ये है वो 5 कारण जो बताते है, धोनी को अगले विश्वकप तक बने रहना चाहिए भारतीय टीम का कप्तान | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

ये है वो 5 कारण जो बताते है, धोनी को अगले विश्वकप तक बने रहना चाहिए भारतीय टीम का कप्तान 

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच सीरीज कुछ ही दिनों बाद शुरू होगी, जो की इन दोनों देशों के बीच सबसे लंबी सीरीज होगी. 2 अक्टूबर से ये सीरीज शुरू होगी, और पहला टी-20 का मैच होगा. टी ट्वेंटी और वनडे में धोनी कप्तान होंगे, तो टेस्ट में कोहली. दक्षिण अफ्रिका भारत में वनडे सीरीज नहीं जीती है, तो भारत भी दक्षिण अफ्रिका में वनडे सीरीज नहीं जीती है.

ये है वो 5 कारण जो बताते है, धोनी को अगले विश्वकप तक बने रहना चाहिए भारतीय टीम का कप्तान 1

धोनी टी ट्वेंटी और वनडे के शानदार कप्तान है, और उन्होंने भारत को विश्वकप भी जिताया है.

टेस्ट कप्तानी में नाकाम रहने के बाद, कोहली को टेस्ट कप्तानी मिली. और उन्होंने भारत को 22 साल बाद श्रीलंका में सीरीज जीताई. अब इस वजह से कोहली को वनडे में कप्तान बनाने की भी मांग हो रहीं है.

सूत्रों के मुताबिक, चयनकर्ता कोहली को वनडे कप्तान बनाने के मुड में है, और धोनी को सिर्फ टी ट्वेंटी में कप्तान बना रखने पर विचार कर रहीं है.

तो अब सवाल ये उठ रहा है की कप्तान कौन बनेगा? लेकिन बीसीसीआई इस मुद्दे पर शांत है.

अब हम बता रहे है कुछ बातें जिस वजह से धोनी को कप्तान बनाए रखना चाहिए.

1. 2007 टी ट्वेंटी विश्वकप का फाइनल

इस मैच में पाकिस्तान को आखिरी ओवर में 13 रन चाहिए थे जीतने के लिए. और सभी को चौकाते हुए, धोनी ने हरभजन की बजाय जोगिंदर शर्मा को ओवर दी. इस फैसले से सभी चौक गये, लेकिन धोनी का ये कमाल का फैसला, भारत की जीत वजह बना.

2. 2008 के अॉस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज का दुसरा फाइनल

पहला फाइनल भारत ने जीता था, और ये दूसरा फाइनल था. अॉस्ट्रेलिया को 258 रन चाहिए थे जीतने के लिए, और धोनी ने शुरूआत में प्रवीण कुमार के हाथ में गेंद सौपी. और प्रवीण ने पहले तीन विकेट लेकर कमाल कर दिया, और आखिर में ली का विकेट लिया, और भारत को जीत दिलाई.

3. 2013 का चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल

बारिश की वजह से ये मैच 20 ओवर का हुआ. इशांत शर्मा ने बहुत ज्यादा रन दिये थे, लेकिन धोनी ने उनके उपर विश्वास जताकर 18वा ओवर उनको दिया. इशांत ने मॉर्गन और बोपारा का विकेट लेकर मैच पलट दिया.

4. 2011 विश्वकप का फाइनल

ये मैच काफी बडा मैच था. भारत को 275 रन बनाने थे. भारत के पहले तीन विकेट जल्दी गीर गये, और सभी को चौकाते हुए, युवराज की जगह पांचवें नंबर पर धोनी बल्लेबाजी करने के लिए आए. उन्होंने गंभीर के साथ शानदार साझेदारी करते हुए, भारत को विश्वकप जीताया था.

यहाँ देखे धोनी के सफल फैसले की एक विडियो:

Related posts

Leave a Reply