इतिहास के पन्नो से: जब एक ही पारी में 4 विकेटकीपर ने की विकेटकीपिंग, वजह जानकर आपको भी हो सकती है हैरानी | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

इतिहास के पन्नो से: जब एक ही पारी में 4 विकेटकीपर ने की विकेटकीपिंग, वजह जानकर आपको भी हो सकती है हैरानी 

इतिहास के पन्नो से: जब एक ही पारी में 4 विकेटकीपर ने की विकेटकीपिंग, वजह जानकर आपको भी हो सकती है हैरानी

वैसे तो क्रिकेट के खेल में रोजाना कई रिकॉर्ड बनते और टूटते है पर 25 जुलाई का दिन क्रिकेट के लिए एक ऐतिहासिक दिन है। सालों पहले 25 जुलाई के दिन क्रिकेट के इतिहास में एक ऐसा रिकॉर्ड बना कि जो ना पहले कभी बना था और ना आज तक दोबारा बना है।

मुख्य विकेटकीपर के चोटिल होने के बाद दूसरे विकेटकीपर की एंट्री 

इतिहास के पन्नो से: जब एक ही पारी में 4 विकेटकीपर ने की विकेटकीपिंग, वजह जानकर आपको भी हो सकती है हैरानी 1

25 जुलाई 1986 को क्रिकेट की दुनिया के दो बड़े देश इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच सीरीज़ का पहला टेस्ट मैच शुरू हुआ। यह टेस्ट मैच आज तक इसलिए याद किया जाता है, क्योंकि इंग्लैंड की ओर से इस मैच में पांच विकेट कीपर ने विकेटकीपिंग की थी। दरअसल, क्रिकेट का मक्का कहा जाने वाला इंग्लैंड के प्रतिष्ठित मैदान लॉड्स में पहले मैच की पहली पारी में जब इंग्लैंड के गेंदबाजी की शुरुआत की तो उनके मुख्य विकेटकीपर ब्रूस फ्रेंच चोटिल हो गए और उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाना पड़ा। अब इंग्लैंड के सामने समस्या खड़ी हो गई कि विकेटकीपिंग कौन करेगा, क्योेंकि उनकी टीम में कोई अतिरिक्त विकेटकीपर नहीं था। तभी इंग्लैंड के बल्लेबाज बिल एथी ने विकेटकीपिंग करने की जिम्मेदारी उठाई। बिल एथी ने कभी विकेटकीपिंग नहीं की थी लिहाजा इंग्लैंड के गेंदबाजों ने अपनी गेंद की रफ्तार कम रखने का फैसला किया। लेकिन फिर भी बिल एथी की अनुभवहीनता विकेटकीपिंग में साफ नजर आ रही थी। इस वजह से उन्हें जल्द ही विकेटकीपिंग से हटा दिया गया।

संन्यास ले चुके 45 वर्षीय पूर्व क्रिकेटर ने की विकेटकीपिंग

इतिहास के पन्नो से: जब एक ही पारी में 4 विकेटकीपर ने की विकेटकीपिंग, वजह जानकर आपको भी हो सकती है हैरानी 2

अब इंग्लैंड की समस्या और बढ़ चुकी थी क्योंकि उनके मुख्य विकेटकीपर चोटिल थे और जिसने भरपाई करने की कोशिश की वह भी हार मान चुके थे। ऐसे में अब कौन विकेट के पीछे का जिम्मा उठाए इस पर सवाल खड़ा हो गया था। उसी वक्त अपनी टीम को संकट में देखकर 2 साल पहले संन्यास ले चुके 45 वर्षीय पूर्व क्रिकेटर बॉब टेलर मैदान पर आते नजर आए और उन्होंने अपनी टीम के लिए विकेटकीपिंग भी की। बॉब उस दिन मैदान में एक प्रायोजक कंपनी के पीआर एजेंट के तौर पर बस अपनी नौकरी कर रहे थे। लेकिन अपनी टीम को संकट में देखकर वह अपना संन्यास भूल गए और मैदान में विकेटकीपिंग करने उतर पड़े। उस वक्त नियम ज्यादा सख्त नहीं होते थे, इसलिए उन्हें इजाजत मिल गई। क्रिकेट से इतने दिन दूर रहने और इतनी ज्यादा उम्र होने के बाद भी बॉब ने शानदार कीपिंग करते हुए पूरे दिन कीपिंग की। वह अगले दिन भी कीपिंग करने के लिए उतरे, लेकिन दोपहर के बाद उनकी हिम्मत ने जवाब दे दिया और वह मैदान से बाहर चले गए।

चौथे विकेटकीपर की हुई एंट्री

इतिहास के पन्नो से: जब एक ही पारी में 4 विकेटकीपर ने की विकेटकीपिंग, वजह जानकर आपको भी हो सकती है हैरानी 3

इंग्लैंड के सामने एक बार फिर समस्या पैदा हो गई तभी एंट्री हुई चौथे विकेटकीपर की। ख़ास बात यह है कि बॉबी पार्क्स नाम के इस चौथे विकेटकीपर ने कभी अंतराष्ट्रीय क्रिकेट खेला ही नहीं था। इंग्लैंड के घरेलू क्रिकेट में हैंपशर और केंट क्लब से खेलने वाले विकेटकीपर बॉबी पार्क्स मैदान पर उतर गए और विकेट के पीछे जिम्मेदारी संभालने लगे।

हैरानी की बात ये है कि इस मैच में कुछ ओवर विकेटकीपिंग करने के बाद भी उन्हें कभी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में आगाज करने का मौका नहीं मिला। तीन दिन तक इस टेस्ट मैच में यही खेल चलता रहा तब जाकर चौथे दिन इंग्लैंड के मुख्य विकेटकीपर इलाज कराकर वापस मैदान में उतरे और विकेटकीपिंग का जिम्मा उठाया। क्रिकेट इतिहास में यह एक ऐसी घटना थी जो ना पहले कभी हुई थी और उसके बाद आज तक दोबारा हुई है।

Related posts