योगेश्वर को हराने वाले, रेसलर की ब्रोंज़ मैडल जीत का जश्न बदला एक बहुत ही बुरे विरोध प्रदर्शन में

Ajay Pal Singh / 22 August 2016

रियों ओलम्पिक के सभी खेलों में से सबसे आश्चर्यचकित करने वाल पल आख़िरी दिन देखने को मिला जब मंगोलिया के रेसलर और उनके कोचिंग स्टाफ ने ब्रोंज मैडल मैच में हार के बाद विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया. इस विरोध ने वहाँ  मौजूद दर्शकों समेत रेफ़री और बाकी अधिकारीयों को भी अचम्भे में डाल दिया.

मंगोलिया के मंधाकर्नाम ने ओलम्पिक खेलों के आख़िरी दिन भारत के योगेश्वर दत्त को पहले ही राउंड में हरा कर, पुरे भारत की पदक की उमीदों पर पानी फेर दिया. मंधाकर्नाम ने योगेश्वर को राउंड ऑफ़ 32 में 0-3 से हरा कर बाहर कर दिया. लेकिन क्वार्टर फाइनल मुकाबले में वो रूस के सोस्लन रामानोव से हार गए (जो आगे जाकर इस स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीते). इस हार के कारण मंगोलिया के पहलवान को रेप्चेज की बदौलत ब्रोंज मैडल के लिए खेलने का मौका मिला जहाँ उन्होंने कनाडा के पहलवान को आसानी से हरा दिया और पदक के लिए उज्बेकिस्तान के इख्तियोर नवरुज़ोव के साथ मुकाबले में जगह बनाई.

यह भी पढ़े : क्लोजिंग सेरेमनी में भारत को इस ओलिम्पिक का पहला पदक दिलाने वाली साक्षी मलिक बनी भारत की ध्वजावाहक

कांस्य पदक मैच के आख़िरी क्षणों में मंगोलिया के पहलवान ने शानदार खेल दिखाते हुए उज्बेकिस्तान के पहलवान की बराबरी कर ली, और उसके बाद एक गलत चैलेंज के चलते 1 पॉइंट की बढ़त भी प्राप्त कर ली और तब केवल दस सैकेंड का खेल बचा था.

लाल कार्नर में मंगोलिया के पहलवान ने जीत सुनिश्चित सोच कर जश्न में कूदना शुरू कर दिया लेकिन नील कार्नर में उज्बेकिस्तान के पहलवान आख़िरी तीन सैकेंड में भी पॉइंट हासिल करने के लिए कोशिश करते रहे. जैसे ही मैच खत्म होने का हूटर बजा तो मंगोलिया के रेसलर और कोच सभी जीत का जश्न मनाने लगे.

यह भी पढ़े : पहले दौर से हारकर बाहर हुए भारत के स्वर्ण पदक के दावेदार

MANGOLIA WRESTLERलेकिन इसके बाद जो हुआ उससे वहाँ  मौजदू सभी दर्शक नाराज़गी में चिल्ला उठे. उज्बेकिस्तान के पहलवान को पेनल्टी के द्वारा एक पॉइंट दे दिया गया, मंगोलिया के पहलवान के द्वारा आख़िरी क्षणों में खेल को चालू नहीं रखा और विडियो रीप्ले की मदद से उज्बेकिस्तान के रेसलर को एक पॉइंट दे दिया गया.

टाई ब्रेकर के नियमों के अनुसार आख़िरी पॉइंट जीतने की वजह से उज्बेकिस्तान के पहलवान को विजयी करार दिया गया. इस पर मंगोलिया के रेसलर रोते हुए निचे गिर पड़े, और उनके कोच बयोरा ने इस निर्णय का विरोध बेहद शर्मनाक तरीके से किया. पहले वो अंपायर की ओर बढ़े और उनसे अपील की वो अपना निर्णय बदले, जब ऐसा नहीं हुआ तो बयोरा के साथ साथ सोस्त्ब्यार ने भी अंडरवियर को छोड़ कर अपने सभी कपड़े निकल दिए.

PROTEST AT RIOइस विरोध का कोई भी असर अंपायर पर नहीं हुआ, और उन्होंने उज्बेकिस्तान के रेसलर को विजयी करार दिया. बाद में सिक्यूरिटी के लोगों ने मंगोलिया के कोच को बाहर निकाला. रोते हुए मंगोलिया के रेसलर ने रेफ़री की औपचारिक निर्णय में हिस्सा लेने से भी इंकार कर दिया.

यह भी पढ़े : देखें किस तरह ट्विटर पर लोगो ने क्या कहा योगेश्वर की हार को लेकर

Related Topics