वीरेंद्र सहवाग ने कहा, भारत विश्व कप के सेमीफाइनल में जरुर पहुंचेगा लेकिन इस वजह से सतर्क रहने की जरूरत

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

वीरेंद्र सहवाग ने कहा, भारत विश्व कप के सेमीफाइनल में जरुर पहुंचेगा लेकिन इस वजह से सतर्क रहने की जरूरत 

वीरेंद्र सहवाग ने कहा, भारत विश्व कप के सेमीफाइनल में जरुर पहुंचेगा लेकिन इस वजह से सतर्क रहने की जरूरत

भारतीय टीम के खिलाड़ी आईपीएल की समाप्ति के साथ ही विश्व कप की तरफ देखने लगे हैं। विश्व कप की शुरुआत 30 मई से हो रही है। इसके लिए भारतीय टीम ट्रॉफी जीतने की प्रबल दावेदार मानी जा रही है। इसके बावजूद टीम की कई परेशानी भी है। इस टूर्नामेंट में भारत के प्रदर्शन के बारे में वीरेंद्र सहवाग ने अपनी राय रखी है।

2011 और 2019 की टीम में बताया अंतर

वीरेंद्र सहवाग

वीरेंद्र सहवाग 2011 विश्व कप विजेता टीम का हिस्सा थे और उनका मानना है कि उस टीम को हार्दिक पांड्या जैसा ऑलराउंडर नहीं था। इस टीम में उनके जैसा बेहतरीन ऑलराउंडर है। इस बारे उन्होंने क्रिकबज पर कहा

“मैं 2011 विजेता टीम का हिस्सा था लेकिन हमारे पास टॉप का ऑलराउंडर नहीं था, जो आज हार्दिक पांड्या के रूप में विराट कोहली की टीम में है। हमारे पास 6 बेहतरीन बल्लेबाज और 4 बेहतरीन गेंदबाज हैं और फिर हार्दिक जैसा ऑलराउंडर है।”

सतर्क रहने की भी जरूरत

वीरेंद्र सहवाग ने कहा, भारत विश्व कप के सेमीफाइनल में जरुर पहुंचेगा लेकिन इस वजह से सतर्क रहने की जरूरत 1

इसके साथ ही वीरेंद्र सहवाग ने टीम को सतर्क रहने की भी सलाह दी है। इंग्लैंड में मैच के शुरुआत में तेज गेंदबाज को मदद मिलती है और इसी वजह से सहवाग के अनुसार सलामी बल्लेबाजों पर अधिक जिम्मेदारी रहने वाली है। उन्होंने कहा

“मुझे एक ही चिंता का विषय लगता है कि इंग्लैंड में कई गेंद संभल कर खेलना पड़ेगा। इसी वजह से रोहित शर्मा, शिखर धवन और विराट कोहली मिलकर नई गेंद निकाल देते हैं तो हम विश्व कप जीत सकते हैं।”

सेमीफाइनल जरुर खेलेंगे

वीरेंद्र सहवाग

भारतीय टीम को विश्व कप में पहला मैच दक्षिण अफ्रीका, फिर ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और पाकिस्तान से खेलना है। वीरेंद्र सहवाग के अनुसार टीम को इन मैचों में अच्छा प्रदर्शन करना होगा और ऐसा करती है तो सेमीफाइनल जरुर खेलेगी। उन्होंने कहा

“पहले चार मैच है वी जबरदस्त मैच हैं। उनमें अच्छा प्रदर्शन रहा तो हम सेमीफाइनल जरुर खेलेंगे। सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड सामने नहीं होती है तो हम आसानी से फाइनल भी खेल सकते हैं। पहले एक दो मैच में टीम संभल कर खेले और उनके बाद बिना किसी दवाब के खुलकर खेले।”

Related posts