जब मौजूदा भारतीय कोच रवि शास्त्री ने जावेद मियांदाद को जूता लेकर पीटने के लिए दौड़ाया था, जानिए पूरी कहानी 1

भारतीय टीम के हेड कोच शास्त्री इन दिनों अपनी किताब ‘स्टारगेजिंग’ को लेकर सुर्खियों में बने हुए हैं. अपनी इस किताब में शास्त्री ने कई दिलचस्प किस्से शेयर किए हैं. इसमें से एक मजेदार किस्सा पाकिस्तान के पूर्व खिलाड़ी जावेद मियांदाद से जुड़ा हुआ है. इस बारे में बहुत कम ही लोग जानते हैं कि एक बार रवि शास्त्री ने मैदान पर जावेद मियांदाद को जूता लेकर दौड़ाया था.

पाकिस्तान के भारत दौरे के दौरान हुई घटना

जब मौजूदा भारतीय कोच रवि शास्त्री ने जावेद मियांदाद को जूता लेकर पीटने के लिए दौड़ाया था, जानिए पूरी कहानी 2

ये घटना साल 1987 की है जब पाकिस्तानी टीम भारत का दौरा कर रही थी. दोनों टीमों के बीच 20 मार्च को वनडे सीरीज का तीसरा मुकाबला हैदराबाद के मैदान पर खेला जा रहा था. पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम ने रवि शास्त्री के 69 और कपिल देव के 59 रनों की बदौलत 44 ओवर में 212 रन बनाए थे.

दोनों टीमों के बीच ये मुकाबला काफी रोमांच से भरा हुआ था और पाकिस्तान की टीम को जीत हासिल करने के लिए आखिरी गेंद पर दो रनों की जरूरत थी. लेकिन पाकिस्तान की टीम ऐसा करने में नाकाम रही और अब्दुल कादिर दूसरा रन लेने के चक्कर में रनआउट हो गए. इस तरह मैच बराबरी में समाप्त हुआ, लेकिन भारत ने छह और पाकिस्तान ने सात विकेट खोए थे. एक विकेट कम गिरने की वजह से भारत को मैच का विजेता घोषित किया गया.

हार से बौखलाए जावेद मियांदाद

जब मौजूदा भारतीय कोच रवि शास्त्री ने जावेद मियांदाद को जूता लेकर पीटने के लिए दौड़ाया था, जानिए पूरी कहानी 3

अपनी हार से बौखलाए जावेद मियांदाद भारतीय भारतीय ड्रेसिंग रूम में आए और ज़ोर-ज़ोर से चीखते हुए कहने लगे, ‘तुम चीटिंग से जीते हो.’ इस बात से रवि शास्त्री का खून खौल गया और वो जूता उठाकर मियांदाद के पीछे-पीछे पाकिस्तानी ड्रेसिंग रूम तक उन्हें मारने पहुंचे. हालांकि बाद में पाकिस्तान के कप्तान इमरान खान ने बीच-बचाव कर मामले को शांत किया.

दोनों ही खिलाड़ियों ने समझदारी दिखाते हुए मामले को ज्यादा नहीं बढ़ाया और इसे भूलाने में ही बेहतरी समझी. अगले मुकाबले के लिए जब दोनों टीमें पुणे जा रही थी, तो दोनों खिलाड़ियों ने जो हुआ उसे भूल कर एक साथ फ्लाइट में समय बिताया था. इस बात की जानकरी शास्त्री की किताब के जरिए बाहर आई है.