जानिए 19 वर्षीय युवा खिलाड़ी का नाम कैसे पड़ा वॉशिंगटन सुंदर

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

वॉशिंगटन सुंदर के पिता ने इस वजह से रखा था उनका अंग्रेजो वाला यह स्पेशल नाम 

वॉशिंगटन सुंदर के पिता ने इस वजह से रखा था उनका अंग्रेजो वाला यह स्पेशल नाम

भारतीय क्रिकेट टीम के उभरते हुए युवा सितारे वॉशिंगटन सुंदर के नाम से तो अब तक आप सभी परिचित हो गए होंगे। उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ डेब्यू करके गेंदबाजी करते हुए एक विकेट झटका, लेकिन आखिरी में छक्का मारकर टीम इंडिया को जीत दिलाकर उन्होने सभी क्रिकेट फैंस का दिल जीत लिया है। आइए आपको बताते हैं कि वॉशिंगटन के नाम के पीछे की कहानी कि आखिर उनका नाम पड़ा कैसे।

वॉशिंगटन सुंदर के नाम के पीछे यह है स्टोरी

वॉशिंगटन सुंदर

19 वर्षीय युवा खिलाड़ी का नाम उनके पिता ने रखा था। असल में इनके पिता एम सुंदर भी एक क्रिकेटर थे और वह क्रिकेट से काफी प्यार करते थे, लेकिन बदकिमस्मती से उनका तमिलनाडु की टीम में सिलेक्शन नहीं हो पाया था। युवा खिलाड़ी के पिता के एक गॉडफादर थे जिनका नाम पी डी वॉशिंगटन था।

सुंदर की आर्थिक स्थिति खासा अच्छी नहीं थी। उस दौरान उनकी मदद करने के लिए जो हाथ उनके कंधों पर था उस शख्स का नाम पीडी वॉशिंगटन था। वॉशिंगटन ने उनकी किताबों को खरीदने, स्कूल की फीस भरने और क्रिकेट किट खरीदने में मदद की। सुंदर उन्हें अपना गॉडफादर मानते थे। पी डी वॉशिंगटन भी एक क्रिकेट प्रेमी थे।

सुंदर के गॉडफाइनल पी डी वॉशिंगटन का निधन 1999 में हुआ और इसी साल के अक्टूबर महीने में सुंदर का बेटा हुआ। सुंदर का वॉशिंगटन से काफी गहरा रिश्ता था। इसलिए उन्होंने डिसाइड कर लिया कि वह अपने बेटे का नाम अपने गॉडफादर के नाम पर ही रखेंगे और युवा खिलाड़ी का नाम वॉशिंगटन सुंदर रखा।

बल्लेबाज बनना चाहते थे सुंदर

वॉशिंगटन सुंदर के पिता ने इस वजह से रखा था उनका अंग्रेजो वाला यह स्पेशल नाम 1

आज बतौर ऑफ स्पिनर भारतीय क्रिकेट टीम में अपनी जगह बनाने वाले वॉशिंगटन सुंदर बचपन में बल्लेबाज बनना चाहते थे। लेकिन पूर्व भारतीय खिलाड़ी एम वेंकटरमन ने भांप लिया था, कि सुंदर में गेंदबाजी क्षमता है। वह एक अच्छे गेंदबाज बन सकते हैं।

लेकिन इस बात में कोई शक नहीं कर सकता कि सुंदर में बल्लेबाजी की भी खूबियां है। अपने डेब्यू मैच में छक्के से जीत दिलाकर उन्होंने यह साबित भी कर दिया कि वह गेंदबाजी के साथ-साथ टीम को जरूरत पड़ने पर वह बल्लेबाजी भी कर सकते हैं।

इसी के साथ सुंदर पहले ऐसे भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं, जिन्होंने टी-20 डेब्यू मैच की शुरूआत भी की और अंत भी किया है। आपको बता दें, सुंदर ने पहला ओवर किया और आखिर में छक्का मारकर जीत दिलाई और नाबाद पवेलियन लौटे।

Related posts