में उनकी चतुर समझ यह अविश्वसनीय था.सारा तेंदुलकर ने किया खुलासा, ‘सचिन अ बिलियन ड्रीम’ का यह दृश्य रहा सबसे खूबसूरत

सचिन ने सहवाग को टॉयलेट भी नहीं जाने दिया

वर्ड कप 2011 के फाइनल मैच में जब सचिन आउट होकर पवेलियन चले गए तो उसके बाद वे सहवाग के साथ ड्रेसिंग रूम में जाकर बैठ गए और भारत के जीतने तक वहीँ पर ही बैठे रहे उनके साथ उस समय सहवाग भी थे जिनको उन्होंने हिलने भी नहीं दिया इसी पर सहवाग ने उनकी इस बायोपिक में खुलासा करते हुए कहा कि “जब मैं उनके साथ बैठा था उनके साथ बातें करता रहा मुझे नहीं उम्मीद थी कि वे पूरे मैच में मुझे उठने भी नहीं देंगे उन्होंने मुझसे कहा कि बाहर जा कर क्या देखेगा जो टीवी पर दिख रहा है वही दिखेगा और आखिरी रन बनने तक तू यहीं पर बैठा रहेगा जिसके बाद मैं वहीँ बैठा रहा और टॉयलेट भी नहीं गया.

Related posts