रेलवे का महिला हॉकी खिलाड़ियों के साथ दुर्व्यवहार से इनकार

ians / 29 August 2016

नई दिल्ली, 29 अगस्त (आईएएनएस)| भारतीय रेलवे ने सोमवार को उन खबरों को खारिज कर दिया, जिनमें कहा जा रहा था कि बोकारो-अलेप्पी एक्सप्रेस में रांची से राउरकेला को जा रहीं राष्ट्रीय महिला हॉकी टीम की चार खिलाड़ियों को फर्श पर बैठकर सफर करना पड़ा।

भारतीय रेलवे ने सोमवार को एक वक्तव्य जारी कर कहा, “रियो ओलम्पिक में हिस्सा लेकर लौटीं महिला हॉकी खिलड़ियों के रांची से राउरकेला के बीच ट्रेन में फर्श पर बैठकर सफर करने की खबर पूरी तरह गलत है। साथ ही टिकट निरीक्षक (टीटीई) द्वारा खिलाड़ियों को ट्रेन में फर्श पर बैठने पर मजबूर करने की खबर भी झूठी है।”

यह भी पढ़े : रियो ओलम्पिक से वापस लौटे खिलाड़ियों के साथ भारतीय रेलवे ने की बदसलूकी

रेलवे ने अपने बयान में कहा है कि रियो ओलम्पिक दल का हिस्सा रहीं दीप ग्रेस एक्का, नमिता टोप्पो, सुनीता लाकड़ा और लिलिमा मिंज रांची हवाईअड्डे से रेलवे स्टेशन पहुंचीं और भारतीय रेलवे को बिना कोई सूचना दिए ट्रेन में बैठ गईं।

वक्तव्य के अनुसार, “हालांकि वेटिंग टिकटों के साथ सफर कर रहीं खिलाड़ियों को टिकट निरीक्षक ने 20 मिनट के अंदर सीट मुहैया करा दी।”

ओडिशा की रहने वाली चारों महिला हॉकी खिलाड़ी रेलवे में कर्मचारी भी हैं तथा अपने परिवार वालों से मिलने की जल्दी में उन्होंने निर्धारित कार्यक्रम से पहले ही यह सफर किया।

यह भी पढ़े : धोनी ने कहा जल्द टेस्ट की नंबर 1 टीम बनेगी टीम इंडिया

वक्तव्य में कहा गया है कि चारों महिला खिलाड़ियों को रेलवे से कोई शिकायत नहीं है, जिससे उन्होंने रेलवे अधिकारियों को लिखकर सूचित कर दिया है।