आस्ट्रेलियन ओपन : सेरेना बाहर, जोकोविक और प्लिस्कोवा सेमीफाइनल में 1

मेलबर्न, 23 जनवरी: वर्ल्ड नंबर-1 पुरुष टेनिस खिलाड़ी सर्बिया के नोवाक जोकोविक ने अपने विजयी क्रम को जारी रखते हुए आस्ट्रेलियन ओपन के पुरुष एकल वर्ग के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। महिलाओं में हालांकि खिताब की प्रबल दावेदार मानी जा रही अमेरिका की सेरेना विलियम्स चेक गणराज्य की कैरोलिना प्लिस्कोवा से हार कर टूर्नामेंट से बाहर हो गईं। पुरुष एकल वर्ग में भी एक उलटफेर देखने को मिला जब वर्ल्ड नंबर-30 फ्रांस के लुकास पाउइले ने वर्ल्ड नंबर-17 कनाडा के मिलोस राओनिक को बाहर कर दिया।

जोकोविक ने अपने सातवें आस्ट्रेलियन ओपन खिताब की ओर एक और कदम बढ़ा दिया है। उन्हें सेमीफाइनल में प्रवेश हालांकि अपने प्रतिद्वंद्वी जापान के केई निशिकोरी के चोटिल होने के बाद मिला।

निशिकोरी जब रिटायर्ड हर्ट हुए तब वह 1-6, 1-4 से पीछे थे। जोकोविक जिस अंदाज में खेल रहे थे उससे उनका सेमीफाइनल में जाना तय लग रहा था। निशिकोरी की जांघ में चोट लगी थी और इसी कारण वह ज्यादा देर कोर्ट पर टिक नहीं सके और मैच को बीच में ही छोड़ गए।

जोकोविक ने आखिरी बार 2016 में आस्ट्रेलियन ओपन का खिताब अपने नाम किया था। सेमीफाइनल में उनके सामने फ्रांस के लुकास पाउइले की चुनौती होगी जिन्होंने कनाडा के मिलोस राओनिक को मात देकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया है।

पाउइले ने अपने से ज्यादा रैंक वाले राओनिक को मात दे न सिर्फ उलटफेर किया बल्कि पहली बार इस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में कदम रखा है।

पाउइले ने राओनिक को चार सेटों तक चले क्वार्टर फाइनल मुकाबले में 7-6(7-4), 6-3, 6-7(2-6), 6-4 से मात दे सेमीफाइनल में स्थान पक्का किया।

पहले दो सेट हारने के बाद राओनिक ने वापसी की और तीसरा सेट अपने नाम किया लेकिन पाउइले ने चौथा सेट जीत सेमीफाइनल में प्रवेश किया। यह मैच तीन घंटे दो मिनट तक चला।

पाउइले ने इस मैच में 14 ऐस लगाए तो वहीं राओनिक ने 25 ऐस मारे। राओनिक ने 34 अनफोसर्ड एरर की जबकि पाउइले ने 24 अनफोसर्ड एरर कीं।

इस साल पाउइले ने पहली बार आस्ट्रेलियन ओपन के पहले दौर से आगे का सफर तय किया है। 2014 से लगातार इस टूर्नामेंट में शिरकत करते आ रहे पाउइले हर बार पहले राउंड से ही बाहर हो जाते थे।

सेमीफाइनल में उनके सामने इस टूर्नामेंट की अभी तक की सबसे बड़ी और हार्ड कोर्ट के बादशाह कह जाने वाले जोकोविक की चुनौती होगी।

वहीं महिला वर्ग में भी एक उलटफेर देखने को मिला। अमेरिका की 37 साल दिग्गज सेरेना को वर्ल्ड नंबर-7 प्लिस्कोवा ने 6-4, 4-6, 7-5 से हराकर बाहर का रास्ता दिखाया। ऐसे में सेरेना अपने 24वें ग्रैंड स्लैम को हासिल करने के लक्ष्य से चूक गईं। वहीं प्लिस्कोवा पहली बार इस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पहुंचने में सफल रही हैं। वह दूसरी बार किसी ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में जगह बना पाई हैं।

इससे पहले उन्होंने 2017 में फ्रेंच ओपन के सेमीफाइनल में कदम रखा था। अपने पहले ग्रैंड स्लैम के रास्ते में उन्हें जापान की नाओमी ओसाका का सामना करना पड़ेगा।

ओसाका ने महिला एकल वर्ग के क्वार्टर फाइनल में यूक्रेन की एलीना स्वितोलीना को सीधे सेटों में 6-4, 6-1 से हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई। ओसाका भी पहली बार आस्ट्रेलियन ओपन के सेमीफाइनल में पहुंची हैं।

ओसाका के नाम हालांकि एक ग्रैंड स्लैम है जो उन्होंने पिछले साल अमेरिकी ओपन के रूप में जीता था। अमेरिकी ओपन से पहले ओसाका किसी भी ग्रैंड स्लैम के क्वार्टर फाइनल तक भी नहीं पहुंची थी।