इतिहास के पन्नों से : कुंबले की ऐतिहासिक 10 विकेट को रोकने के लिए वकार यूनिस ने किया था ये शर्मनाक कारनामा | Sportzwiki

Trending News

Blog Post

एडिटर च्वाइस

इतिहास के पन्नों से : कुंबले की ऐतिहासिक 10 विकेट को रोकने के लिए वकार यूनिस ने किया था ये शर्मनाक कारनामा 

इतिहास के पन्नों से : कुंबले की ऐतिहासिक 10 विकेट को रोकने के लिए वकार यूनिस ने किया था ये शर्मनाक कारनामा

7 फ़रवरी एक ऐसा दिन, जिस दिन अनिल कुंबले के नाम एक बहुत ही शानदार रिकॉर्ड जुड़ गया था. आज ही के दिन 1999 में अनिल कुंबले ने दिल्ली के फिरोज शाह कोटला मैदान में पाकिस्तान के खिलाफ़ टेस्ट मैच की एक इनिंग में 10 विकेट लिए थे और ऐसा कारनामा करने वाले दुनिया के दूसरे गेंदबाज़ बन गए थे. उनसे पहले यह कारनामा इंग्लैंड के स्पिनर गेंदबाज़ जिम लेकर ने किया था. विडियो : एकदिवसीय क्रिकेट के इतिहास में पहली बार इस कारण रोकना पड़ा मैच

इस मैच के दौरान भारत ने आखिरी इनिंग में पाकिस्तान के लिए 420 रनों का लक्ष्य दिया था, जिसे पाने के लिए पाकिस्तान टीम के पास पूरे 2 दिन थे और पाकिस्तान इस मैच को जीत भी सकती थी और ड्रा भी करा सकती थी, लेकिन अनिल कुंबले की ऐतिहासिक गेंदबाज़ी ने पाकिस्तान को यह मैच हारने पर मजबूर कर दिया.

420 रनों के लक्ष्य का पीछा करने के लिए पाकिस्तान की तरफ़ से सलामी बल्लेबाज़ सईद अनवर और शाहिद अफ़रीदी ने शानदार बल्लेबाज़ी की शुरुआत की और अपनी साझेदारी को शतकीय साझेदारी बना दिया, लेकिन तभी गेंदबाज़ी करने आये अनिल कुंबले ने अपनी स्पिन गेंद का जादू दिखाना शुरू किया और सबसे पहले 101 रन पर शाहिद अफ़रीदी को कीपर नयन मोंगिया के हाथों से कैच आउट करवाया. पहली विकेट गिरने के बाद अनिल कुंबले ने अपना जादू जारी रखा और मात्र अगले 27 रन में ही पाकिस्तान टीम के 6 विकेट ले लिए, लेकिन उसके बाद वसीम अकरम ने फिर से पाकिस्तान टीम के लिए मेहनत करते हुए 37 रन बनाये, लेकिन उसके बावज़ूद भी अनिल कुंबले ने भारत टीम को ऐतिहासिक जीत दिलाई. बर्थ डे स्पेशल : ग्रेम स्मिथ के नाम दर्ज है, क्रिकेट इतिहास का सबसे बड़ा रिकॉर्ड, जो आज भी है कायम

कुछ समय के बाद इस मैच के बारे में पता चला, कि जब वकार यूनिस और वसीम अकरम बल्लेबाज़ी कर रहे थे, तब वकार यूनिस रन आउट होना चाहते थे, ताकि अनिल कुंबले 10 विकेट न ले पाए, लेकिन वसीम अकरम ने उन्हें रोका और कहा, कि हम ऐसा कुछ नहीं करना चाहेंगे, हम पूरी तरह से जितना बल्लेबाज़ी कर सकते है, तब तक करेंगे.

Related posts