बैडमिंटन:किदाम्बी श्रीकांत ने आसानी से किया जापान ओपन के क्वार्टरफाइनल में प्रवेश

Trending News

Blog Post

Sports news

बैडमिंटन: किदाम्बी श्रीकांत, जापान ओपन के क्वार्टरफाइनल में 

बैडमिंटन: किदाम्बी श्रीकांत, जापान ओपन के क्वार्टरफाइनल में

टॉप सीडेड भारतीय पुरुष शटलर, किदाम्बी श्रीकांत ने जापान ओपन के क्वार्टरफाइनल में जगह बना ली है। उन्होंने हाँग-काँग के वोंग विंग की विन्सेंट पर केवल 36 मिनट में जीत हासिल की।

वहीँ दूसरे भारतीय शटलर, एच.एस प्रणय को अपना अगला मुक़ाबला, इंडोनेशिया के एन्थनी सिनीसुका के खिलाफ़ खेलना है। जापान ओपन में भारतीयों का प्रदर्शन, डबल्स मुकाबलों में बेहद ही ख़राब रहा है।

पहले मूमेंट से ही बनाए रखी बढ़त

बैडमिंटन: किदाम्बी श्रीकांत, जापान ओपन के क्वार्टरफाइनल में 1

हालाँकि श्रीकांत, ख़राब फ़ॉर्म से जूझ रहे हैं, लेकिन क्वार्टरफाइनल में प्रवेश पाकर उन्होंने दिखा दिया कि वो एक बार फिर से कम से कम टॉप थ्री में जगह बनाने को लेकर कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

हालाँकि श्रीकांत के लिए जीत उतनी आसान नहीं रही, जितनी उम्मीद की जा रही थी। दोनों के बीच लम्बी रैलियां भी खेली गयीं। लेकिन आख़िरी क्षणों में श्रीकांत ने लगातार चार पॉइंट स्कोर कर, हाँग-काँग के खिलाड़ी को बैकफ़ुट पर धकेल दिया, यहीं से उन्होंने सेट 21-15 से अपने नाम किया।

दूसरा सेट जीत, श्रीकांत ने पक्की की जीत

बैडमिंटन: किदाम्बी श्रीकांत, जापान ओपन के क्वार्टरफाइनल में 2

दूसरे सेट में दोनों ही खिलाड़ियों की तरफ़ से एक-एक पॉइंट के लिए कड़ा मुक़ाबला देखने को मिला। दोनों ही शटलरों ने कई बार अपने विपक्षी की सर्विस ब्रेक की। जैसे-जैसे सेट आगे बढ़ा, श्रीकांत ने लय पकड़नी शुरू की।

सेट के पहले हाफ़ तक, किदाम्बी श्रीकांत, 11-5 से आगे चल रहे थे। उन्होंने सेट के आख़िर तक यह लय नहीं खोयी और सेट बड़ी ही आसानी से 21-14 से अपने नाम किया।

सेमीफाइनल के लिए कोरियाई खिलाड़ी से होगा मुक़ाबला

बैडमिंटन: किदाम्बी श्रीकांत, जापान ओपन के क्वार्टरफाइनल में 3

बैडमिंटन वर्ल्ड चैंपियनशिप 2018 में श्रीकांत, क्वार्टरफाइनल तक का सफ़र भी तय नहीं कर सके थे। इसीलिए उन पर इस सुपर-750 टूर्नामेंट में दबाव होना लाज़िमी सी बात है।

उन्हें अब सेमीफाइनल में जगह बनाने के लिए, कोरियाई खिलाड़ी, ली डोंग कियून से भिड़ना है। जो हमवतन, सोन वान हो को सीधे सेटों में उलटफेर का शिकार बना, यहाँ तक पहुंचे हैं।

Related posts

Leave a Reply