नयन मोंगिया ने अभिमन्यु ईश्वरन और प्रियांक पांचाल को टीम में ना लेने पर

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

अभिमन्यु ईश्वरन और प्रियांक पांचाल को टेस्ट टीम में जगह न मिलने पर भारतीय खिलाड़ियों में पड़ी दरार 

अभिमन्यु ईश्वरन और प्रियांक पांचाल को टेस्ट टीम में जगह न मिलने पर भारतीय खिलाड़ियों में पड़ी दरार

दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए, टीम का चुनाव हो गया है साथ ही टेस्ट मुकाबले के लिए टीम के चयन के साथ-साथ सलामी बल्लेबाज की चिंता का भी निवारण कर लिया गया है, लेकिन इसके बाद भी भारत के पूर्व अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी नयन मोंगिया ने अभिमन्यु ईश्वरन और प्रियांक पांचाल की पसंद को अनदेखा करने के लिए चयनकर्ताओं से सवाल किया है.

नयन मोंगिया ने चयनकर्ताओं पर दागे सवाल

नयन मोंगिया

दक्षिण अफ्रीका के लिए भी भारतीय टीम का चयन हो गया है, इसमें भी दो युवाओं को टीम में जगह नहीं दी गई जिसकी शिकायत नयन ने चयनकर्ताओं से की है.

अभिमन्यु ईश्वरन और प्रियांक पांचाल को टीम में जगह नहीं दी गई है, बल्कि उन्होंने पिछले कुछ दिनों से लगातार घरेलु क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन किया है. जिसके बाद भी उनको नजरअंदाज किया गया है.

बंगाल के नवनियुक्त कप्तान ईश्वरन ने 49.59 रन बनाकर 4,067 रन बनाए हैं, जबकि गुजरात के कप्तान प्रियांक पांचाल ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 54.14 रन बनाए हैं.

लेकिन मोंगिया को लगता है कि चयनकर्ताओं को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर घरेलू  खिलाड़ियों को साबित करने का मौका देना चाहिए.

मोंगिया ने द टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि,

“उन्होंने ओपनर के रूप में एक सत्र में 1,000-800 रन बनाने वालों को मौका क्यों नहीं दिया? पांचाल और ईश्वरन की  घरेलू क्रिकेट में औसत 50-60 है. उन्हें कब मौका मिलने वाला है?”

रोहित शर्मा को मिला ओपनिंग करने का मौका

रोहित शर्मा

रेड-बॉल क्रिकेट में सीमित ओवरों के स्टार रोहित शर्मा को टेस्ट टीम में जगह दी गई है, बीसीसीआई के चयनकर्ताओं ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ आगामी घरेलू श्रृंखला में पारी को खोलने के लिए रोहित शर्मा पर विश्वास जताया है.

रोहित, जो टेस्ट में पहले मध्य क्रम में खेल चुके हैं, टेस्ट क्रिकेट में खुद को स्थापित करने में असमर्थ रहे हैं और अजिंक्य रहाणे और हनुमा विहारी ने अपनी जगह पक्की कर ली है. जिसके चलते मुंबई के इस बल्लेबाज को टेस्ट टीम में प्लेइंग इलेवन में प्रवेश करना मुश्किल हो गया था.

मोंगिया, एक विकेटकीपर-बल्लेबाज, जिन्होंने 44 टेस्ट और 140 एकदिवसीय मैच खेले, उन्हें लगता है कि टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग करना एक विशेष काम है.

Related posts