जब भारतीय टीम को जहीर खान ने अपने बल्ले से दिलायी यादगार जीत

Trending News

Blog Post

एडिटर च्वाइस

जहीर खान के नाम दर्ज है बल्लेबाजी का ऐसा रिकॉर्ड जो आज तक नहीं बना सके धोनी और कोहली जैसे दिग्गज 

जहीर खान के नाम दर्ज है बल्लेबाजी का ऐसा रिकॉर्ड जो आज तक नहीं बना सके धोनी और कोहली जैसे दिग्गज
Victorious Indian cricketer Subramaniam Badrinath (L) and teammate Zaheer Khan (R) walk off the pitch at the conclusion of the second one-day international match at The Rangiri Dambulla International Cricket Stadium in Dambulla, some 150 kms north of Colombo, on August 20, 2008. India defeated Sri Lanka by three wickets in the second one-day international. AFP PHOTO/Lakruwan WANNIARACHCHI. (Photo credit should read LAKRUWAN WANNIARACHCHI/AFP/Getty Images)

क्रिकेट अनिश्तिताओं का खेल है ये तो सभी जानते हैं। क्रिकेट में चमत्कारिक प्रदर्शन भी कभी कभार देखने को मिलता है। जब किसी टीम के बल्लेबाजी क्रम पूरी तरह से फ्लॉप हो जाता है तो गेंदबाज अपने बल्ले से ऐसा कुछ कर जाते हैं कि वो टीम को जीत तक दिला देते हैं। इस तरह के उदाहरण कई बार देखने को मिले हैं। इसी तरह का कारनामा एक बार भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज तेज गेंदबाज जहीर खान ने एक बार गेंद से नहीं बल्ले से भारत को मैच जीताया।

जहीर की चमत्कारिक बल्लेबाजी ने जीताया भारत को

आज स्पोर्ट्स विकी आपको उस ऐतिहासिक मैच के बारे में बताने जा रहा है। ये मैच साल 2007 में फ्यूचर कप का हुआ था जिसमें भारत और ऑस्ट्रेलिया की टीमें आमने-सामने थी। इस मैच में ऑस्ट्रेलियाई टीम ने पहले खेलते हुए 41.3 ओवर की ही बल्लेबाजी कर सकी। ऑस्ट्रेलिया की टीम भारतीय गेंदबाजों के सामनें पूरी तरह से धराशाही हो गई। ऑस्ट्रेलिया की टीम महज 193 रनों पर ऑल आउट हो गई।

भारतीय बल्लेबाज भी हुए फ्लॉप

ऑस्ट्रेलियाई टीम को सस्ते मेम समेटा जिसके बाद भारतीय टीम की आसान जीत की संभावना जतायी जा रही थी। लेकिन भारतीय टीम की बल्लेबाजी भी बुरी तरह से नाकाम रही और ऑस्ट्रेलियाई टीम की तर्ज पर ही भारतीय टीम ने 65 रनों के स्कोर पर ही 6 विकेट गंवा दिए। अब तो पूरी तरह से ऑस्ट्रेलियाई टीम की जीत की उम्मीद थी। भारत को अब 129 रन बनाने थे और 4 विकेट हाथ में थे।

ऑस्ट्रेलिया के 193 रनों के जवाब में भारत ने 129 रनों पर ही खोए थे 8 विकेट

इसके बाद रॉबिन उथप्पा ने हरभजन सिंह के साथ टीम के स्कोर को आगे बढ़ाया। भारतीय टीम का स्कोर धीरे-धीरे 100 के पार हुआ और इसके बाद हरभजन सिंह भी चलते बने। भज्जी के बाद बल्लेबाजी करने आए जहीर खान ने उथप्पा का साथ दिया, लेकिन टीम के 129 के स्कोर पर उथप्पा भी निपट गए। अब अब भारत को  65 रन बनाने थे और 2 विकेट हाथ में थे ऐसे में ऑस्ट्रेलिया की जीत औपचारिकता लग रही थी।

जहीर ने दिलाई भारतीय टीम को यादगार जीत

लेकिन जहीर खान के इरादें कुछ और थे। जहीर खान ने आखिर में जोरदार हाथ दिखाते हुए भारतीय टीम को 46वें ओवर में टारगेट तक पहुंचा दिया। जहीर खान ने बल्ले से शानदार 31 रनों का योगदान देकर भारत के लिए बहुत दूर नजर आ रही जीत को आसान बना दिया। और जहीर ने भारतीय टीम को चमत्कारिक जीत दिला दी।

भारत की ये जीत किसी से कम नहीं थी। क्योंकि ये ऑस्ट्रेलियाई टीम दिग्गजों से भरी थी जिसमें पोंटिंग गिलक्रिस्ट, हेडन, ब्रेट ली और मिचेल जॉनसन जैसे खिलाड़ी थे।

Related posts

Leave a Reply