जानें आखिर शून्य पर आउट होने बल्लेबाज को क्‍यों कहते हैं 'डक' | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

जानें आखिर शून्य पर आउट होने बल्लेबाज को क्‍यों कहते हैं ‘डक’ 

जानें आखिर शून्य पर आउट होने बल्लेबाज को क्‍यों कहते हैं ‘डक’

क्रिकेट डेस्क, क्रिकेट में कई शब्द ऐसे हैं जिसका प्रयोग तो रोजाना होता है लेकिन हमें और आपको उस शब्‍द का मतलब नहीं मालूम होता है। इसी तरह का एक शब्‍द है डक। जब भी कोई बल्‍लेबाज बिना खाता खोले आउट होता है तो उसे डक कहते हैं। इसके अलावा कई बार टीवी पर डक पर आउट होते ही बत्‍तख भी चलती हुई दिखाई देती है। डक के पीछे की कहानी काफी दिलचस्‍प है। यहां हम आपको बताते हैं कि क्रिकेट में कितने प्रकार के डक होते हैं। यानि क्रिकेट में डक कई तरह के होते हैं। जानें :

गोल्डन डक:

इस शब्‍द का इस्‍तेमाल तब किया जाता है जब कोई बल्लेबाज पहली ही गेंद पर आउट होता है।

सिल्वर डक

जब कोई बल्लेबाज अपनी पारी की दूसरी गेंद पर आउट हो जाता है, तो उसे ‘सिल्वर डक’ कहते हैं। यानि की जब कोई बल्‍लेबाज का निजी स्‍कोर शून्‍य है और वह दूसरी गेंद पर अपना विकेट खो दे तो वह सिल्‍वर डक कहलाई जाती है।

ब्रान्ज डक

जैसा कि नाम से ही प्रतीत होता है, यह गोल्‍डन और सिल्‍वर से बाद आती है। इसका मलतब जो बल्लेबाज तीसरी गेंद पर आउट होता है, उसे ब्रान्ज डक कहा जाता है।

डायमंड डक

यह तब कहा जाता है जब कोई बल्लेबाज बिना किसी गेंद का सामना किए, नॉन स्ट्राइकर एंड पर रन आउट या फिर वाइड बॉल पर स्टंपड आउट हो जाए।

डक शब्‍द के पीछे की कहानी

यह बात साल 1886 की है। इंग्लैंड में खेले जा रहे एक मैच में प्रिंस ऑफ वेल्स बगैर खाता खोले आउट हो गए थे। अगले दिन एक स्थानीय अखबार ने हैडलाइन दी, ‘Prince Retired to The Royal Pavilion On a Duck’s Egg’ इसके बाद ही पहली बार क्रिकेट के संदर्भ में डक शब्द का इस्तेमाल हुआ।

जीरो रन पर आउट होने वाले के लिए डक शब्द का इस्तेमाल करने की वजह जीरो (0) का बत्तख के अंडे जैसे आकार जैसे दिखना है। यही वजह है कि टीवी पर भी बल्‍लेबाज के शून्‍य पर आउट होते ही बत्‍तख को दिखाया जाता है और डक कहा जाता है।

Related posts