वसीम जाफर ने संन्यास के बाद टेस्ट क्रिकेट को लेकर कही ये बात

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

संन्यास लेते ही वसीम जाफर की बीसीसीआई को फटकार, इन 2 दिग्गज भारतीय खिलाड़ियों को नहीं मिला वो सम्मान जिसके वो हकदार 

संन्यास लेते ही वसीम जाफर की बीसीसीआई को फटकार, इन 2 दिग्गज भारतीय खिलाड़ियों को नहीं मिला वो सम्मान जिसके वो हकदार

भारतीय क्रिकेट के दिग्गज खिलाड़ी वसीम जाफर ने घरेलू स्तर पर काफी नाम कमाया, रन बनाए लेकिन उन्हें कभी वह पहचान नहीं मिल सकी जिसके वह हकदार रहे. राष्ट्रीय टीम से 2008 में बाहर होने के बाद लंबे वक्त तक घरेलू क्रिकेट खेलने के बाद 42 साल की उम्र में जाफर ने सभी क्रिकट फॉर्मेट्स से 4 मार्च को संन्यास का ऐलान कर दिया.

बदकिस्मती से नहीं कर सकता टीम में वापसी

संन्यास लेते ही वसीम जाफर की बीसीसीआई को फटकार, इन 2 दिग्गज भारतीय खिलाड़ियों को नहीं मिला वो सम्मान जिसके वो हकदार 1

वसीम जाफर ने सन् 2000 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू किया. 31 टेस्ट मैचों में 34.10 के औसत के साथ 1944 रन बनाए. मगर 2008 के बाद वसीम को टीम इंडिया में वापसी का मौका नहीं मिला. 42 वर्ष की उम्र तक घरेलू क्रिकेट में धाक जमाए रखने वाले वसीम ने 4 मार्च को संन्यास का ऐलान कर दिया. अब एक इंटरव्यू के दौरान घेरलू क्रिकेट के दिग्गज खिलाड़ी ने कहा,

मुझे लगता है कि मेरे पास बहुत सारे मौके थे. मैंने उन मौकों का फायदा उठाने की कोशिश की लेकिन बदकिस्मती से वापसी नहीं कर सका. ऐसा सिर्फ मेरे ही नहीं, ज्यादातर क्रिकेटरों के साथ होता है.

वे टीम में रहने लायक हैं लेकिन उन्हें मौका नहीं मिला क्योंकि दुर्भाग्य से कोई और आपको चुनता है और चीजों को तय करता है. लेकिन सच कहूं तो मैंने अपने स्ट्राइड में सब कुछ हासिल किया.

‘तीनों फॉर्मेट में फिट होने पर मिलेगा सम्मान’

तीनों फॉर्मेट्स की बात करते हुए जाफर ने आगे कहा,

आप किसी ऐसे व्यक्ति को वैल्यू नहीं दे सकते जो टी 20 क्रिकेट खेलता है क्योंकि आजकल इसकी मांग है. मुझे लगता है कि आज के युग में, क्रिकेटर को तीनों फॉर्मेट में खुद को ढालने की जरूरत है. आप केवल टेस्ट क्रिकेट नहीं खेल सकते हैं या आप केवल टी 20 क्रिकेट नहीं खेल सकते हैं.

आपको केवल तीनों फॉर्मेट में फिट होने पर पहचाना और सम्मानित किया जाएगा. मैं यह नहीं कह रहा हूं कि पुजारा का सम्मान नहीं किया जाता है, लेकिन फिर जाहिर है कि वह केवल टेस्ट क्रिकेट और कोई फॉर्मेट नहीं खेलते.

लक्ष्मण-राहुल को नहीं अदा की गई उनकी कीमत

वसीम जाफर

टी20 क्रिकेट के आने के बाद से क्रिकेट में काफी बदलाव आ गया है. युवा खिलाड़ी फटाफट फॉर्मेट की तरफ आकर्षित हो रहे हैं. जबकि पहले टेस्ट क्रिकेट को प्राथमिकता दी जाती थी. अब राहुल द्रविड़ व वीवीएस लक्ष्मण जैसे खिलाड़ियों का उदाहरण देते हुए जाफर ने कहा,

मुझे लगता है कि समय बदल गया है. यहां तक ​​कि मुझे लगता है कि मेरे समय में राहुल द्रविड़ या वीवीएस लक्ष्मण जैसे कई खिलाड़ियों को भी उतना नहीं मिला जिसके वह हकदार थे. टेस्ट मैच में उनके साथ खेलने वाला खिलाड़ी जानता है कि वे खिलाड़ी कितने महत्वपूर्ण हैं. लेकिन आप जानते हैं कि हमें समय के साथ चलना होगा.

अब टी 20 क्रिकेट को बहुत महत्व दिया जाता है. विज्ञापन वाले व मार्केटिंग बिजनेस वाले खिलाड़ियों को चाहते हैं, जिन्हें टीवी पर अधिक देखा जाता है या ऐसे खिलाड़ी जो ग्लैमरस हो और जिन्हें दर्शक पसंद करते हैं.

वसीम जाफर का क्रिकेट करियर

वसीम जाफर

विदर्भ क्रिकेट टीम के टॉप ऑर्डर विस्फोटक बल्लेबाज वसीम जाफर को भले ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अधिक मौके नहीं मिले हो, लेकिन जाफर ने घरेलू क्रिकेट में बड़ा नाम कमाया. अब यदि आंकड़ों पर गौर करें तो जाफर ने 260 फर्स्ट क्लास मैच खेलते हुए 50.67 के औसत के सात 19410 रन बनाए.

इसमें 57 शतक व 91 अर्धशतकीय पारी शामिल रही. इसके अलावा 118 लिस्ट ए मैचों में 44.08 के औसत से 10 शतक 33 अर्धशतक की मदद से 4849 रन बनाए. हालांकि जाफर ने घरेलू स्तर पर भी टी20 क्रिकेट कम ही खेला. 23 मैचों में 28.00 के औसत के साथ 616 रन बनाए. बताते चलें, आईपीएल 2020 के लिए किंग्स इलेवन पंजाब ने वसीम जाफर को बल्लेबाजी कोच नियुक्त किया है.

Related posts