युवराज सिंह ने कहा, विश्व कप 2019 में भारत की प्लानिंग काफी खराब थी 1

भारतीय टीम आईसीसी विश्व कप 2019 के सेमीफाइनल में हारकर बाहर हो गई थी। न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच में रोहित शर्मा और विराट कोहली के आउट होने के बाद भारतीय बल्लेबाजी नहीं चली और टीम को हार का सामना करना पड़ा। रोहित और विराट के नहीं चलने पर भारतीय टीम विश्व कप से पहले भी जूझती नजर आती थी। चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के फाइनल मैच में भी ऐसा ही हुआ था।

विश्व कप 2019 में प्लानिंग काफी खराब थी

युवराज सिंह ने कहा, विश्व कप 2019 में भारत की प्लानिंग काफी खराब थी 2

भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज युवराह सिंह का मानना है कि विश्व कप 2019 में टीम का प्रदर्शन काफी खराब था। उनके अनुसार टीम मैनेजमेंट और चयनकर्ताओं ने काफी गलत फैसले लिए। इसी वजह से टीम विजेता नहीं बन पाई। उन्होंने दुबई में स्पोर्टस 360 को दिए इंटरव्यू में यूवी ने कहा

“मैंने अभी महसूस किया कि 2019 विश्व कप की योजना वास्तव में खराब थी। मुझे लगता है कि टीम प्रबंधन और चयनकर्ताओं ने विश्व कप से पहले और विश्व कप में कुछ बहुत खराब कॉल किए – और यही उनकी लागत है। बेशक उन्हें (एक प्रमुख खिताब जीतना चाहिए)। खिलाड़ियों और टीम के रूप में उनके पास प्रतिभा की मात्रा के साथ, उन्हें वास्तव में होना चाहिए।”

युवराज सिंह ने जताई उम्मीद

युवराज सिंह ने कहा, विश्व कप 2019 में भारत की प्लानिंग काफी खराब थी 3

युवराज सिंह ने उम्मीद जताई है कि सौरव गांगुली के बीसीसीआई अध्यक्ष बनने के बाद यह चीजें सही होंगी। अक्टूबर 2019 में दादा बोर्ड के अध्यक्ष बने थे। उन्होंने टी-20 विश्व कप के बारे में बात करते हुए कहा

“मुझे लगता है कि सौरव गांगुली के बीसीसीआई अध्यक्ष के रूप में आने से इस तरह की चीजों को बेहतर बनाने में काफी दिमाग लगेगा। हमें प्रतिभा में कोई संदेह नहीं है, हमें बस एक अच्छे थिंक टैंक की आवश्यकता है, और उम्मीद है कि हम ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी 20 आई विश्व कप के लिए तैयार होंगे।”

4 साल में नहीं मिला नंबर 4

युवराज सिंह ने कहा, विश्व कप 2019 में भारत की प्लानिंग काफी खराब थी 4

भारतीय टीम विश्व कप 2015 के बाद से नंबर 4 के बल्लेबाज के लिए जूझ रही थी। विश्व कप से पहले अंबाती रायडू इस स्थान पर खेल रहे थे। उनका प्रदर्शन भी अच्छा था लेकिन विश्व कप की टीम में उन्हें जगह नहीं मिली।

इस नंबर पर टूर्नामेंट में भारत ने कई खिलाड़ियों को मौका दिया लेकिन कोई भी अर्धशतक नहीं बना पाया। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हार्दिक पांड्या ने यहां सबसे ज्यादा 48 रन बनाए थे। उसके अलावा केएल राहुल, ऋषभ पंत और विजय शंकर ने भी इस क्रम पर खेला था।