वीरेंद्र सहवाग

टीम इंडिया के पूर्व विस्फोटक सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने साल 2019 की अपनी बेस्ट परियां चुनी है. सबसे आश्चर्यजनक बात यह है कि सहवाग ने विश्व की सबसे अच्छी परियों की लिस्ट में न तो विराट कोहली और न ही एमएस धौनी को स्थान दिया है.

वीरू ने अपनी इस लिस्ट में प्रॉपर बल्लेबाजों के अतिरिक्त उन खिलाड़ियों की भी पारियों को अपनी इस लिस्ट में स्थान दिया जो बल्लेबाजी से ज्यादा अपनी गेंदबाजी के लिए ज्यादा जाने जाते हैं.उन्होंने इस लिस्ट में एक भी भारतीय खिलाड़ियों को जगह नहीं दी.

दरअसल वीरेन्द्र सहवाग ने क्रिकबज में एक शो के दौरान टेस्ट तथा वनडे की इस साल की सर्वश्रेठ पारियों के बारे में अपने विचार व्यक्त किये.  सहवाग ने सर्वप्रथम टेस्ट की तीन सबसे बेहतरीन पारियों का जिक्र किया है. इसके बाद उन्होंने वनडे में खेली गयी तीन लाजवाब पारियों के बारे में भी बताया है. सबसे पहले हम आपको सहवाग की इस साल की सबसे पसंदीदा टेस्ट पारियों के बारें में बताते हैं.

वीरेन्द्र सहवाग ने माना टेस्ट क्रिकेट की ये तीन पारियां है सर्वश्रेठ

1) कुसल परेरा ( नॉट आउट 153*)

वीरेन्द्र सहवाग ने इन 3-3 पारियों को बताया वनडे और टेस्ट की इस साल की सर्वश्रेष्ठ पारी, कई दिग्गज हुए नजरअंदाज 1

श्रीलंका के विस्फोटक ओपनर कुसल परेरा टेस्ट क्रिकेट में मध्यक्रम में बल्लेबाजी करते हैं. श्रीलंका के दिग्गज प्लेयर कुसल परेरा के नाम टेस्ट क्रिकेट की महानतम पारी खेलने का रिकार्ड दर्ज हैं. बहुत कम लोगों को पता है कि 29 साल के कुसल ने बीते साल श्रीलंका के गाले के मैदान पर साऊथ अफ्रीका टीम को अपने अकेले दम पर हरा दिया था. कुसल की इस पारी को द गोल्डन विलो में सर्वश्रेष्ठ चुना गया था. खास बात यह थी कि इस लिस्ट में डॉन ब्रैडमैन, और खुद वीरेंद्र सहवाग की पारी भी शामिल हैं.

कुसल की पारी की सबसे खास बात यह भी थी कि उन्होंने निचले क्रम के पांच खिलाड़ियों के साथ 194 रन की साझेदारी की थी. जबकि आखिरी दो विकेटों के साथ 89 रन की. कुसल की इस पारी को इसलिए भी त्वज्जो मिली क्योंकि जिस डरबन की पिच पर उन्होंने रन बनाए उसपर पिछले 10 टेस्ट मैचों में औसत स्कोर 200 के पास था. कुसल ने न सिर्फ सेंचुरी लगाई बल्कि कठिन पिच पर टीम का स्कोर 311 तक भी पहुंचाया था.

2) बेन स्टोक्स (नॉट आउट 135*)

वीरेन्द्र सहवाग ने इन 3-3 पारियों को बताया वनडे और टेस्ट की इस साल की सर्वश्रेष्ठ पारी, कई दिग्गज हुए नजरअंदाज 2

इसके बाद वीरेन्द्र सहवाग ने मौजूदा समय में इंग्लैंड के सबसे बेहतरीन ऑलराउंडर बेन स्टोक्स की एशेज सीरीज के दौरान खेली गयी 135 रनों की पारी को याद किया. आपको बता दें कि बेन स्टोक्स की इस पारी के बल पर ही इंग्लैंड सीरीज में बराबरी करने में सफल हुआ था. यह मैच आखिरी ओवर तक गया था. टेस्ट क्रिकेट जब आखरी ओवर तक जाता है तो उस मैच के रोमांच को आप खुद समझ सकते हो. जब भी टेस्ट क्रिकेट में बेन स्टोक्स की सबसे अच्छी पारी की बाद की जाएगी उसमें स्टोक्स की यह पारी सबसे ऊपर आएगी.

मैच की दूसरी पारी में इंग्लैंड को जीत के लिए 358 रन का असंभव लक्ष्य मिला था. ऐसा लग रहा था कि इंग्लैंड की हार पक्की है, लेकिन बेन स्टोक्स ने इस मैच में 219 गेंदों पर नाबाद 135 रन की पारी खेलकर टीम को मैच जीत दिया. बेन स्टोक्स ने 2010 के बाद एशेज में किसी टेस्ट मैच की चौथी पारी में शतक लगाने वाले पहले और दूसरे इंग्लिश बल्लेबाज बने थे. इससे पहले एशेज 2013 में उन्होंने मैच की चौथी पारी में 120 रन बनाए थे और अब एक बार फिर से उन्होंने नाबाद 135 रन की पारी खेलकर कमाल कर दिया था.

3) डेविड वार्नर (नॉट आउट 335*)

डेविड वॉर्नर

वीरेन्द्र सहवाग ने इन 3-3 पारियों को बताया वनडे और टेस्ट की इस साल की सर्वश्रेष्ठ पारी, कई दिग्गज हुए नजरअंदाज 3

ऑस्ट्रेलिया के विस्फोटक ओपनर डेविड वार्नर की नाबाद 335 रनों की पारी को सहवाग ने अपनी लिस्ट में तीसरे नंबर पर रखी है. वार्नर की यह पारी पाकिस्तान के खिलाफ आई थी. वॉर्नर ज‍िस अंदाज में बैट‍िंग कर रहे थे, ऐसा लग रहा था क‍ि वे शायद लारा के टेस्‍ट क्र‍िकेट में सर्वाध‍िक व्‍यक्‍त‍िगत स्‍कोर (नाबाद 400 रन) का र‍िकॉर्ड तोड़ने में कामयाब हो जायेंगे. हालांक‍ि ऑस्‍ट्रेल‍िया टीम की पहली पारी का स्‍कोर जब तीन व‍िकेट खोकर 589 रन था तब कप्‍तान ट‍िम पेन ने पारी घोष‍ित कर दी और वॉर्नर इस बड़े र‍िकॉर्ड तक पहुंचने का प्रयास भी नहीं कर सके.

वीरेन्द्र सहवाग की नजर में इस साल वनडे की ये तीन परियां है सबसे खास

1) थिशारा परेरा  140(74)

वीरेन्द्र सहवाग ने इन 3-3 पारियों को बताया वनडे और टेस्ट की इस साल की सर्वश्रेष्ठ पारी, कई दिग्गज हुए नजरअंदाज 4

वीरेन्द्र सहवाग ने इस साल की सबसे अच्छी पारी में सस्बे उपर श्रीलंका के थिशारा परेरा को रखा है. दरअसल न्यूजीलैंड के खिलाफ उसी के घर पर माउंट माउंगानुई के मैदान में 320 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए श्रीलंका को 128 रनों पर 7 झटके लग चुके थे. ऐसे में थिसारा परेरा ने मोर्चा संभाला और रनों की बारिश शुरू कर दी. उन्होंने 57 गेंदों में वनडे का अपना पहला शतक पूरा किया, जो श्रीलंका के लिए तीसरा सबसे तेज शतक है. उनसे कम गेंद में सनथ जयसूर्या ने दो बार 48 और 55 गेंद में शतक लगाया है. एक समय ऐसा लगने लगा की परेरा अकेले दम पर न्यूजीलैंड के जबड़े से इस मैच को निकाल ले जायेंगे.

लेकिन दुर्भाग्यवश, दूसरे छोर पर पुछल्लों के रहते परेरा टीम को जीत की दहलीज तक नहीं पहुंचा सके थे. श्रीलंकाई टीम 298 रनों पर सिमट गई. परेरा 47वें ओवर की दूसरी गेंद पर आखिरी विकेट के रूप में पवेलियन लौटे. थिशारा की इस पारी को श्रीलंका क्रिकेट इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों से लिखा जायेगा.

2) बेन स्टोक्स  84*(98)

वीरेन्द्र सहवाग ने इन 3-3 पारियों को बताया वनडे और टेस्ट की इस साल की सर्वश्रेष्ठ पारी, कई दिग्गज हुए नजरअंदाज 5

जब कीवी गेंदबाज़ इंग्लैंड के टॉप ऑर्डर बल्लेबाजों को पवेलियन भेज चुके थे तब बेन स्टोक्स क्रीज पर अंगद की भाति अपना पैर जमा लिया था और उनकी नॉट आउट 84 रनों की पारी ने पहले मैच को टाई तक पहुंचाया. इसके बाद सुपर ओवर में बने 15 रनों में स्टोक्स ने आठ रन बटोरे. हालांकि सुपर ओवर में भी मैच टाई हो गया. ऐसे में वर्ल्ड कप चैंपियन का फैसला बाउंड्री के आधार पर हुआ, इस मैच में बेन स्टोक्स के बल्ले से दो छक्कों सहित सात बाउंड्रीज निकलीं थीं.

ज़ाहिर है, इंग्लैंड अगर वर्ल्ड चैंपियन बना है तो उसमें सबसे बड़ा योगदान बेन स्टोक्स का रहा. तभी तो इंग्लिश कप्तान ओइन मोर्गन को कहना पड़ा था कि स्टोक्स ऑलमोस्ट सुपर ह्यूमन जैसे हैं. बेन स्टोक्स की इस पारी को सहवाग ने दुसरे नंबर पर रखा है.

3) कूल्टर नाईल 92(60)

वीरेन्द्र सहवाग ने इन 3-3 पारियों को बताया वनडे और टेस्ट की इस साल की सर्वश्रेष्ठ पारी, कई दिग्गज हुए नजरअंदाज 6

वीरेन्द्र सहवाग ने तीसरे नंबर पर ऐसे बल्लेबाज की पारी को रखा जो बल्लेबाजी से ज्यादा अपनी गेंदबाजी के लिए जाना जाता है. दरअसल  विश्व कप 2019 के 10वें मैच में वो हुआ था जिसकी कल्पना शायद ही किसी ने की होगी. इस मैच में पहली पारी में वेस्टइंडीज के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया की टीम ने 79 रन पर अपने 5 विकेट गंवा दिए थे. ऐसा लगा रहा था कि ये टीम शायद ही 150 के आंकड़े को छू पाए, लेकिन इस मैच में आठवें नंबर पर बल्लेबाजी के लिए उतरने वाले नाथन कुल्टर नाइल ने अपनी जिंदगी की सबसे बेहतरीन पारी खेली और टीम के स्कोर को 288 तक पहुंचा दिया.

वर्ल्ड कप में ऑस्ट्रेलिया के लिए आठवें नंबर या उसके बाद खेलते हुए किसी खिलाड़ी का बेस्ट स्कोर 64 रन था. ये कमाल वर्ष 2003 में एंड्रयू बिकेल ने इंग्लैंड के खिलाफ पोर्ट एलिजाबेथ में किया था. उस मैच में कुल्टर नाइल ने इस रिकॉर्ड को तोड़ दिया था और इस नंबर पर सबसे ज्यादा रन बनाने वाले ऑस्ट्रेलिया के पहले बल्लेबाज बन गए हैं.