यूएस में आमने-सामने हो सकते हैं धोनी और कोहली

reyansh chaturvedi / 29 May 2016

क्रिकेट डेस्‍क। आईपीएल को पूरी दुनिया में और प्रसिद्ध करने के उद्देश्‍य से एक कदम उठाने पर विचार किया जा रहा है। इसके तहत आईपीएल की तीन टीमें जिनमें रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, मुंबई इंडियंस और राइजिंग पुणे सुपरजायंट्स शामिल हैं को संयुक्‍त राज्य अमेरिका में खेलते हुए देखा जा सकता है। अंग्रेजी अखबार टाइम्‍स ऑफ इंडिया में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक इन टीमों की फ्रेंचाइजी ने अमेरिका में खेलने की इच्‍छा जताई है। इसके पीछे का एक कारण यह भी माना जा रहा है कि अमेरिका में दक्षिण एशियाई मूल के और भारतीय मूल के लोग काफी संख्‍या में रहते हैं।

इन परिस्थितियों में अगर महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली जैसे पॉपुलर खिलाड़ी वहां पर खेलेंगे तो यह आईपीएल की ख्‍याति के लिहाज से बहुत ही फायदेमंद साबित हो सकता है।

इस संबंध में बीसीसीआई का कहना है कि इस पर जल्‍द ही निर्णय लिया जाएगा। इसके साथ ही उन्‍होंने बताया कि मैचों के आयोजन को ले‍कर दुविधा नहीं है क्‍योंकि इनकी मेजबानी हॉस्‍टन को दी जा सकती है। अभी मैचों की तारीखों को लेकर कोई फैसला नहीं लिया गया है लेकिन ऐसी संभावना जताई जा रही है कि इनका आयो‍जन सिंतबर माह में कराने पर विचार किया जा सकता है। मैचों को सिंतबर में कराने का फैसला इसलिए भी लिया जा सकता है क्‍योंकि जून में भारतीय टीम जिम्‍बाव्‍वे के दौरे पर जाएगी और जुलाई अगस्‍त में उसे वेस्‍टइंडीज का दौरा करना है।

रिपोर्ट में बताया गया है, कि हॉस्‍टन को आयोजन देने में प्राथमिकता दी जा रही है। इसके पीछे का कारण है हॉस्‍टन के पास कई केंद्र है और वह ऐसा करने में काफी सफल साबित हो सकता है।

यह बीसीसीआई के लिए एक बहुत ही शानदार मौका है अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर अपना बाजार बनाने का और खासतौर पर अमेरिका जैसे देश में। इसके साथ ही इस आयोजन से बीसीसीआई को इस बात का भी अंदाजा लग जाएगा कि इस छोटे प्रारूप को किस प्रकार की प्रतिक्रिया प्राप्‍त होती है। इसके आधार पर वह आगे के लिए काफी कुछ सोच सकता है।

गौरतलब है कि अंतिम वर्ष नवंबर में अमेरिका में ही ऑल स्टार सीरीज का आयोजन किया गया था जिसमें रिटायर हो चुके क्रिकेटरों ने हिस्‍सा लिया था और दर्शकों द्वारा इसे काफी पसंद भी किया गया था। अगर इन तीनों टीमों को हॉस्‍टन में खेलने का मौका मिलता है और यह टूर्नामेंट सफल हो जात है तो इसका दायरा और भी बढ़ाया जा सकता है।