वीरेंद्र सहवाग ने बताया, दादा के सामने 18 साल पहले रखी शर्त

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

वीरेंद्र सहवाग ने किया खुलासा- ओपनिंग करने से पहले सौरव गांगुली के सामने रखी थी ये शर्त 

वीरेंद्र सहवाग ने किया खुलासा- ओपनिंग करने से पहले सौरव गांगुली के सामने रखी थी ये शर्त

भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल ओपनर की लिस्ट में शामिल वीरेंद्र सहवाग अपनी विस्फोटक पारियों के अलावा अपने मजाकिया अंदाज के लिए पहचाने जाते हैं. सहवाग ने टेस्ट क्रिकेट में भारत के लिए 3 तिहरे शतक लगाने वाले खिलाड़ी ने बीसीसीआई पुरस्कार समारोह में सहवाग ने यहां एमएके पटौदी स्मारक व्याख्यान में अपने टेस्ट करियर में ओपनिंग करियर के दौरान, कप्तान गांगुली के सामने रखी गई शर्त का खुलासा किया.

वीरेंद्र सहवाग ने रखी थी गांगुली के सामने शर्त

वीरेंद्र सहवाग

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान सौरव गांगुली ने अपनी कप्तानी के दौरान भले ही आईसीसी ट्रॉफी न जीती हो लेकिन उन्होंने टीम इंडिया को तमाम मैच विनर खिलाड़ी बनाकर दिए. जिनमें से एक वीरेंद्र सहवाग हैं. बीसीसीआई पुरस्कार समारोह में सहवाग ने यहां एमएके पटौदी स्मारक व्याख्यान में अपने टेस्ट करियर में बतौर ओपनर मिले मौके के बारे में बात करते हुए उस शर्त का खुलासा किया जो उन्होंने अपने कप्तान सौरव गांगुली के सामने रखी थी. सहवाग ने कहा,

17, 18 साल पहले एक व्यक्ति ने मुझसे टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग के लिए पूछा था. उस वक्त मैं काफी नर्वस था, क्योंकि मध्य क्रम में बल्लेबाजी करने में और ओपनिंग करने में काफी अंतर होता है.

तब मैंने दादा के सामने शर्त रखी कि यदि मैं बतौर टेस्ट ओपनर फेल हो जाता हूं तो वह मुझे फिर चांस देंगे…

‘चार दिन की चांदनी होती है टेस्ट नहीं’

वीरेंद्र सहवाग

आईसीसी द्वारा टेस्ट क्रिकेट को 5 दिन से घटाकर 4 दिन के किए जाने के प्रस्ताव पर वीरेंद्र सहवाग ने कहा,

चार दिन की चांदनी होती है, टेस्ट मैच नहीं…जल की मछली जल में अच्छी है, बाहर निकालों तो मर जाएगी. टेस्ट क्रिकेट को चंदा मामा के पास ले जा सकते हैं.

हम डे-नाइट टेस्ट खेल रहे हैं, लोग शायद ऑफिस के बाद मैच को देखने के लिए आए. नयापन आना चाहिए लेकिन पांच दिन में बदलाव नहीं किया जाना चाहिए.

Related posts