युवराज सिंह ने की मौजूदा टीम इंडिया पर टिप्पणी

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

युवराज सिंह ने रोहित शर्मा को अपनी छवि बचाने की दी सलाह, कहा अब ज्यादा रोल मॉडल नहीं बचे हैं 

युवराज सिंह ने रोहित शर्मा को अपनी छवि बचाने की दी सलाह, कहा अब ज्यादा रोल मॉडल नहीं बचे हैं

टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा क्वारेंटाइन दिनों में क्रिकेटर्स के साथ इंस्टाग्राम लाइव के जरिए बातचीत करते नजर आ रहे हैं. मंगलवार को रोहित ने युवराज सिंह के साथ लाइव चैट की. इस दौरान युवराज व रोहित दोनों ने ही मौजूदा क्रिकेट टीम और पुरानी टीम के बारे में बात की. युवराज को लगता है कि अब टीम में पहले कि तरह सीनियर्स को इज्जत नहीं मिलती और साथ ही अब टीम में रोलमॉडल खिलाड़ी भी कम हैं.

सोशल मीडिया नहीं था तो भटकाव नहीं था

युवराज सिंह

सिक्सर किंग के नाम से विश्व क्रिकेट में अपनी पहचान बनाने वाले युवराज सिंह ने भारतीय क्रिकेट टीम को 2007 टी20 विश्व कप व 2011 एकदिवसीय विश्व कप जिताने में अहम भूमिका निभाई थी. युवी अब सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं. अब रोहित शर्मा के साथ इंस्टाग्राम पर बात करते हुए युवराज ने कहा,

‘जो अंतर मुझे हमारी टीम में और अभी की टीम में नजर आता है तो वो यह है कि हमारे समय में सीनियर खिलाड़ी बड़े अनुशासन में रहते थे. सोशल मीडिया था नहीं तो भटकाव नहीं होता था.

हमें एक निश्चित तरीके से अपने आप को संभालना होता था. हम अपने सीनियर खिलाड़ियों की तरफ देखते थे कि वो मीडिया में किस तरह से बातें कर रहे हैं और बाकी सब.वो आगे से नेतृत्व करते थे. यही हमने उनसे सीखा और आप लोगों को भी बताया.

अब टीम में नहीं हैं अधिक रोलमॉडल खिलाड़ी

युवराज सिंह को लगता है कि अब टीम में अधिक रोल मॉडल खिलाड़ी नहीं हैं. इस बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा,

‘इस टीम में सीनियर जैसे की आप (रोहित) और विराट, जो तीनों फॉर्मेट में खेलते हैं.

मुझे लगता है कि जबसे सोशल मीडिया आया है तब से बहुत कम ऐसे खिलाड़ी हैं जिनकी तरफ देखा जा सकता है. सीनियरों के प्रति सम्मान काफी कम हो गया है.

दूसरी पीढ़ि टेस्ट क्रिकेट नहीं चाहती खेलना

युवराज सिंह

युवराज सिंह ने पहले भी आईपीएल के चलते खिलाड़ियों में आने वाले बदलाव के बारे में बात की है. अब रोहित शर्मा के साथ लाइव चैट करते वक्त युवराज सिंह ने बताया कि युवा खिलाड़ी टेस्ट क्रिकेट खेलना ही नहीं चाहते. इस बारे में उन्होंने कहा,

आपको मार्गदर्शन के लिए सीनियर चाहिए होते हैं. सचिन ने हमेशा मुझसे कहा कि अगर आप मैदान पर अच्छा करोगे तो सब कुछ सही होगा.

मैं एनसीए में था और देखा खिलाड़ी टेस्ट मैच नहीं खेलना चाहते. दूसरी पीढ़ी टेस्ट मैच खेलना नहीं चाहती यही क्रिकेटरों का असली टेस्ट है

युवराज की बात को सही ठहराते हुए रोहित ने कहा,

जब मैं आया था तो काफी सारे सीनियर थे लेकिन अब माहौल थोड़ा हल्का है.

Related posts