फ़ॉर्मूला1: सुज़ुका रेसिंग ट्रैक, जूल्स बियांकी की आख़िरी निशानी

Trending News

Blog Post

F1

फ़ॉर्मूला1: सुज़ुका सर्किट को जूल्स बियांकी की आख़िरी निशानी के रूप में किया जा रहा याद 

फ़ॉर्मूला1: सुज़ुका सर्किट को जूल्स बियांकी की आख़िरी निशानी के रूप में किया जा रहा याद

फ़ॉर्मूला1 जापान ग्रांप्री 2018 में कार आज से ही ट्रैक पर उतर चुकी हैं। फ्री प्रैक्टिस-1  जहाँ मर्सेडीज़ के रेसर, लुइस हैमिलटन ने 1:28:691 के समय के साथ टॉप किया और अपने साथी वेल्टरी बोट्टास पर करीब आधे सेकेंड की बढ़त के साथ प्रैक्टिस सत्र-1 का अंत किया।

वहीँ दूसरे में भी लुइस हैमिलटन अभी तक सुपर-सॉफ्ट टायर इस्तेमाल करते हुए पहले स्थान पर बने हुए हैं। मर्सेडीज़ को जैसे सुज़ुका ट्रैक भा रहा है। लेकिन इस आर्टिकल में हम 2014 में हुई उस घटना के प्रति संवेदना व्यक्त करना चाहते हैं। जब फ्रेंच रेसर, जूल्स बियांकी की तेज़ रफ़्तार से दौड़ती कार, क्रेन से जा टकराई और उनकी मौत हो गयी।

2014 में हुई घटना

2014 में हुई उस घटना को दुनिया भर में मौजूद कोई भी रेसिंग फैन नहीं भुला सकता। जब मरुशिया टीम का यह रेसर, क्रेन से जा टकराया। जल्द से जल्द उन्हें अस्पताल पहुँचाया गया, लेकिन वहाँ डॉक्टरों के जवाब देने के बाद पूरा रेसिंग जगत जैसे आंसुओं के समुद्र में डूब चला।

उनके हमवतन, टोरो रोसो के लिए रेस करने वाले, पियरे गैसली ने भी अपने साथी, सीनियर को याद कर उन्हें याद किया।

जूल्स बियांकी को याद कर ट्वीट्स की जैसे झड़ी लग गयी है। वह हादसा था ही इतना दर्दनाक कि उसे कभी नहीं भुलाया जा सकेगा।

Related posts

Leave a Reply