उरुग्वे खेमे के लिए बुरी ख़बर, आख़िर कोच, ताबारेज़ क्यों चल रहे हैं स्टिक के सहारे

Trending News

Blog Post

FIFA विश्वकप 2018

उरुग्वे की धमाकेदार फॉर्म पर लग सकती है लगाम, आखिर कोच ऑस्कर तबारेज़ क्यों चल रहे हैं स्टिक के सहारे 

उरुग्वे की धमाकेदार फॉर्म पर लग सकती है लगाम, आखिर कोच ऑस्कर तबारेज़ क्यों चल रहे हैं स्टिक के सहारे

उरुग्वे ने अपने तीसरे विश्व कप जीतने की ओर क़दम बढ़ा दिए हैं। पुर्तगाल को हरा इस टीम ने क्वार्टर-फाइनल में प्रवेश पा लिया है। लेकिन टीम के लिए यह बुरी ख़बर आ धमकी है कि कोच, ऑस्कर ताबारेज़ के बीमार होने की ख़बर ने टीम के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी हैं।

गिलन बैरिस्ट्रोल सिंड्रोम से हैं पीड़ित

लेकिन ताबरेज़ क्यों स्टिक के सहारे चल रहे हैं? बता दें कि उन्हें हाथों और पैरों में कमजोरी महसूस हो रही है। यह कमजोरी किसी और वजह से नहीं बल्कि वे गिलन बैरिस्ट्रोल सिंड्रोम से पीड़ित हैं।

इस बीमारी में बॉडी के किसी भी हिस्से की मसल में कम से कम 20%-25% तक कमज़ोरी महसूस होना आम बात है।

इस विश्व कप में सबसे ज्यादा उम्र के कोच

बता दें कि ऑस्कर तबारेज़ की उम्र 71 हो चली है और इस विश्व कप में सबसे ज्यादा उम्र के कोच हैं। यह उनका उरुग्वे की नेशनल टीम के साथ तीसरा विश्व कप है।

2010 में तबारेज़ ने टीम को सैमी-फाइनल तक पहुँचाया था। लेकिन 2014 में उरुग्वे की फॉर्म पर कोलंबिया ने लगाम लगाई, जहाँ राउंड-ऑफ़ 16 मैच में कोलंबिया ने इस टीम पर 2-0 की जीत पाई।

अभी तक खाया है सिर्फ एक गोल

ऑस्कर ताबारेज़ की रणनीतियों को टीम बहुत ही अच्छे तरीके से अमल में ला रही है। ज्ञात हो की अभी तक इस टीम ने इस विश्व कप में एक ही गोल खाया है।

चार मैच खेलने के बाद केवल विपक्षी टीम को एक ही गोल करने देना कोई आम बात नहीं है। टीम लगातार फार्मेशन में बदलाव भी कर रही है। जिससे विपक्षी टीमों को टीम की रणनीति समझने में भी मुश्किल हो रही है।

 

 

Related posts

प्रातिक्रिया दे