सुपर कप (फाइनल) : बेंगलुरू के सामने ईस्ट बंगाल की चुनौती 1

भुवनेश्वर, 20 अप्रैल; सुपर कप के पहले संस्करण के फाइनल में आज इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) की उपविजेता बेंगलुरू एफसी और आई-लीग क्लब ईस्ट बंगाल आमने-सामने होंगी। सेमीफाइनल मुकाबले में बेंगलुरू ने मोहन बागान को 4-2 से करारी शिकस्त दी थी जबकि ईस्ट बंगाल ने एक कड़े मुकाबले में एफसी गोवा को 1-0 से हराया था।

मैच से पहले संवाददाता सम्मेलन में रोका ने कहा, “हां हम जीत के प्रबल दावेदार है लेकिन केवल 50 प्रतिशत। हर मैच से पहले मेरी यही मनोदशा होती है और मैं समझता हूं कि हर मैच में दोनों टीमों के पास जीतने 50-50 प्रतिशत मौका होता है। यह फाइनल मुकाबला है और हमें जीत की मानसिकता के साथ मैदान पर उतरना होगा।”

बेंगलुरू इस टूर्नामेंट का खिताब जीतकर आईएसएल के फाइनल में मिली हार के गम को भी भुलाना चाहेगी।

रोका ने कहा, “हमें आईएसएल के फाइनल में मिली हार को भुलाना होगा। यह एक नई प्रतियोगिता है। हमारे सुपर कप जीतने का माद्दा रखते हैं लेकिन हम एक टीम के रूप में ईस्ट बंगाल का भी सम्मान करते हैं और वह भी फाइनल जीतना चाहतें होंगे।”

दूसरी ओर, ईस्ट बंगाल भी अपने प्रशंसकों को खिताबी जीत का तोहफा देना चाहेगी। खालिद जमील आईजोल एफसी को 2016-17 सत्र में अप्रत्याशित खिताबी जीत दिलाकर अपनी काबिलियत साबित कर चुके हैं। उनके मार्गदर्शन में ईस्ट बंगाल ने सुपर कप में भी उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन किया है।

मैच से पहले संवाददाता सम्मेलन में खालिद जमील ने कहा, “बेंगलुरू एक अच्छी टीम है लेकिन हमें मैच में सकारात्मक मानसिकता के साथ खेलने की जरूरत है। फाइनल मैच से पहले हमेशा कुछ अलग करने की चाह होती है लेकिन हमें उन्हीें तैयारियों के साथ आगे बढ़ना है जो हम हर मैच से पहले करते हैं। हमें अपना खेल खेलने की आवश्यकता है।”

उन्होंने बेंगलुरू की फारवर्ड लाइन में मौजूद तीन खिलाड़ियों उदांता सिंह, निकोलास फेडोर (मीकू) और सुनील छेत्री के खतरे को भी नकारा।

जमील ने कहा, “सभी इन तीन खिलाड़ियों की बात कर रहे हैं। लेकिन मिडफील्ड में लेनी लेनी रॉड्रिगेस भी शानदार फॉर्म में चल रहे हैं। वह हर डिपार्टमेंट में मजबूत हैं। बेंच पर मौजूद उनके खिलाडी भी दमदार हैं।”

Leave a comment