//

क्यों बीसीसीआई महिला और पुरुष खिलाड़ियों के कॉन्ट्रैक्ट में करती है भेदभाव?

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआई ने खिलाड़ियों के सालाना कॉन्ट्रैक्ट की घोषणा कर दी है। इसमें महिला क्रिकेटरों के साथ ही पुरुष सीनियर क्रिकेट टीम को 2019-20 के लिए कॉन्ट्रैक्ट दिया गया है। पुरुष टीम में विराट कोहली, रोहित शर्मा और जसप्रीत बुमराह को ए प्लस ग्रेड मिला है। महिला क्रिकेटरों में हरमनप्रीत कौर, स्मृति मंधाना और पूनम यादव को ए ग्रेड दिया गया है।

जेसीसी
बनना चाहते हैं प्रोफेशनल क्रिकेटर?
अभी करें रजिस्टर

*T&C Apply

पैसे में काफी फर्क

क्यों बीसीसीआई महिला और पुरुष खिलाड़ियों के कॉन्ट्रैक्ट में करती है भेदभाव? 1

बीसीसीआई ने भले ही दोनों टीमों को कॉन्ट्रैक्ट दिया है लेकिन इनके पैसे में काफी फर्क है। बोर्ड पर काफी समय से भेदभाव का आरोप लगता आया है। पुरुष क्रिकेट में ग्रेड ए प्लस को 7 करोड़, ए को 5 करोड़, बी को 3 करोड़ और सी को एक करोड़ रुपए मिलते हैं।

महिल क्रिकेट की बात करें तो वहां यह राशि काफी कम है। ग्रेड ए के खिलाड़ियों को 50 लाख रुपए ही मिलते हैं। ग्रेड बी में शामिल की गई खिलाड़यों को 30 लाख और 10 लाख रुपए दिए जाते हैं।

क्यों होता है ऐसा?

क्यों बीसीसीआई महिला और पुरुष खिलाड़ियों के कॉन्ट्रैक्ट में करती है भेदभाव? 2

बीसीसीआई की तरफ से इसपर कभी खुलकर जवाब नहीं दिया गया है। भारतीय महिला क्रिकेट टीम पिछले कुछ सालों में शानदार क्रिकेट खेल रही है। इशी वजह से फैंस की रुची उस तरफ काफी गई है।

टीम 2017 विश्व कप के फाइनल तक पहुंची थी। इसके बाद 2018 टी-20 विश्व कप में भी भारतीय महिला टीम ने सेमीफाइनल तक का सफर तय किया था। इसके अलावा द्विपक्षीय सीरीज में भी टीम का प्रदर्शन शानदार रहा है।

बार-बार उठते हैं सवाल

क्यों बीसीसीआई महिला और पुरुष खिलाड़ियों के कॉन्ट्रैक्ट में करती है भेदभाव? 3

महिला टीम टेस्ट क्रिकेट नहीं खेलती है और कम पैसे मिलने के लिए इसे भी वजह माना जाता है। हालांकि, पुरुष टीम के भी कई खिलाड़ी टेस्ट टीम का हिस्सा नहीं है लेकिन इसके बाद भी उन्हें ए ग्रेड में शामिल किया गया है।

भारत की महिला क्रिकेट टीम ने अभी तक कोई विश्व कप नहीं जीता है। टीम के पास कई शानदार खिलाड़ी है और टीम आने वाले समय में बेहतर प्रदर्शन करने के साथ ही विश्व कप जीत सकती है।

पैसे से प्रोत्साहन मिलेगा

महिला क्रिकेट की सैलरी को बढ़ाया जा है तो खिलाड़ियों को प्रोत्साहन मिलता है। अगले महीने ही ऑस्ट्रेलिया में महिला टी-20 विश्व कप खेला जाना है। इसके बाद 2021 में महिला विश्व कप भी खेला जाना है। महिला टीम से इसमें बेहतरन प्रदर्शन करने की उम्मीद की जा रही है।