पाकिस्तान क्रिकेट की हालत से चिंतित है वकार युनिस

SAGAR MHATRE / 24 March 2015

पाकिस्तान के वर्तमान कोच वकार युनीस का मानना है, किअगर दुसरें देश ऐसें ही उनकें देश में क्रिकेट खेलनें सें मना करतें रहें, तो पाकिस्तान में क्रिकेट खत्म हो जाएगा.पाकिस्तान में 2009 सें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं हो रहा, जब सें श्रीलंका टीम कें उपर हमला हुआ था, और उसमें 7 खिलाडियों को चोट लगी थी. तब से कोई भी देश पाकिस्तान में खेलने को तैयार नहीं है.

 एएफपी सें बातचीत में वकार नें कहा:

“सबसें बडी दुख की बात है, कि हमारें देश में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं होता.उन्होंने कहा की हमारे देश में क्रिकेटखत्म हो रहा है, और जूनियर लेवल पर अच्छे खिलाडी भी नहीं मिल रहें है. हमें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को जल्द सें जल्द हमारे देश में वापस लाना चाहिए.”

क्वार्टर फाइनल में आँस्ट्रेलिया कें खिलाफ हार पर वकार नें कहा कि, “हमें अपनें क्रिकेट को अच्छा करना होगा.अगर हमें पाकिस्तान क्रिकेट को बचाना है, तो हमारे प्रथमश्रेणी क्रिकेट को अच्छा करना होगा, हम दुसरें टीमों सें बहुत पिछे हैं.हमें काफी आक्रमक खिलाडी तैयार करनें होंगे, जो बडे स्कोर करें, पाकिस्तान नें इस विश्वकप में सिर्फ़ एक बार 300 रन बनाऐ.क्रिकेट बहुत आगें बढ गयी है, और हमें उसकें साथ चलना होगा.पाकिस्तान को एक अच्छे बल्लेबाज की जरुरत है, जो कठिन समय में बडा स्कोर करें.हमारी गेंदबाजी कभी भी कमजोर नहीं थी, और इस विश्वकप में हमनें जैसी गेंदबाजी कि उसपर हमें गर्व है.काफी समय सें हमारी बल्लेबाजी बहुत ही खराब चल रहीं है, और अब मिस्बाह और अफरीदी कें जानें कें बाद हमारी बल्लेबाजी और भी कमजोर होगी.विश्वकप जीतना ही सब कुछ नहीं है, लेकिन हमे पाकिस्तान में क्रिकेट को और सुधारना होगा.”

Related Topics