काफी विवादों भरी रही हैं, भारतीय टीम के पूर्व कप्तान मोहम्मद अज़हरुद्दीन की प्रेम कहानी | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

काफी विवादों भरी रही हैं, भारतीय टीम के पूर्व कप्तान मोहम्मद अज़हरुद्दीन की प्रेम कहानी 

काफी विवादों भरी रही हैं, भारतीय टीम के पूर्व कप्तान मोहम्मद अज़हरुद्दीन की प्रेम कहानी

यह 1990 की बात है, जब भारतीय टीम के पूर्व कप्तान मोहम्मद अज़हरुद्दीन और 1980 की मिस इंडिया संगीता बिजलानी के बीच एक फोटोशूट के दौरान नजदीकियाँ आई थी. इस समय विराट कोहली दुनिया के सबसे बेहतरीन बल्लेबाज़ है: मोहम्मद अज़हरुद्दीन

उसके बाद मोहम्मद अज़हरुद्दीन और संगीता बिजलानी की प्रेम कहानी इतनी फ़ैल गयी, कि जब भी क्रिकेट के मैदान पर मोहम्मद अज़हरुद्दीन के प्रदर्शन में कोई अंतर आता, तो मीडिया हमेशा उससे संगीता बिजलानी पर निशाना साधती थी.

हालाँकि, संगीता बिजलानी से मिलने से पहले ही मोहम्मद अज़हरुद्दीन नौरीन नाम की लड़की से शादी कर चुके थे और उनसे उनके दो बेटे भी थे. उसके बाद भी मोहम्मद अजहरुद्दीन अपनी प्रेम कहानी को नहीं रोक पाए और दोनों के बीच और ज्यादा नजदीकियाँ बढ़ने लगी.

उसके बाद 1996 में नौरीन और मोहम्मद अज़हरुद्दीन ने एक दूसरे से तलाक़ ले लिया और उसके कुछ समय बाद ही मोहम्मद अज़हरुद्दीन और संगीता बिजलानी ने शादी करली. मोहम्मद अजहरुद्दीन के जन्मदिन पर कुछ इस तरह मिली उन्हें बधाई

फिर साल 2000 में मोहम्मद अज़हरुद्दीन की ज़िन्दगी में एक नया मोड़ आया, क्योंकि वह तीन वन डे मैचों की एक सीरीज में स्पॉट फिक्सिंग में फँस गए थे. मोहम्मद अज़हरुद्दीन इस फिक्सिंग में इतनी बुरी तरह से फँस गए, कि उन्हें क्रिकेट से आजीवन लगे बैन का सामना करना पड़ा. हालाँकि, उस समय भी उनकी पत्नी संगीता बिजलानी उनके साथ खड़ी रही.

आख़िरकार साल 2010 में इन दोनों की प्रेम कहानी का अंत आया और 14 साल साथ रहने के बाद इन दोनों ने अलग होने का फैसला किया.

उसके बाद साल 2011 में अज़हरुद्दीन को खबर आई, कि उनकी पहली पत्नी से हुए उनके बड़े बेटे अयाज़ की एक बाइक दुर्घटना में मृत्यु हो गयी है. उस समय मोहम्मद अज़हरुद्दीन लंदन में थे और वह वहाँ से वापस तुरंत वापस आये और अपने बेटे के लिए उन्होंने आँसू भी बहाए. मोहम्मद अज़हरुद्दीन ने हैदराबाद क्रिकेट संघ के खिलाफ़ किया केस दर्ज़

साल 2012 में आन्ध्र प्रदेश हाई कोर्ट ने मोहम्मद अज़हरुद्दीन पर लगे आजीवन बैन को हटा दिया और उनके ऊपर 2000 में लगे स्पॉट फिक्सिंग के आरोप को भी गलत बताया.

साल 2014 में मोहम्मद अज़हरुद्दीन राजनीति में उतरे और राजस्थान में स्थित सवाई माधोपुर के कांग्रेस एमपी बने.

Related posts