वीरेंद्र सहवाग

पूर्व सलामी बल्लेबाज और आजकल कमेंट्री पैनल में नजर आने वाले वीरेंद्र सहवाग अक्सर अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर मजाकिया ट्वीट करते रहते हैं। लेकिन कई बार वीरु मजाक-मजाक में बड़ी-बड़ी बातें बोल जाते हैं। आज उन्होंने अपने ट्विटर हैंडिल पर ट्वीट शेयर कर भारतीय क्रिकेट टीम का सिलेक्टर बनने की इच्छा जताई है।

सहवाग बनना चाहते हैं टीम इंडिया के चयनकर्ता

 

क्रिकेट से रिटायर के होने के बाद वीरेंद्र सहवाग ज्यादातर ट्वीटर पर अपने चुटीले ट्वीट और दमदार हिंदी कमेंटरी को लेकर चर्चा में रहते हैं। इसी क्रम में उन्होंने कोच नहीं बल्कि भारतीय क्रिकेट टीम का सिलेक्टर बनने की इच्छा जताते हुए लिखा-मुझे सिलेक्टर बनना है… कौन मुझे मौका देगा ? 

सहवाग ने इस ट्वीट के जरिए न जाने किसपर निशाना साधा लेकिन फिलहाल इसपर फैंस लगातार अपनी प्रतिक्रिया जाहिर कर रहे हैं।

2017 में कोच बनने के लिए किया था आवेदन

मुख्य कोच नहीं बल्कि भारतीय टीम में इस पद पर आसीन होना चाहते हैं वीरेंद्र सहवाग 1

2017 में चैंपियंस ट्रॉफी के बाद उस वक्त टीम इंडिया के कोच अनिल कुंबले ने अपने पद से रिजाइन कर दिया था जिसके बाद क्रिकेट की दुनिया में अपने नाम का लोहा मनवाने वाले वीरेंद्र सहवाग ने साल 2017 में मुख्य कोच पद के लिए आवेदन किया था, लेकिन वह भारतीय क्रिकेट टीम के कोच नहीं बन सके।

जिसके बाद उन्होंने एक इंटरव्यू के दौरान कहा था कि उनकी बीसीसीआई में सैटिंग नहीं थी इसलिए वह कोच नहीं बन सके। उनके इस बयान को पूर्व कप्तान और तीन सदस्यीय चयन समिति के मैंबर गांगुली ने मूर्खता पूर्ण बताया था। असल में सहवाग उस पद पर अपनी दावेदारी जता रहे हैं, जिसके लिए असल में वो जरुरी अहर्ता भी नहीं रखते थे।

बीसीसीआई ने कोच पद के लिए जो जरुरी अहर्ताएं रखी थी, उसमें आईसीसी के किसी भी मेंबर टीम के राष्ट्रीय टीम अथवा फर्स्ट क्लास टीम को कोचिंग का अनुभव भी शामिल था।  जबकि सहवाग के पास ऐसा कोई अनुभव नहीं है।

बावजूद इसके चयन समिति ने कोच के लिए सहवाग को आगे आने के लिए कहा था और साथ ही सहवाग को इंटरव्यू के लिए भी बुलाया गया था। परिणामस्वरूप रवि शास्त्री को टीम इंडिया का कोच बनाया गया था।