World champion Marikam has decided a long journey from 'Behunar' to 'Excellent Strategist'

नयी दिल्ली, 26 नवंबर: पहली बार ‘हुनर के बिना सिर्फ ताकत के दम पर ’ विश्व चैम्पियनशिप खिताब जीतने वाली एम सी मेरीकोम ने कहा कि अब वह उस मुकाम पर पहुंच गई है कि एक भी पंच गंवाये बिना जीत दर्ज करना चाहती है ।

तीन बच्चों की मां 36 बरस की मेरीकोम ने हाल ही में छठा विश्व चैम्पियनशिप खिताब जीता । यह विश्व चैम्पियनशिप में उनका सातवां पदक है और टूर्नामेंट के दस सत्र के इतिहास में वह सबसे सफल मुक्केबाज बन गई ।

मणिपुर की इस मुक्केबाज ने प्रेस ट्रस्ट से बातचीत में 2001 से अब तक के विश्व चैम्पियनशिप के सफर की यादें ताजा की । अमेरिका में 17 साल पहले रजत पदक के साथ इसका आगाज हुआ था और यहां घरेलू दर्शकों के सामने बीते सप्ताह उसने छठा स्वर्ण जीता ।

मेरीकोम ने कहा ,‘‘ 2001 में मैं युवा और अनुभवहीन थी । कहा जा सकता है कि कोई कौशल नहीं था और सिर्फ दमखम पर निर्भर थी ।’’ 

उन्होंने कहा ,‘‘लेकिन 2018 में मेरे पास इतना अनुभव था कि मैने खुद पर दबाव नहीं बनने दिया । मैं अब पंच खाना नहीं चाहती और उसके बिना ही मुकाबले जीतना चाहती हूं । इस बार वही करने में कामयाब रही । मैं अब सोच समझकर खेलती हूं ।’’ 

इससे पहले 2006 में भी मेरीकोम ने दिल्ली में विश्व चैम्पियनशिप जीती थी लेकिन उस समय उनके आंसू नहीं छलके थे । उस समय वह जमकर मुस्कुराती नजर आई थी लेकिन इस बार तिरंगा लहराते समय और राष्ट्रगीत गाते समय उनके आंसू सभी ने देखे ।

उन्होंने कहा ,‘‘ हो सकता है कि हाइप और दबाव के कारण ऐसा हुआ । उस समय महिला मुक्केबाजी इतनी लोकप्रिय नहीं थी । इस बार मैने देखा के दर्शक दीर्घा से मेरा नाम पुकार रहे हैं । मैं भावविभोर हो गई ।’’ 

मेरीकोम ने कहा ,‘‘ आखिरी दिन लोगों में इतना उत्साह था जिसने मुझे भावनाओं से भर दिया और यही वजह है कि मैं रो पड़ी ।’’ 

तो क्या यह उनका सबसे खास विश्व खिताब है , यह पूछने पर उन्होंने कहा ,‘‘ मेरे कैरियर के सबसे खास पदकों में से है । मैं यह नहीं कह सकती कि कौन सा सबसे खास है क्योंकि हर पदक के लिये मैने काफी मेहनत की है ।’’

उन्होंने कहा ,‘‘ यह सबसे कठिन में से एक था क्योंकि अपेक्षायें बहुत थी । मैने राष्ट्रमंडल खेल में 48 किलो वर्ग में भाग लेकर स्वर्ण जीता था जिसकी वजह से विश्व चैम्पियनशिप में काफी दबाव था ।’’ 

ओलंपिक में 51 किलो भारवर्ग के आने और 48 किलो के बाहर होने के बाद से मेरीकोम दोनों भारवर्ग में खेल रही है । उन्होंने सभी विश्व खिताब 48 किलो में और ओलंपिक कांस्य 51 किलो में जीता था ।

तोक्यो ओलंपिक में उन्हें एक बार फिर क्वालीफायर में 51 किलो में खेलना होगा । उन्होंने कहा ,‘‘ यह आसान नहीं है क्योंकि मैं भी इंसान हूं । इसमें अधिक परिश्रम लगता है लेकिन मैं अपनी ओर से पूरा प्रयास करूंगी ।’’ 

अपनी उपलब्धियों के बारे में मेरीकोम ने कहा ,‘‘ यह सब हासिल करने वाली पहली महिला मुक्केबाज बनकर मैं बहुत खुश हूं । हर किसी के सपने होते हैं और मुझे खुशी है कि मैं अपने सपने पूरे कर सकी ।’’ 

Leave a comment