युवराज सिंह ने संन्यास के बाद शुरू किया ये नेक काम

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

युवराज सिंह ने संन्यास के बाद शुरू किया ये नेक काम 

युवराज सिंह ने संन्यास के बाद शुरू किया ये नेक काम

भारतीय टीम के सिक्सर किंग कहे जाने वाले युवराज सिंह ने 10 जून 2019 को संन्यास ले लिया था. उन्होंने अपने शानदार प्रदर्शन से भारतीय टीम को कई बड़े टूर्नामेंट जीताये थे. बता दें, कि उन्होंने 2000 की आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी से अपने करियर की शुरूआत की थी. उन्होंने 3 अक्टूबर 2000 को केन्या के खिलाफ अपना डेब्यू किया था. संन्यास के बाद वह समाज सेवा से जुड़े कई अच्छा कार्य कर रहे हैं.

युवराज ने शुरू किया सेंटर ऑफ एक्सीलेंस

युवराज सिंह ने संन्यास के बाद शुरू किया ये नेक काम 1

पद्म श्री से सम्मानित, क्रिकेटर युवराज सिंह अपने संन्यास के बाद अपने जीवन का आनंद ले रहे हैं और समाज सेवा से जुड़े कामों में बढ़चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं. युवराज सिंह ने शुक्रवार को होली हार्ट प्रेसीडेंसी स्कूल में युवराज सिंह सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (YSCE) का उद्घाटन किया है.

कड़ी मेहनत का कोई विकल्प नहीं

युवराज सिंह ने संन्यास के बाद शुरू किया ये नेक काम 2

उत्साहित छात्रों और कर्मचारियों से भरी इस सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, “युवा लोगो को कड़ी मेहनत करने, अनुशासित रहने और खेल प्रयासों में सक्रिय होने की आवश्यकता है. 

हम विश्व स्तरीय सुविधाएं दे रहे हैं. मैं छात्रों को यह समझाना चाहता हूं कि कड़ी मेहनत का कोई विकल्प नहीं है. पढ़ाई और खेल दोनों में ही सक्रिय रहना आवश्यक है. मैं सलाह देना चाहूंगा, कि किसी भी रूप में खेल को छात्रों के स्कूली जीवन का हिस्सा बनाना चाहिए. वाईएससीई का उद्देश्य क्रिकेट और अन्य खेल के उत्थान के लिए विश्व स्तरीय सुविधाओं की पेश कराना है.”

संन्यास के बाद मेरा जीवन अच्छा चल रहा

युवराज सिंह ने संन्यास के बाद शुरू किया ये नेक काम 3

संन्यास के बाद चल रहे अपने जीवन के बारे में बात करते हुए व 12 नंबर ब्लू जर्सी के प्यार के बारे में बात करते हुए युवराज सिंह ने कहा, “संन्यास के बाद मेरा व्यक्तिगत जीवन अच्छा चल रहा है. मैं अपने परिवार के साथ बहुत समय बिताता हूं. मैं अनुशासित जीवनशैली के कारण अपने व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन का मैनेज कर पा रहा हूं. मेरी जिंदगी से अब तनाव बहुत कम हो गया है. यह अच्छा है, लेकिन मुझे अपनी जर्सी की याद आती है. यह मेरे शरीर का हिस्सा है. हालांकि मैं कह सकता हूँ, कि संन्यास के बाद मेरा जीवन बेहतर हुआ है.”

Related posts