क्रिकेट के अलावा दूसरे खेलों पर भी ध्यान दें कॉर्पोरेट घराने: अभिनव बिंद्रा

Trending News

Blog Post

Sports news

क्रिकेट के अलावा दूसरे खेलों पर भी ध्यान दें कॉर्पोरेट घराने: अभिनव बिंद्रा 

क्रिकेट के अलावा दूसरे खेलों पर भी ध्यान दें कॉर्पोरेट घराने: अभिनव बिंद्रा

ओलंपिक में भारत की तरफ से एकमात्र व्यकिगत स्वर्ण पदक जीतने वाले खिलाड़ी अभिनव बिंद्रा का कहना है कि क्रिकेट के पास अब काफी पैसा आ गया है और इसी वजह से अब कॉर्पोरेट घरानों को जरूरत है कि वह दूसरे खेलों पर भी ध्यान दें। 2008 बीजिंग ओलंपिक के निशानेबाजी में स्वर्ण पदक पर कब्जा करने वाले बिंद्रा ने रियो ओलंपिक के बाद संन्यास की घोषणा कर दी थी।

ओलंपिक पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत 

एक कार्यक्रम में बात करते हुए उन्होंने कहा कि कहा “मुझे लगता है भारतीय खेल को बदलाव की जरूरत है। कॉर्पोरेट घरानों को जरूरत है कि वह क्रिकेट के अलावा दूसरे खेलों पर भी निवेश करें क्योंकि ओलंपिक खेलों को बढ़ावा देने की जरूरत है।

अमेरिका का दिया उदाहरण 

10 मीटर एयर रायफल स्पर्धा में 2008 बीजिंग ओलंपिक के स्वर्ण पदक विजेता ने यहां अमेरिका का उदाहरण देते हुए बताया कि अमेरिका में ओलंपिक समिति को सरकार से कोई सब्सिडी नहीं मिलती बल्कि उन्हें सारे पैसे कॉर्पोरेट घरानों से मिलते हैं। इसीलिए भारत और अमेरिका में चीजें अलग है। आपको बताते चले कि अमेरिका ओलंपिक इतिहास का सबसे सफल देश है।

क्रिकेट के अलावा दूसरे खेलों पर भी ध्यान दें कॉर्पोरेट घराने: अभिनव बिंद्रा 1

खेल शासन में बदलाव की जरूरत 

इसके साथ ही पांच बार के ओलंपियन ने के खेल के शासन में भी बदलाव लाने की बात की। उन्होंने कहा “मुझे लगता है देश में खेल शासन में बदलाव की जरूरत है। सुशासन की जरूरत है। बदलाव तभी होगा जब वह अनिवार्य हो जाएगा। मुझे लगता है कि उस क्षेत्र में काम हो रहा है। इसके लिए राजनीतिक इच्छाशक्ति की जरूरत है और ऐसा होने पर, इससे भारतीय खेलों को बड़ा प्रोत्साहन मिलेगा।

आपको पता हो कि भारतीय क्रिकेट कण्ट्रोल बोर्ड दुनिया की सबसे धनी बोर्ड है और आईपीएल की वजह से उनकी कमाई काफी बढ़ गयी है। बोर्ड अपने खिलाड़ियों को भी काफी पैसे देता है।

वहीं दूसरे खेले की बात करें तो आज भी भारत उनमें काफी पिछड़ा हुआ है। खिलाड़ियों को अभ्यास की सुविधा भी नहीं मिल पाती। 2012 ओलंपिक में भारत ने 6 मेडल जीतकर उम्मीद जगाई थी लेकिन 2016 ओलंपिक में वह सिर्फ 2 मेडल पर सिमट कर रह गया। इसी वजह से अभिनव बिंद्रा को यह बात बोलनी पड़ी।

Related posts

Leave a Reply