वसीम अकरम से पूछा गया सचिन या लारा किस खिलाड़ी को गेंदबाजी करने में होती थी परेशानी? दिया ये जवाब 1

पाकिस्तान के पूर्व दिग्गज गेंदबाज वसीम अकरम ने अपनी गेंदबाजी के दौरान सबसे मुश्किल बल्लेबाज का नाम बताया है. स्विंग के किंग वसीम अकरम ऐसे गेंदबाज थे जिनसे बड़े-बड़े बल्लेबाज भय खाते थे. ऐसे में इस गेंदबाज का किसी बल्लेबाज के लिए ऐसा बोलना उस बल्लेबाज कि महानता को दर्शाता है.

वसीम अकरम ने सचिन तथा लारा का नही बल्कि इस दिग्गज खिलाड़ी का लिया नाम

वसीम अकरम

इस दिग्गज क्रिकेटर ने न सचिन का नाम लिया न ही ब्रेन लारा का उन्होंने न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान का नाम लिया है. वसीम अकरम हमेशा से ही अपने शांत स्वाभाव के लिए जाने जाते रहे है. उन्होंने कभी भी बाकि गेंदबाजों की तरह मुह से आक्रामकता नहीं दिखाई. वसीम अकरम हमेशा अपनी गेंदबाजी में से अपनी आक्रामकता जाहिर करते थे.

रिवर्स स्विंग के शुल्तान वसीम अकरम ने फॉक्स क्रिकेट न्यूज़ चैनल के स्टूडियो में पैनल डिस्कशन के दौरान कहा-

यह जवाब देने के लिए काफी कठिन प्रश्न है, लेकिन मैं एक बल्लेबाज का नाम जरूर लेना चाहूँगा  और वो बल्लेबाज निश्चित तौर पर मार्टिन क्रो थे. यह बल्लेबाज हमेशा फ्रंट फुट पर बल्लेबाजी करता था. एक गेंदबाज के तौर पर हम इस चीज से बहुत निराश होते थे, और अंत में आकर हमें उनके खिलाफ छोटी गेंद का उपयोग करना पड़ता था. मार्टिन करो यही चाहते थे कि हम उन्हें छोटी गेंद करें. मैं यह इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि, उस समय कोई भी बल्लेबाज रिवर्स स्विंग के बारे में नहीं जनता था.

फॉक्स क्रिकेट ने वसीम अकरम के इस सवाल को अपने आधिकारिक ट्वीटर अकाउंट से ट्वीट भी किया है.

मार्टिन क्रो का पसंद शॉट था स्वीप

वसीम अकरम से पूछा गया सचिन या लारा किस खिलाड़ी को गेंदबाजी करने में होती थी परेशानी? दिया ये जवाब 2

अपने दिलकश शॉट से प्रशंसकों को दीवाना बनाने वाले न्यूजीलैंड के महान बल्लेबाज और पूर्व कप्तान स्वर्गीय मार्टिन क्रो का नाम क्रिकेट जगत में आज भी बड़ी इज्जत से लिया जाता है. उन्हें न्यूजीलैंड का सबसे महान बल्लेबाज माना जाता है और उनका स्विप शॉट खेलने का अंदाज बेहद शानदार था. क्रो को कैंसर की बीमारी के चलते मार्च 2016 में मात्र 53 वर्ष की अवस्था में दुनिया को अलविदा कहना पड़ा.

13 साल का करियर रहा
दाएं हाथ के बल्लेबाज रहे मार्टिन ने अपने 13 साल के करियर में कुल 77 टेस्ट और 143 वनडे मैच खेले थे. उन्होंने टेस्ट करियर में 17 शतकों के साथ 45.36 की औसत से कुल 5444 रन बनाए थे.