टेस्ट सीरीज से पहले वीवीएस लक्ष्मण ने भारतीय टीम की सबसे बड़ी कमजोरी बताई

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज से पहले वीवीएस लक्ष्मण ने भारतीय टीम की सबसे बड़ी कमजोरी बताई 

न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज से पहले वीवीएस लक्ष्मण ने भारतीय टीम की सबसे बड़ी कमजोरी बताई

पृथ्वी शॉ और मयंक अग्रवाल की ओपनिंग जोड़ी अभ्यास मैच की पहली पारी में न्यूजीलैंड ए के खिलाफ कुछ ख़ास नहीं कर पाई थी, लेकिन दोनों ओपनर बल्लेबाजों ने दूसरी पारी में भारतीय टीम को शानदार शुरूआत दिलाई थी. दोनों ने दूसरी पारी में पहले विकेट के लिए 72 रन जोड़े थे. मयंक अग्रवाल ने दूसरी पारी में जहां 99 गेंदों पर 80 रन बनाकर रिटायर हर्ट हुए थे. वहीं पृथ्वी शॉ ने मात्र 31 गेंदों पर 39 रन की एक विस्फोटक पारी खेली थी.

ओपनिंग भारतीय टीम की कमजोरी

न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज से पहले वीवीएस लक्ष्मण ने भारतीय टीम की सबसे बड़ी कमजोरी बताई 1

वनडे सीरीज और अभ्यास मैच की पहली पारी में फ्लॉप हुई पृथ्वी शॉ और मयंक अग्रवाल की जोड़ी को लेकर वीवीएस लक्ष्मण ने अपनी चिंता जाहिर की है. उन्होंने अपने एक बयान में कहा, “सबसे ज्यादा दवाब टीम इंडिया के ओपनर बल्लेबाजों पर होगा. मयंक जहां एक तरफ वनडे सीरीज में अच्छा नहीं कर पाए थे तो वहीं उन्होंने प्रैक्टिस मैच की पहली पारी में खाता भी नहीं खोल पाए थे. इसके बाद पृथ्वी शॉ और शुभमन गिल दोनों अनुभवहीन हैं. अगर हमें न्यूजीलैंड पर दवाब बनाना है तो आपको पहली पारी में बड़ा स्कोर बोर्ड पर टांगना होगा. भारतीय बल्लेबाजी इस बात पर ज्यादा निर्भर करेगी कि वो नई गेंद के साथ मेजबान टीम के गेंदबाजों से कैसे निपटेंगे.

 
पहले टेस्ट मैच में भारतीय ओपनर बल्लेबाज काफी दवाब में रहने वाले हैं. टेस्ट सीरीज में भारत की जीत इस बात पर निर्भर करेगी कि टीम के ओपनर बल्लेबाज के साथ-साथ अन्य बल्लेबाज भी नई गेंद से किस तरह से न्यूजीलैंड के गेंदबाजों का सामना करेंगे.”

मयंक ने कहा, आत्मविश्वास के साथ आगे बढूंगा

न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज से पहले वीवीएस लक्ष्मण ने भारतीय टीम की सबसे बड़ी कमजोरी बताई 2

अभ्यास मैच के ड्रा हो जाने के बाद भारतीय ओपनर मयंक अग्रवाल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी, जिसमे उन्होंने कहा था, “न्यूजीलैंड में खेलना काफी अलग है, लेकिन जो कुछ भी हुआ मैं उसे पीछे छोड़कर आगे बढ़ना चाहता हूं. हां, मैंने अभ्यास मैच की दूसरी पारी में 81 रन बनाए और मैं इस आत्मविश्वास को टेस्ट सीरीज में ले जाना चाहता हूं.”

मयंक अग्रवाल ने आगे अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था, “विक्रम सर और मैंने बैठकर बात की कि हमें कहां सुधार करने की जरूरत है. हमने उस पर काम भी किया. मैं जब पहली पारी में आउट हो गया तो मैं नेट्स में गया. कई गेंदें खेलीं. मैं इस बात से खुश हूं कि जिस पर मैंने काम किया उसमें मैं काफी सफल रहा.”

Related posts