हार के बाद शिखर धवन ने खोला राज, ये लोग नहीं चाहते थे कि मैं बनूं कप्तान

Trending News

Blog Post

IPL 2018

हार के बाद शिखर धवन ने खोला राज कहा, ये लोग नहीं चाहते थे, कि मैं बनूं हैदराबाद का कप्तान 

हार के बाद शिखर धवन ने खोला राज कहा, ये लोग नहीं चाहते थे, कि मैं बनूं हैदराबाद का कप्तान

भारतीय टीम के दिग्गज सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने आईपीएल फाइनल मुकाबले में सनराइजर्स हैदराबाद को मिली हार के बाद पहली बार टाइम्स ऑफ इंडिया को इंटरव्यू दिया है। सीएट क्रिकेट रेटिंग के कुछ देर बाद ही शिखर धवन पत्नी आयशा मुखर्जी के साथ बैठे ठंड का अनांद ले रहे थे।

इस दौरान अखबार को दिए गए अपने इंटरव्यू में शिखर धवन ने कहा कि, भारतीय टीम में उनकी एंट्री देर से हुई है। इसलिए बहुत हासिल करने की भूख लगी है।

अच्छा रहा पूरा सीजन

 

जब शिखर धवन से इस आईपीएल सीजन में टीम के प्रदर्शन और हैदराबाद के साथ उनके अनुभव के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि,

‘यह अच्छा था। हमने टूर्नामेंट से पहले कप्तान डेविड वार्नर को खो दिया। फिर केन विलियम्सन आए और उन्होंने एक अच्छे सीजन की शुरूआत की। वह एक अच्छे कप्तान है। हमारे पास भी एक अच्छा सीजन रहा है। फाइनल हम खेले लेकिन परिणाम हमारे पक्ष में नहीं रहे हैं। हम सभी ने अच्छा क्रिकेट खेला और सीजन का आनंद लिया।’

 

कप्तानी के लिए धवन पर हो रहा था विचार

डेविड वॉर्नर को बॉल टेपरिंग में फंसने के बाद सनराइजर्स हैदराबाद की कप्तानी छोड़नी पड़ी थी। इसके बाद ज्यादातर लोग टीम के कप्तान के रूप में शिखर धवन के नाम की चर्चा कर रहे थे। इस बाबत जब शिखर धवन से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि,

‘बेशक, यह वॉर्नर के बिना टीम के लिए बड़ा झटका था। वह इतना बड़ा खिलाड़ी है। कप्तानी के बारे में लोगों द्वारा हमारे नाम की चर्चा की जा रही थी। लेकिन हैदराबाद प्रबंधन ने सोचा कि केन विलियम्सन सही विकल्प है। यह सामान्य है। विलियम्सन एक अनुभवी कप्तान है। वह शांत है और एक परिवार की तरह टीम को हैंडल किया। उसने अद्भूत तरीके से सामना किया।’

 

राशिद खान से खतरा महसूस करते हैं

शिखर धवन से अगल सवाल पूछा गया, कि आपने सनराइजर्स हैदराबाद की टीम में नेट प्रॉक्टिस के दौरान राशिद खान को काफी खेला होगा। आने वाले अफगानिस्तान टेस्ट सीरीज में आप क्या राशिद खान को खतरे के रूप में देखते हैं हैं। जवाब देते हुए शिखर धवन ने कहा कि,

‘बेशक। जब मैंने पहली बार राशिद को खेला तो उससे निपटने में मुश्किल हुई।हालांकि हम उसके खिलाफ खेल सकते हैं। अगर हम प्लेइंग इलेवन में खेलते हैं, तो उसके खिलाफ खेलना एक अच्छी चुनौती होगी। मैं उसके खिलाफ रन बनाने के तत्पर हूं।’

जगह बनाए रखना हर किसी के लिए जरूरी

इस बार टेस्ट टीम में मुरली विजय और केएल राहुल को भी जगह दी गई है। जब उनसे पूछा गया कि क्या कभी भी टेस्ट टीम में अपनी जगह के लिए सुनिश्चित नहीं हैं। ऐसे गुणवत्ता वाले बल्लेबाजों के साथ प्रतिस्पर्धा करना कितना मुश्किल है।

”बिल्कुल हमेशा दबाव होता है। हर टीम में अपनी जगह बनाए रखनी का दबाव होता है। भारतीय क्रिकेट के लिए एक अच्छी बात है कि इतना कंपटीशन है। हम तीनों अनुभवी है। राहुल ने ऑस्ट्रेलिया और आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन किया।”

Related posts

Leave a Reply

Required fields are marked *