ऑस्ट्रेलिया के फाइनल जितने से दुखी है यह ऑस्ट्रेलियन खिलाड़ी | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

ऑस्ट्रेलिया के फाइनल जितने से दुखी है यह ऑस्ट्रेलियन खिलाड़ी 

न्यूज़ीलैंड के विकेटकीपर ल्यूक रॉन्ची के सामने यह समस्या किसी बहूत बड़ी मुसीबत का सामना करने से कम नहीं है।मेलबर्न में ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड के बीच वर्ल्ड कप का फ़ाइनल मुक़ाबला हो रहा है
एक ओर उनकी पुरानी टीम सामने खड़ी है ऑस्ट्रेलिया और दूसरी उनकी नई टीम है न्यूज़ीलैंड। जी हां आपको जान कर हैरानी होगी की , ल्यूक रॉन्ची इकलौते ऐसे क्रिकेटर हैं, जिन्होंने दो देशों के लिए खेला है और वो दो देश है ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड दोनों की ओर से इंटरनेशनल क्रिकेट में हिस्सा लिया है।

न्यूजीलैंड में रॉन्ची का जन्म डेनेविर्के में हुआ था, लेकिन जैसे वो बड़े होते गए और जब वो 6 साल की उम्रमें थे तब वे अपने परिवार के साथ पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया चले आए। जल्दी ही वहां के घरेलू क्रिकेट में उनकी पहचान बन गई। और उस समय उन्हें ‘भविष्य का गिलक्रिस्ट’ तक कहा जाने लगा। विकेटकीपिंग के साथ-साथ तूफानी अंदाज़ में बल्लेबाज़ी करने वाले रॉन्ची को 2008 में ऑस्ट्रेलिया की ओर से वनडे मैच में पहले बार अपना प्रदर्शन दिखने का मोका मिल गया।

रॉन्ची ने पहले तो नहीं बल्कि दूसरे ही वनडे में महज 22 गेंद पर हाफ़ सेंचुरी का कमाल दिखाया । लेकिन पता नहीं क्यूँ पर फिर भी रॉन्ची को आगे चलकर ऑस्ट्रेलिया की ओर से केवल 4 वनडे और तीन टी-20 मैच खेलने का मौका मिला। और जब ब्रैड हैडिन उस टीम में थे तब उनकी की मौजूदगी से रॉन्ची को एहसास हो गया कि उन्हें अब ऑस्ट्रेलिया की ओर से खेलने का मौका शायद ही उन्हें दुबारा मिले।

और शायद इसलिए निराश होकर वे 2012 में न्यूज़ीलैंड लौट गए और 2013 के आते-आते न्यूज़ीलैंड की टीम में शामिल हो गए। जनवरी, 2015 में उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ महज 99 गेंद पर 170 रनों की धुंधार और तूफानी पारी खेली। और संकट की बात तब आ गयी उनके लिए जब इसी वर्ल्ड कप सेमीफ़ाइनल में उनके साथी खिलाड़ी ग्रैंट इलिएट ने अपने मूल देश दक्षिण अफ्रीका को बाहर करने का नया कारनामा दिखाया है, ऐसे में ल्यूक रॉन्ची के सामने भी सबसे बड़ा धर्म संकट तो होना ही था ।लेकिन फ़ाइनल मुक़ाबले से पहले ल्यूक रॉन्ची की मां मैग्गी रॉन्ची ने कहा कि उनका बेटा एक कीवी है।

Related posts

Leave a Reply