भारतीय ग्रीको रोमन पहलवानों ने रियो ओलंपिक के लिये दूसरे और आखिरी विश्व क्वालिफाइंग टूर्नामेंट में खासा निराश किया और कोई भी पहलवान ओलंपिक कोटा हासिल नहीं कर पाया. मुकाबले में उतरे सभी पहलवानों की हालत यह रही कि वे अपनी पहली ही कुश्ती में घुटने टेक गये.

ग्रीको रोमन में इस तरह भारत को रियो ओलंपिक में एक ही कोटे से संतोष करना पड़ेगा जो हरदीप ने एशियन ओलंपिक क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट में 98 किग्रा वर्ग में हासिल किया था. कजाखिस्तान के अस्ताना में हुये पहले विश्व क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट में ग्रीको रोमन का कोई भी पहलवान कोटा हासिल नहीं कर सका था और अब दूसरे और आखिरी विश्व क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट में भी कोई पहलवान कोटा हासिल करना तो दूर अपनी पहली कुश्ती तक नहीं जीत सका.
रविन्दर को 59 किग्रा, सुरेश यादव को 66 किग्रा, रविन्दर खत्री को 85 किग्रा और नवीन को 130 किग्रा वर्ग में हार का सामना करना पड़ा जबकि 75 किग्रा वर्ग में गुरप्रीत सिंह अधिक वजन होने के कारण अयोग्य करार दिये गये. रविन्दर को क्वालिफिकेशन में ओलंपिक रजत पदक विजेता पहलवान जार्जिया के रेवाज लाशखी ने 8-0 से पस्त कर दिया जबकि सुरेश यादव को फ्रांस के आर्तक मरगारयान ने 3-0 से हराया. रविन्दर खत्री को पहले राउंड में बाई मिली लेकिन वह प्री क्वार्टरफाइनल में लिथुआनिया के लैमुतिस एडोमैतिस से 6-10 से शिकस्त खा गये. नवीन को बुल्गारिया के मिलोस्लाव यूरीएव ने 9-0 से धो दिया.

गुरप्रीत ने खासा निराश किया और ज्यादा शारीरिक वजन होने के कारण उन्हें अयोग्य करार दिया. पिछले विश्व क्वालिफायर टूर्नामेंट में भी महिला पहलवान विनेश फोगाट का वजन 400 ग्राम अधिक पाया गया था और उन्हें अयोग्य करार देकर मुकाबले में उतरने नहीं दिया गया. भारतीय कुश्ती महासंघ ने विनेश को इस मामले में चेतावनी देकर छोड़ा था. हालांकि विनेश इस आखिरी क्वालिफायर में अपनी चुनौती पेश करने जा रही हैं.

भारत को अभी तक चार ओलंपिक कोटा हासिल हुये हैं. जिनमें तीन फ्री स्टाइल वर्ग में और एक ग्रीको रेामन वर्ग में है. नरसिंह यादव ने गत वर्ष विश्व चैंपियनशिप में 74 किग्रा में, योगेश्वर दत्त ने एशियाई क्वालिफिकेशन में 65 किग्रा वर्ग में और संदीप तोमर ने पिछले विश्व क्वालिफाइंग टूर्नामेंट में 57 किग्रा वर्ग में ओलंपिक कोटा हासिल किया था जबकि हरदीप ने एशियाई क्वालिफिकेशन में ग्रीको रोमन के 98 किग्रा वर्ग में देश को कोटा दिलाया था.

भारत ने इस आखिरी क्वालिफाइंग टूर्नामेंट में 14 पहलवान उतारे हैं जिनमें ग्रीको रोमन में भारत का अभियान समाप्त हो गया है और अब सभी निगाहें महिला और फ्री स्टाइल पहलवानों पर रहेंगी. महिला पहलवानों में विनेश 48 किग्रा वर्ग में भारत की सबसे बड़ी उम्मीद हैं और फ्री स्टाइल वर्ग में मौसम खत्री की 97 किग्रा वर्ग की दावेदारी को मजबूत माना जा सकता है.



  • SHARE

    Related Articles

    अगर अगले आईपीएल RCB कोहली की जगह इस खिलाड़ी को बना दे कप्तान,तो बदल...

    विराट कोहली की कप्तानी में आरसीबी को एक बार फिर निराशा हाथ लगी। विराट कोहली पिछले आठ साल से आरसीबी के कप्तान हैं। लेकिन...

    पहली बार मैन ऑफ द मैच बनने पर काफी खुश हुए लुंगी एंगीडी, इस...

    चेन्नई सुपर किंग्स ने आईपीएल टूर्नामेंट के 56वें मुकाबले में अपने शानदार प्रदर्शन के दम पर किंग्स इलेवन पंजाब को हराकर प्लेआॅफ से बाहर...

    स्पेनिश लीग : सोसिएदाद के खिलाफ जीत के बाद बार्सिलोना से अलग हुए इनिएस्ता

    बार्सिलोना, 21 मई; स्पेनिश लीग में रियल सोसिएदाद के खिलाफ खेले गए मैच में मिली जीत के बाद कप्तान आंद्रेस इनिएस्ता ने बार्सिलोना क्लब को...

    स्पेनिश लीग : अंतिम मैच में इस्पानियोल ने बिल्बाओ को हराया

    बिल्बाओ (स्पेन), 21 मई; इस्पानियोल ने डेविड लोपेज द्वारा किए गए गोल की मदद से रविवार को यहां खेले गए स्पेनिश लीग के मौजूदा सीजन...

    ग्रुप स्टेज के बाद ये है आईपीएल की बेस्ट प्लेइंग XI, जाने कौन है...

    आईपीएल के 11 वें संस्करण के कल से प्लेऑफ़ के मुकाबले खेले जाने वाले है जिसमें कल पहला मुकाबला सनराइजर्स हैदराबाद और चेन्नई सुपर...